Home » Economy » GSTFinMin to move to cash basis accounting for GST collection

जीएसटी कलेक्‍शन के लिए कैश आधारित लेखा प्रणाली अपनाएगी फाइनेंस मिनिस्‍ट्री

वास्तविक रेवेन्‍यू प्राप्ति में किसी तरह के अंतर को दुरुस्त करने के लिए फाइनेंस मिनिस्‍ट्री अब गुड्स एंड सर्विसेज टैक्‍

FinMin to move to cash basis accounting for GST collection

नई दिल्‍ली। वास्तविक रेवेन्‍यू प्राप्ति में किसी तरह के अंतर को दुरुस्त करने के लिए फाइनेंस मिनिस्‍ट्री अब गुड्स एंड सर्विसेज टैक्‍स (GST) के लिए कैश आधारित लेखा प्रणाली को अपनाएगा। इसमें किसी महीने के कलेक्‍शन की जानकारी अगले महीने के पहले दिन पर दी जाएगी। 

 

अभी तक जीएसटी के तहत मंथली रिटर्न आगे के महीने की 20 तारीख तक भरने की अनुमति होती है और रेवेन्‍यू कलेक्‍शन का हिसाब- किताब 26 तारीख को किया जाता है। इस लिहाज से रेवेन्‍यू कलेक्‍शन का आंकड़ा करीब एक महीने पिछड़ जाता है। इससे ऐसी स्थिति बनी है जबकि सरकार GST क्रियान्वन के पहले वर्ष में एक महीने कम का जीएसटी कलेक्‍शन का आंकड़ा ही ले पाई। 

 

हिसाब -किताब वास्तविक आधार पर 1 मई को

 

मिनिस्‍ट्री के अधिकारियों ने बताया कि इस अंतर को पाटने के लिए अप्रैल महीने के जीएसटी कलेक्‍शन का हिसाब -किताब वास्तविक आधार पर 1 मई को किया जाएगा। तकनीकी रुप से मार्च महीने के जीएसटी कलेक्‍शन का हिसाब- किताब इसी सप्ताह होना था। लेकिन कैश आधारित लेखा प्रणाली को अपनाने के लिए मार्च के कर संग्रह में सिर्फ एकीकृत जीएसटी को ही लिया जाएगा। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट