Home » Economy » GSTGST में 12% और 18% इनकम टैक्‍स रेट्स का हो सकता है मर्जर - 12 per and 18 per GST rates can be merged to new slab

GST में 12% और 18% टैक्‍स रेट्स का हो सकता है मर्जर, सुशील मोदी ने दिए संकेत

आने वाले दिनों में यह संभव है कि जीएसटी के 12% और 18% के टैक्‍स स्‍लैब को विलय कर दिया जाए।

1 of
 
नई दिल्‍ली. आने वाले दिनों में यह संभव है कि जीएसटी के 12% और 18% के टैक्‍स स्‍लैब का विलय कर दिया जाए। दरअसल, बिहार के उपमुख्‍यमंत्री और जीएसटी काउंसिल के अहम सदस्‍य सुशील मोदी ने इस बात के संकेत दिए हैं। सुशील मोदी ने शुक्रवार को कहा कि जीएसटी काउंसिल 12 और 18 फीसदी की इनकम टैक्स रेट्स को एक नए स्लैब में विलय करने की संभावनाओं की जांच करेगी। इसके अलावा 28 फीसदी के टैक्स स्‍लैब रेट से भी कुछ आइटम्‍स को नीचे के स्‍लैब में लाया जा सकता है।

 

28 फीसदी स्‍लैब से घटाए जाएंगे कुछ आइटम्‍स

मोदी ने यह भी कहा कि आइटम्‍स के ऊपर लगाए जानेवाले एमआरपी टैग में सभी टैक्‍स समेत प्राइस लिखा होना चाहिए। उन्होंने कहा, GST काउंसिल 12 फीसदी और 18 फीसदी के टैक्‍स रेट्स को एक नए स्लैब में विलय करने की संभावना पर चर्चा करेगी। यह रेट्स इन दोनों के बीच की एक रेट हो सकता है। वहीं फिलहाल 50 आइटम्‍स को 28 फीसदी के टैक्‍स दायरे में रखा गया है, जिसमें से कई आइटम्‍स को इससे निकाला जा सकता है।
 

रेवेन्‍यू स्थिर होने पर होगा लागू

उन्होंने कोलकाता में भारत चैंबर ऑफ कॉमर्स द्वारा आयोजित परस्पर संवाद सत्र को संबोधित करते हुए कहा, इन सब को रेवेन्‍यू स्थिर हो जाने के बाद लागू किया जा सकता है और यह टैक्‍स में उछाल आने पर निर्भर करता है। उन्होंने कहा कि काउंसिल ने 178 आइटम्‍स पर टैक्‍स की रेट्स को घटाकर टैक्‍स से जुड़े 90 फीसदी मुद्दों का समाधान कर दिया है। सुशील मोदी ने आगे कहा, मैंने जीएसटी काउंसिल को सुझाव दिया है कि आइटम्‍स पर अंतिम कीमत सभी टैक्‍स को मिलाकर दर्ज की जानी चाहिए। मुझे उम्मीद है कि काउंसिल इस प्रस्ताव को मंजूरी दे देगी।
 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट