विज्ञापन
Home » Economy » GSTGovt extended gstr9 filing due date

इन ऐप्स के जरिए फाइल कर सकते हैं सालाना रिटर्न GSTR-9, कारोबारियों को नहीं होगी परेशानी

जीएसटी की पहली सालाना रिटर्न जीएसटीआर-9 31 मार्च 2019 तक जानी है।

Govt extended gstr9 filing due date

GSTR-9 filing गुड्स और सर्विस टैक्स (जीएसटीकी पहली सालाना रिटर्न जीएसटीआर-9 31 मार्च 2019 तक जानी है। अगर टैक्सपेयर्स को रिटर्न के फॉरमेंट या फाइलिंग को लेकर दिक्कतें पेश आ रही है तो इन ऐप की मदद से रिटर्न फाइल कर सकते हैं। कारोबिरयों के लिए फाइलिंग आसान बनाने के लिए कंपनियां सॉफ्टवेयर और ऐप लेकर आई हैं जिसकी मदद से जीएसटी रिटर्न आसानी से फाइल की जा सकती है।

नई दिल्ली। गुड्स और सर्विस टैक्स (जीएसटी) की पहली सालाना रिटर्न जीएसटीआर-9 31 मार्च 2019 तक जानी है। अगर टैक्सपेयर्स को रिटर्न के फॉरमेंट या फाइलिंग को लेकर दिक्कतें पेश आ रही है तो इन ऐप की मदद से रिटर्न फाइल कर सकते हैं। कारोबिरयों के लिए फाइलिंग आसान बनाने के लिए कंपनियां सॉफ्टवेयर और ऐप लेकर आई हैं जिसकी मदद से जीएसटी रिटर्न आसानी से फाइल की जा सकती है।

 

मार्ग ERP 9+

 

अकाउंटिंग सॉफ्टवेयर बनाने वाली कंपनी मार्ग के एमडी सुधीर सिंह ने moneybhaskar.com को बताया कि उनके जीएसटी अकाउंटिंग सॉफ्टवेयर ERP 9+ में आपके कंप्युटर पर सेव डाटा को इंपोर्ट कर इन्वॉइस बना सकते हैं। सिस्टम पर बनाई रिटर्न को अपलोड करने से पहले अपने चार्टेड अकाउंटेंट के पास भेजकर क्रॉस चेक भी कर सकते हैं।

 

टैली

 

ये जीएसटी सॉफ्टवेयर टैली ने बनाया है। टैली ने ये ऐप जीएसटी में ट्रान्जेक्शन और जीएसटी कॉम्पलाएंस को आसान बनाने के लिए बनाया है। ये सॉफ्टवेयर आप सभी तरह के कारोबार में इस्तेमाल कर सकते हैं। इस सॉफ्टवेयर के जरिए ट्रेडर्स और कारोबारी अपना इन्वॉइस, प्रिंटिंग और फाइलिंग कर सकते हैं। ये सॉफ्टवेयर एरर रोकने का भी काम करता है। ये सॉफ्टवेयर एरर ढूंढने, रोकने और करेक्ट करने में मदद करता है।

 

सीबीईसी जीएसटी ऐप

 

सेंट्रल बोर्ड ऑफ एक्साइज और कस्टम ने भी जीएसटी ऐप लॉन्च किया है जिसके जरिए टैक्सपेयर्स जीएसटी रिटर्न फाइल कर सकते हैं। इस ऐप पर टोल फ्री नंबर, विडियो, जीएसटी से जुड़ी जानकारी दी गई है। ये ऐप टैक्सपेयर्स को जीएसटी में माइग्रेट होने में भी मदद करता है। यहां टैक्सपेयर्स अपने कन्फ्यूजन को ई-मेल के जरिए पूछकर भी समझ सकते हैं। ये ऐप अभी एंडरॉएड प्लेटफॉर्म पर ही मौजूद है।

 

क्लीयर टैक्स जीएसटी

 

क्लीयर टैक्स ने जीएसटी में रिटर्न फाइल करने के लिए सॉफ्टवेयर डेवलप किया है। इस सॉफ्यवेयर के जरिए कारोबारी रिटर्न फाइल कर सकते हैं। साथ ही एक्सपर्ट के जरिए ट्रेनिंग भी ले सकते हैं। इस ऐप में कारोबारियों के लिए जीएसटी कैलकुलेटर भी है।

 

वन सॉल्युशन्स

 

टैक्स और कॉरपोरेट लॉ में देश के बड़े पब्लिशर में से एक टैक्समैन ने जीएसटी के लिए ‘वन सॉल्यूशन’ ऐप बनाया है। इसके जरिए जीएसटी के साथ इंकम टैक्स कॉम्पलाएंस भी कर सकते हैं।

 

जोहो बुक्स

 

जोहो बुक्स ऑनलाइन जीएसटी अकाउंटिंग सॉफ्टवेयर है जिसके जरिए ट्रेडर्स, कारोबारी और टैक्सपेयर्स अकाउंटिंग और जीएसटी रिटर्न फाइल कर सकते हैं। ये क्लाउड बेस्ड सॉफ्टवेयर है, जिसे किसी भी डिवाइस से एक्सेस किया जा सकता है।

 

एचक्यू फार्मा स्मार्ट

 

एचक्यू फार्मा स्मार्ट डिजिटल हेल्थकेयर प्लेटफॉर्म स्पेशली दवाई की दुकानों को सोचकर बनाया गया ऐप है। ये क्लाउड बेस्ड सॉफ्टवेयर है। इससे दवाई की दुकानों को अपनी अकाउंटिंग सिस्टम और बिलिंग को जीएसटी में बदलने में आसानी होगी। ये सॉफ्टवेयर वेबसाइट पर उपलब्ध है। ये एंडरॉएड मोबाइल और टैब पर काम करेगा।

 

लीगल रास्ता

 

लीगल रास्ता की वेबसाइट पर जाकर सॉफ्टवेयर डाउनलोड कर सकते हैं। इस सॉफ्टवेयर के जरिए आप जीएसटी रिटर्न फाइल कर सकते हैं।

 

सालाना पैकेज पर मिल रही है सर्विस

 

जीएसटी रिटर्न फाइल करने के लिए कारोबारियों इन सॉफ्टवेयर के जरिए 2,500 रुपए से लेकर 5,000 रुपए सालाना के पैकेज पर सॉफ्टवेयर डाउनलोड और रिटर्न फाइल कर सकते हैं।

 

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss