बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Foreign Tradeसुषमा की कांफ्रेंस : मोदी ने माल्‍या को लेकर ब्रिटिश पीएम को साफ की स्थिति, ईरान से जारी रहेगी ट्रेड

सुषमा की कांफ्रेंस : मोदी ने माल्‍या को लेकर ब्रिटिश पीएम को साफ की स्थिति, ईरान से जारी रहेगी ट्रेड

भारत केवल UN के प्रतिबंधों को मानता है और ईरान व वेनेजुअला से अपनी ट्रेडिंग कायम रखेगा।

1 of

नई दिल्‍ली. भारत केवल UN के प्रतिबंधों को मानता है और ईरान व वेनेजुअला से अपनी ट्रेडिंग कायम रखेगा। अमेरिका ने हाल ही ईरान से हुई डील को तोड़ते हुए प्रतिबंधों की घोषणा की है। यह जानकारी विदेश मंत्रालय की हुई वार्षिक प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में विदेश   मंत्री सुषमा स्‍वराज ने दी। इस दौरान विजय माल्या के प्रत्यर्पण मामले पर उन्होंने नरेंद्र मोदी और ब्रिटिश प्रधानमंत्री थेरेसे मे के बीच इस मसले पर कॉमनवेल्थ समिट के दौरान हुई बातचीत का जिक्र किया। उन्‍होंने बताया कि मोदी ने थेरेसा से इस मामले पर कहा था- आपकी अदालतें हमारे यहां की जेलों को देखने की बात कहती हैं। मैं आपको बता दूं कि ये वही जेलें हैं, जहां आपने महात्मा गांधी और जवाहरलाल नेहरू जैसे नेताओं को बंद किया। 

 

 

हर मामले पर खुलकर रखा पक्ष 
अपने मंत्रालय की वार्षिक पत्रकार वार्ता में उन्‍होंने सभी मुद्दों पर खुलकर पक्ष रखा। उन्‍होंने कहा कि भारत केवल UN की तरफ से लगाए प्रतिबंधों को मान्‍यता देता है। उन्‍होंने कहा कि भारत किसी देश विदेश के प्रतिबंध को मान्‍यता नहीं देते हैं। उन्‍होंने कहा कि भारत अपनी विदेश नीति किसी देश के दबाव में नहीं चलाता है। 

 

 

ईरान तीसरा सबसे बड़ा तेल का आपूर्तिकर्ता देश 
ईरान भारत को कच्‍चे तेल की आपूर्ति करने वाला तीसरा सबसे बड़ा देश है। वहीं वेनेजुअला भी भारत को तेल की बड़ी आपूर्ति करता है। स्‍वाराज ने इस दौरान साफ किया कि भारत वेनेजुअला से क्रिप्‍टोकरेंसी में ट्रेड नहीं करेगा, क्‍यो‍ंकि आरबीआई ने इसे प्रतिबंधित कर रखा है। जहां तक ईरान की बात है तो भारत का वर्ष 2016-17 के दौरान 12.89 अरब डॉलर का कारोबार हुआ था। इसमें से भारत ने 10.5 अरब डॉलर का सामान अायात किया और 2.4 अरब डॉलर का सामानों का निर्यात किया था। 

 

 

माल्‍या को लेकर किया खुलासा 

विदेश मंत्री से विजय माल्या के प्रत्यर्पण के मामले में सवाल किया गया तो उन्होंने नरेंद्र मोदी और ब्रिटिश प्रधानमंत्री थेरेसे मे के बीच इस मसले पर कॉमनवेल्थ समिट के दौरान हुई बातचीत का जिक्र किया। सुषमा ने बताया कि मोदी ने थेरेसा मे से इस मामले पर कहा था- आपकी अदालतें हमारे यहां की जेलों को देखने की बात कहती हैं। मैं आपको बता दूं कि ये वही जेलें हैं, जहां आपने महात्मा गांधी और जवाहरलाल नेहरू जैसे नेताओं को बंद किया।

 

 

मोदी ने कहा था- हमारी जेलों पर सवाल उठाना ठीक नहीं
सुषमा स्वराज ने विजय माल्या पर पूछे गए सवाल के जवाब में कहा, "विजय माल्या के प्रत्यर्पण की रिक्वेस्ट हमने ब्रिटेन भेज दी है। जहां तक विजय माल्या को भारत भेजने का सवाल है, उनकी अदालतें कह रही हैं कि भारत की जेलों की जांच करने आएंगे कि वहां की स्थिति क्या है। मैं आपको बताना चाहूंगी कि अभी कॉमनवेल्थ समिट के समय प्रधानमंत्री मोदी ब्रिटिश प्रधानमंत्री थेरेसे मे से मिले थे। मोदी जी ने थेरेसा मे से कहा था कि हमारे भगोड़े जब यहां आते हैं तो उन्हें भारत भेजने में बहुत देर लगती है। आपकी (थेरेसा मे) कोर्ट ने माल्या के मामले में ये बात उठाई है कि हम आपकी जेलें देखने आएंगे। मैं आपको बताना चाहता हूं कि ये वही जेले हैं, जहां आपने महात्मा गांधी को, पंडित नेहरू को और हिंदुस्तान के बड़े-बड़े नेताओं को रखा था, उन जेलों पर सवाल उठाना आपकी अदालतों के लिए सही नहीं है।"

 

 

माल्या की तरफ से कहा गया था- जेल में चूहे और सांप
प्रत्यर्पण मामले में लंदन की वेस्टमिन्सटर मजिस्ट्रेट कोर्ट में माल्या की वकील क्लेर मोंटगोमरी ने प्रिजन एक्सपर्ट और यूरोपियन कमेटी फॉर द प्रिवेंशन ऑफ टॉर्चर के मेंबर डॉ. एलन मिशेल को कोर्ट में पेश किया था। डॉ. मिशेल ने कहा था, "भारत सरकार ने सामान्य तौर पर अपनी जेलों में माल्या के लिए पर्याप्त व्यवस्थाएं होने की बात कही है। लेकिन, ये पर्याप्त इंतजाम किसकी नजरों में हैं?'
डॉ. मिशेल ने कोलकाता की अलीपुर जेल की विजिट का हवाला दिया था और चेन्नई की पुझल जेल में कैद 6 पूर्व ब्रिटिश सैनिकों से मिली जानकारी का हवाला दिया था। इन सैनिकों को चेन्नई सिक्स कहा गया था।
मिशेल के मुताबिक, "चेन्नई सिक्स ने बताया था कि जेल में खुले में शौच होती थी, चूहे थे, कॉकरोच थे और सांप भी थे। एक बार उन्होंने जेल सुपरिंटेंडेंट को एक कैदी को लाठी से पीटते हुए भी देखा था।"

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट