टैक्स रिटर्न फाइल करने में हुई देरी से सरकार ने कमाए इतने हजार करोड़ रुपए, वित्त मंत्रालय ने जारी किया डाटा

GST filing late fee: 2017 में 1 जुलाई से जीएसटी लागू होने के बाद से 4, फरवरी 2019 के केंद्र सरकार ने गुड्स एंड सर्विस टैक्स (GST) रिटर्न फाइल करने वालों से लेट फीस के तौर पर 4,172 करोड़ रुपए कमाए हैं। यह आंकड़ा वित्त मंत्रालय ने जारी किया है। जीएसटी रिटर्न फाइल करने में देर होने पर सेंट्रल जीएसटी (CGST) और स्टेट जीएसटी (SGST) में रोजाना के हिसाब से 25 रुपए लगते हैं। 

Money Bhaskar

Feb 12,2019 05:12:00 PM IST

नई दिल्ली.

2017 में 1 जुलाई से जीएसटी लागू होने के बाद से 4, फरवरी 2019 के केंद्र सरकार ने गुड्स एंड सर्विस टैक्स (GST) रिटर्न फाइल करने वालों से लेट फीस के तौर पर 4,172 करोड़ रुपए कमाए हैं। यह आंकड़ा वित्त मंत्रालय ने जारी किया है। जीएसटी रिटर्न फाइल करने में देर होने पर सेंट्रल जीएसटी (CGST) और स्टेट जीएसटी (SGST) में रोजाना के हिसाब से 25 रुपए लगते हैं। हालांकि जिन बिजनेस को रिटर्न फाइल करना पड़ता है लेकिन उनकी टैक्स देनदारी जीरो है, उन्हें CGST और SGST के तहत 10 रुपए प्रतिदिन के हिसाब से फाइन देना पड़ता है।

GST कलेक्शन (करोड़ रुपए में)

महीना वित्त वर्ष 2017-18 वित्त वर्ष 2018-19
अप्रैल -- 1,03,459
मई -- 94,016
जून -- 95,610
जुलाई -- 96,483
अगस्त 95,733 93,960
सितंबर 94,064 94,442
अक्टूबर 93,333 1,00,710
नवंबर 83,780 97,637
दिसंबर 84,314 94,726
जनवरी 89,825 1,02,503
फरवरी 85,962 --
मार्च 92,167 --
औसत 89,885 97,555

X
COMMENT

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.