कारोबार के लिए चीन का हवाला पैंतरा, पाकिस्तानी आतंकियों को धन उपलब्ध कराने की आशंका

CAIT urges govt to probe Chinese goods imported via hawala route: कन्फेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने आशंका जताई है कि चीन से आने वाला सामान हवाला के जरिए आता है। यही कारण है कि भारत में चीनी सामान बहुत सस्ता मिलता है। हवाला रूट से आने के कारण सरकार को कस्टम ड्यूटी एवं टैक्स की बड़ी चपत लगती है। 

Money Bhaskar

Mar 18,2019 01:21:00 PM IST

नई दिल्ली। कन्फेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने आशंका जताई है कि चीन से आने वाला सामान हवाला के जरिए आता है। यही कारण है कि भारत में चीनी सामान बहुत सस्ता मिलता है। हवाला रूट से आने के कारण सरकार को कस्टम ड्यूटी एवं टैक्स की बड़ी चपत लगती है। कैट ने आशंका जताई है कि हवाला के लेनदेन से होने वाली कमाई को कहीं पाकिस्तान को आतंकी गतिविधियां चलाने के लिए नहीं दिया जाता। मामले की गंभीरता को देखते हुए कैट ने इसकी जांच कराने और दोषियों पर कार्रवाई करने की माग की है।

ये भी पढ़ें--

मोदी सरकार की नई पेशकश, 19 मार्च से आप भी इन महारत्न कंपनियों में कर सकते हैं निवेश, मिलेगा 4% डिस्काउंट मिलेगा

कम बिलिंग पर आता है चीनी सामान
कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीसी भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने कहा है कि चीन से भारत आने वाला अधिकांश सामान बेहद कम मूल्य की बिलिंग पर आता है। कैट का कहना है कि पहले कई ऐसे मामले पकड़ में आ चुके हैं जिनमें कस्टम ड्यूटी और आईजीएसटी से बचने के लिए कम बिल मिला है। भरतिया एवं खंडेलवाल का कहना है कि इस मामले में इम्पोर्टर के साथ साथ विभिन्न विभागों के अधिकारियों की मिलीभगत होती है, जिस कारण यह व्यापार लंबे समय से सुगमता के साथ चल रहा है। इससे भारतीय कारोबारियों पर असर पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि जो लोग चीन से माल मंगाते हैं, वह उस पर इनपुट क्रेडिट नहीं लेते हैं। इसका कारण यह है कि यह सारा माल बिना बिल बेचा जाता है। बिन बिल बेचने के कारण यह सस्ता हो जाता है। इससे चीनी माल के मुकाबल भारतीय माल महंगा हो जाता है।

ये भी पढ़ें--

अब कर्जदारों के घरों पर नहीं बजेगा ढोल, वसूली के लिए हाइटेक तरीका अपनाएगा SEBI

जांच कराए सरकार
भरतिया एवं खंडेलवाल ने कहा कि यह मामला देश की सुरक्षा से भी जुड़ा है। इसलिए सरकार को इस मामले की गंभारती से जांच करानी चाहिए। भरतिया एवं खंडेलवाल का कि जो माल चीन से आता है, उसकी घोषित वैल्यू से 50 % अधिक पर सरकार उस माल की नीलामी करे तो इस खेल का सारा सच सामने आ जाएगा। उन्होंने आशंका जताते हुए कहा कि कहीं हवाला का यह पैसा आतंकवादियों को तो नहीं दिया जा रहा है।

ये भी पढ़ें--

भारत में अब नहीं बिकेगा आईफोन 6 और 6s, बंद होंगे कई स्टोर्स

चीन में खुफिया अधिकारी तैनात करेगा भारत
पीटीआई के अनुसार, भारत कालाधन पर अंकुश लगाने, व्यापार आधारित मनी लांड्रिंग तथा अन्य वित्तीय धोखाधड़ी पर अंकुश लगाने के लिए चीन में खुफिया सीमा-शुल्क अधिकारियों को तैनात करेगा। बीजिंग स्थिति भारतीय दूतावास तथा गुआनझाऊ में भारतीय महावाणिज्य दूतावास में सीमाशुल्क विभाग के विदेशी आसूचना नेटवर्क (सीओआईएन) के दो पद सृजित किए गए हैं। वित्त मंत्रालय ने इसके लिए अधिकारियों के चयन की प्रक्रिया शुरू की है। अधिकारियों ने कहा कि राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआई) ने चीन से व्यापार आधारित मनी लांड्रिंग तथा अन्य वित्तीय धोखाधड़ी रोकने के लिये यह कदम उठाया है। डीआरआई सीमा शुल्क धोखाधड़ी तथा तस्करी रोकने की प्रमुख एजेंसी है।

X
COMMENT

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.