Trending News Alerts

ट्रेंडिंग न्यूज़ अलर्ट

    Home »Economy »Banking» Govt: To Merge Bharatiya Mahila Bank With SBI

    5 एसोसिएट बैंकों के बाद अब महिला बैंक के SBI में मर्जर को सरकार की मंजूरी मिली

    नई दिल्ली. केंद्र सरकार ने सोमवार को भारतीय महिला बैंक के एसबीआई में मर्जर को मंजूरी दे दी। सरकार ने कहा- महिलाओं तक बैंकिंग सर्विसेस पहुंच तय करने के लिए ये फैसला लिया गया है। दूसरी ओर, आरबीआई ने कहा कि एसबीआई में 5 एसोसिएट बैंकों का मर्जर 1 अप्रैल से लागू हो जाएगा। तीन साल पहले बनाया गया था महिला बैंक... 
     
     

    - महिला बैंक चार साल पहले बनाया गया था। इस दौरान उसने सिर्फ 192 करोड़ रुपए का लोन महिलाओं को दिया। जबकि इसी पीरिएड में एसबीआई ने 46 हजार करोड़ रुपए का कर्ज महिलाओं को दिया।
    - सरकार ने कहा- मर्जर से सरकारी स्कीम महिलाओं तक आसानी से पहुंचाई जा सकेंगी। स्‍टेट बैंक की पहुंच और लो कास्‍ट ऑफ फंड का फायदा महिलाओं को मिलेगा। 
    - स्‍टेट बैंक की 20 हजार से ज्यादा ब्रांच हैं। उसके पास लो कॉस्‍ट फंड है। बैंक में करीब 2 लाख इम्प्लाईज हैं, इनमें से 22% महिलाएं हैं। एक और खास बात ये है कि एसबीआई की 126 ब्रांच ऐसी हैं जो सिर्फ महिलाओं को सर्विस देती हैं। 
     
    2013 में बना था भारतीय महिला बैंक
    - भारतीय महिला बैंक 2013 में बनाया गया था। इसकी 103 ब्रांच और 1600 करोड़ रुपए का करोबार है। छोटे साइज की वजह से एडमिनिस्ट्रेटिव कॉस्ट ज्यादा है।   देश के बड़े हिस्से में इसकी ब्रांच नहीं हैं। 

    1 अप्रैल से पांच बैकों का मर्जर लागू
    - उधर, आरबीआई ने कहा कि एसबीआई की 5 सहयोगी बैंकों की ब्रांच 1 अप्रैल से एसबीआई ब्रांच के तौर पर काम करेंगी। इन बैंकों कस्टमर्स एसबीआई के कस्टमर्स हो जाएंगे। इस बारे में ऑर्डर 22 फरवरी को जारी किया गया था। 
    - स्‍टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर (एसबीबीजे), स्‍टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर, स्‍टेट बैंक ऑफ मैसूर, स्‍टेट बैंक ऑफ पटियाला और स्‍टेट बैंक ऑफ हैदराबाद का एसबीआई में मर्जर हुआ है। 

    Recommendation

      Don't Miss

      NEXT STORY