बिज़नेस न्यूज़ » Economy » GST60% सेज एक्सपोर्टर्स के GST रिफंड अटके, 3500 से ज्यादा यूनिट्स पर असर

60% सेज एक्सपोर्टर्स के GST रिफंड अटके, 3500 से ज्यादा यूनिट्स पर असर

जीएसटी लागू होने के नौ महीने बाद भी सेज और एक्सपोर्ट ओरिएंटेड यूनिट्स की अभी भी परेशानी बनी हुई।

1 of

नई दिल्ली। जीएसटी लागू होने के नौ महीने बाद भी सेज और एक्सपोर्ट ओरिएंटेड यूनिट्स की अभी भी परेशानी बनी हुई। कारोबारी रिफंड की प्रॉब्लम, जीएसटी को लेकर ग्राउंड लेवल पर कन्फ्यूजन सहित जीएसटी कानून में खामियों के कारण दिक्‍कतों से जूझ रहे हैं। सरकार भी अब कारोबारियों की समस्या को दूर करने की तैयारी में हैं। इस संबंध में बुधवार को सेज और ईओयू कारोबारियों के बीच फाइनेंस मिनिस्ट्री के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक भी हुई है।

 

सेज यूनिट्स और जीएसटी वरिष्ठ अधिकारियों की हुई मीटिंग

 

सेज यूनिट्स की बढ़ती समस्याओं को के कारण एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल फॉर ईओयू (एक्सपोर्ट ऑरिएंटेड यूनिट) और सेज (स्पेशल इकोनॉमिक जोन) के अधिकारियों और जीएसटी के वरिष्ठ अधिकारियों की मीटिंग हुई। उन्होंने मीटिंग में जीएसटी से जुड़ी समस्याओं को रखा जिमसें अधिकारियों ने मदद का आश्वासन दिया है।

 

GST रिफंड मिलने में अड़चन

 

एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल फॉर ईओयू और सेज के चेयरमैन विनय शर्मा ने moneybhaskar.com को बताया कि 60 फीसदी से ज्यादा जीएसटी रिफंड अभी अटके हुए हैं। इसकी वजह से उनको वर्किंग कैपिटल की समस्या सबसे ज्यादा हो रही है। सरकार मार्च 2018 तक करीब 17,616 करोड़ रुपए का रिफंड एक्सपोर्टर्स को कर चुकी है। एक्सपोर्टर्स को आईजीएसटी रिफंड से ज्यादा समस्या स्टेट जीएसटी रिफंड से हैं क्योंकि वहां के अटके रिफंड नहीं मिल रहे हैं।

 

जीएसटी रिफंड क्लेम में सेज को नहीं किया शामिल

 

सेज यूनिट को सप्लाई करना जीरो रेटेड में आता है। यानी, सेज यूनिट को सप्लाई करने वाला सप्लायर लीगल अंडरटेकिंग (एलयूटी) के जरिए सप्लाई कर सकता है लेकिन उसके लिए उसे आईजीएसटी पे करने की जरूरत नहीं हैं। अगर वह एलयूटी के जरिए सप्लाई नहीं करते और आईजीएसटी पे करते हैं, तो उसे उसका रिफंड मिल सकता है। ज्यादातर सप्लायर एलयूटी या रिफंड प्रोसेस की जगह सेज यूनिट से इन्वॉइस से जीएसटी चार्ज करते हैं। जो सेज के लिए कॉस्ट बन जाती है लेकिन जीएसटी कानून में सेज के सप्लायर को दिए जीएसटी के रिफंड क्लेम का कोई ऑप्शन ही नहीं है। जीएसटी अधिकारियों ने इसे शामिल करने का आश्वासन कारोबारियों को दिया है।

 

एनएसडीएल, जीएसटी पोर्टल लिंक नहीं होने से कारोबारी परेशानी

 

अभी सभी सेज यूनिट को अपने डेटा एनएसडीएल पोर्टल पर सबमिट करना होता है और उसके बाद यही जानकारी जीएसटी पोर्टल अलग से दोबारा सबमिट करनी पड़ती है। सेज एक्सपोर्ट एसोसिएशन के अनुसार सरकार एनएसडीएल और जीएसटी पोर्टल को आपस में लिंक करे ताकि कारोबारियों का समय और कॉम्पलाएंस का खर्च कम हो क्योंकि उनका दो बार रिटर्न फाइल करने के करने के कारण अकाउंटिंग खर्च बढ़ गया है।

 

थर्ड पार्टी एक्सपोर्ट को नहीं मिल रहा है सेज का फायदा

 

सेज एक्सपोर्टर्स को थर्ड पार्टी एक्सपोर्ट करने पर सेज बेनेफिट मिले। सेज यूनिट का कहना है कि अगर कोई एक्सपोर्टर सेज यूनिट को ऑर्डर पूरा करने के लिए मैन्युफैक्चरिंग ऑर्डर देता है और सेज यूनिट उस स्टॉक को सीधे पोर्ट पर पहुंचाता है तो उसे अभी इस पर आईजीएसटी पे करना पड़ता है जबकि ऐसा नहीं होना चाहिए क्योंकि सेज यूनिट एक्सपोर्ट कर रही है। सरकार सेज यूनिट को थर्ड पार्टी एक्सपोर्ट करने की इजाजत बिना आईजीएसटी पे किए करने के लिए दे। इस पर अधिकारियों ने बदलाव करने का आश्वासन दिया है।

 

 

आगे पढ़ें - सेज एक्सपोर्टर्स की क्या हैं मांगें..

 

जीएसटी पोर्टल पर है टेक्निकन प्रॉबल्म

 

 

जीएसटी पोर्टल पर सेज स्टेट्स अपडेट जल्द से जलद हो। देश के 221 सेज में काम कर रही हजारों कारोबारियों के सामने जुलाई 2017 से स्टेट्स अपडेशन की प्रॉब्लम आ रही थी। जीएसटीएन पोर्टल उन्हें सेज में काउंट नहीं करके रेग्युलर यूनिट के तौर पर काउंट कर रहा है जिसके कारण वहे सेज के बेनेफिट का फायदा नहीं उठा पा रहे हैं। कारोबारियों ने स्पेशल इकोनॉमिक जोन (सेज) का ऑप्शन लिया था, वह उनके अकाउंट में शो ही नहीं कर रहा था। जिन कारोबारियों ने सेज का ऑप्शन नहीं लिया था उनके अकाउंट में सेज ऑप्शन दिखा रहा था। जीएसटी पोर्टल की ऐसी टेक्निकल समस्या के कारण कारोबारियों को सरकारी दफ्तरों के चक्कर लगाने पड़ रहे हैं।

6,000 से अधिक है सेज एक्सपोर्ट यूनिट

 

साल 2017-18 में 204 सेज में कारोबार बीते साल 2016-17 की तुलना में 18 फीसदी बढ़ा है। सेज से सॉफ्टवेयर एक्सपोर्ट में 17 फीसदी की बढ़ोतरी हुई। सेज यूनिट से कुल एक्सपोर्ट 5.51 करोड़ करोड़ रुपए का एक्सपोर्ट हुआ है जो कि बीते साल 4.68 करोड़ रुपए था। सेज के तहत 6,000 से अधिक सेज यूनिट है।

 

 

 

 

 

 

 

 


 

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट