बिज़नेस न्यूज़ » Economy » GSTGST और नोटबंदी की वजह से बढ़ी टैक्‍सपेयर्स की संख्‍या, भारत ने UN को दी जानकारी

GST और नोटबंदी की वजह से बढ़ी टैक्‍सपेयर्स की संख्‍या, भारत ने UN को दी जानकारी

भारत ने यूनाइटेड नेशन को बताया है कि देश में गुड्स एंड सर्विसेज टैक्‍स और नोटबंदी के कारण 18 लाख से ज्‍यादा लोगों को इनक

GST and demonetisation brought 18 lakh more people into IT

नई दिल्‍ली.. भारत ने यूनाइटेड नेशन को बताया है कि देश में गुड्स एंड सर्विसेज टैक्‍स और नोटबंदी के कारण 18 लाख से ज्‍यादा लोगों को इनकम टैक्‍स नेटवर्क में लाया गया है। 
मिनिस्‍ट्री ऑफ एक्‍सर्टनल अफेयर्स के एडीशनल सेक्रेटरी गितेश शर्मा ने ECOSOC फोरम को संबोधित करते हुए कहा कि भारत वर्तमान में रिफॉर्म के दौर से गुजर रहा है। हमने कई ऐसे फैसले लिए हैं जिससे इकोनॉमी में सुधार हो रहा है। 


नोटबंदी और जीएसटी का असर 
उन्‍होंने कहा कि नोटबंदी के जरिए डिजिटल ट्रांजेक्‍शन को बढ़ावा देने के अलावा देश में वन नेशन, वन टैक्‍स जीएसटी को लागू किया गया। उन्‍होंने कहा कि इससे इनडायरेक्‍ट टैक्‍सपेयर्स की संख्‍या में 50 फीसदी का इजाफा हुआ है। 

 

18 लाख से ज्‍यादा लोगों को जोड़ा गया


उन्‍होंने फोरम में कहा, नोटबंदी और जीएसटी की वजह से 18 लाख से ज्‍यादा लोगों को इनकम टैक्‍स नेटर्वक में जोड़ा गया है। उन्‍होंने आगे कहा कि‍ भारत विश्व व्यापार के मौलिक सिद्धांतों पर अपने स्टैंड पर कायम है।  उन्‍होंने साथ ही क‍हा कि विकास के नए सोर्सेज के उभरने के साथ वैश्विक आर्थिक सुधार धीरे-धीरे बढ़ रहा है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट