Advertisement
Home » Economy » GSTGovt collected Rs 4,172 In Late Filing Of GST Return Since Its Launch

टैक्स रिटर्न फाइल करने में हुई देरी से सरकार ने कमाए इतने हजार करोड़ रुपए, वित्त मंत्रालय ने जारी किया डाटा

यह आंकड़ा 1 जुलाई 2017 से 4 फरवरी 2019 तक का है

1 of

नई दिल्ली.

2017 में 1 जुलाई से जीएसटी लागू होने के बाद से 4, फरवरी 2019 के केंद्र सरकार ने गुड्स एंड सर्विस टैक्स (GST) रिटर्न फाइल करने वालों से लेट फीस के तौर पर 4,172 करोड़ रुपए कमाए हैं। यह आंकड़ा वित्त मंत्रालय ने जारी किया है। जीएसटी रिटर्न फाइल करने में देर होने पर सेंट्रल जीएसटी (CGST) और स्टेट जीएसटी (SGST) में रोजाना के हिसाब से 25 रुपए लगते हैं। हालांकि जिन बिजनेस को रिटर्न फाइल करना पड़ता है लेकिन उनकी टैक्स देनदारी जीरो है, उन्हें CGST और SGST के तहत 10 रुपए प्रतिदिन के हिसाब से फाइन देना पड़ता है।

 

GST कलेक्शन (करोड़ रुपए में)

 

महीना वित्त वर्ष 2017-18 वित्त वर्ष 2018-19
अप्रैल -- 1,03,459
मई -- 94,016
जून -- 95,610
जुलाई -- 96,483
अगस्त 95,733 93,960
सितंबर 94,064 94,442
अक्टूबर 93,333 1,00,710
नवंबर 83,780 97,637
दिसंबर 84,314 94,726
जनवरी 89,825 1,02,503
फरवरी 85,962 --
मार्च 92,167 --
औसत 89,885 97,555

 

 

कम रह जाएगा जीएसटी कलेक्शन

द इंडियन एक्सप्रेस में छपी खबर के मुताबिक 27 दिसंबर, 2018 तक जीएसटी के तहत 1,17,48,408 टैक्सपेयर्स रजिस्टर्ड थे। इसमें 60,73,574 टैक्सपेयर्स पहले से मौजूद थे, जिन्होंने खुद को जीएसटी में शिफ्ट कर लिया था। बाकि 56,74,834 नए टैक्सपेयर्स हैं। 2018-19 में डायरेक्ट टैक्सेज से आने वाला राजस्व बजट लक्ष्य से 50,000 करोड़ रुपए ज्यादा होने का अनुमान है। जबकि जीएसटी के तहत टैक्स कलेक्शन बजट लक्ष्य से 1 लाख करोड़ रुपए से कम रह गया है। अब 2018-19 के लिए जीएसटी कलेक्शन का रिवाइज्ड लक्ष्य 6.44 लाख करोड़ रुपए रखा गया है।

इस साल बढ़ा है औसत मासिक कलेक्शन

जीएसटी कलेक्शन अभी तक अनुमान से कम ही रहा है, लेकिन पिछले वित्त वर्ष के मुकाबले मौजूदा वित्त वर्ष में औसत कलेक्शन बेहतर हुए हैं। 2018-19 में जनवरी तक का औसत मासिक कलेक्शन 97,555 करोड़ रुपए रहा है, जबकि पिछले साल का औसतन मासिक कलेक्शन 89,995 करोड़ रुपए रहा था।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement