बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Foreign Tradeभारत ग्रीनफील्‍ड FDI हासिल करने में अमेरिका से पिछड़ा, 2015 और 2016 में था नंबर वन

भारत ग्रीनफील्‍ड FDI हासिल करने में अमेरिका से पिछड़ा, 2015 और 2016 में था नंबर वन

'द फाइनेंशियल टाइम्‍स' की रिपोर्ट के अनुसार, 2017 में भारत में ग्रीनफील्‍ड एफडीआई प्रोजेक्‍ट्स 21 फीसदी घटकर 637 रह गए।

US surpasses India to become top destination for greenfield FDI investment in 2017

नई दिल्‍ली. अमेरिका ने 2017 के दौरान ग्रीनफील्ड यानी नए प्रोजेक्‍ट्स के लिए प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) हासिल करने के मामले में भारत को पीछे छोड़ दिया है। 'द फाइनेंशियल टाइम्‍स' की एफडीआई रिपोर्ट- 2018 में कहा गया है कि 2017 में भारत में ग्रीनफील्‍ड एफडीआई प्रोजेक्‍ट्स 21 फीसदी घटकर 637 रह गए। यह रिपोर्ट एफडीआई इंटेलिजेंस ने तैयार की है। 

 

 

2015 और 2016 में पहले नंबर पर था भारत 
ग्रीनफील्ड एफडीआई निवेश के मामले में भारत 2015 और 2016 में दुनिया में पहले पायदान पर था। हालांकि, 2017 में अमेरिका पहले स्थान पर पहुंच गया। बीते साल अमेरिका को 87.4 अरब डॉलर का एफडीआई मिला। एशिया प्रशांत क्षेत्र में विदेशी निवेश वाली नए प्रोजेक्‍ट्स और कैपिटल इन्‍वेस्‍टमेंट के मामले में चीन पहले स्थान पर और भारत दूसरे स्थान पर रहा। रिपोर्ट के अनुसार, चीन को 2017 में 50.8 अरब डॉलर का कैपिटल इन्‍वेस्‍टमेंट मिला जबकि भारत को 25.1 अरब डॉलर हासिल हुआ। चीन को इस दौरान कुल 681 नए एफडीआई प्रोजेक्‍ट्स के लिए और भारत को 637 प्रोजेक्‍ट्स के लिए विदेशी निवेश मिला। 
 
वैश्विक स्‍तर पर ग्रीनफील्‍ड FDI घटा 
रिपोर्ट के अनुसार, वैश्विक स्तर पर 2017 में ग्रीनफील्ड एफडीआई प्रोजेक्‍ट्स की संख्या 1.1 फीसदी घटकर 13,200 रह गई। इस दौरान कैपिटल इन्‍वेस्‍टमेंट 15.2 फीसदी घटकर 662.6 अरब डॉलर रहा। ऐसे प्रोजेक्‍ट्स में नई नौकरियों के मौके भी 9.4 फीसदी घटकर 18.3 लाख रह गए। 

 

FDI के मामले में भी अमेरिका नंबर वन 
एफडीआई रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिका ने 87.4 अरब डॉलर के कैपिटल इन्‍वेस्‍टमेंट के जरिए एफडीआई हासिल कर भारत को पीछे छोड़ा। अमेरिका को फॉक्‍सकॉन और साउदी बेसिक इंडस्‍ट्रीज की तरफ से सिंगल प्‍लांट में अरबों डॉलर निवेश के एलान से काफी बूस्‍ट मिला। प्रोजेक्‍ट की संख्‍या के आधार पर एफडीआई के मामले में अमेरिका नंबर वन देश है। अमेरिका में 1627 प्रोजेक्‍ट में एफडीआई का घोषणा हुई है। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट