Home » Economy » BankingMahatma Gandhi in London

पैसा बचाने के लिए लंदन में पैदल चलते थे महात्मा गांधी

25 साल में चले 80 हजार किमी पैदल चले थे गांधी

Mahatma Gandhi in London

नई दिल्ली. सत्य, अहिंसा, शांति और सेवा के प्रति महात्मा गांधी के विचार आज भी प्रासंगिक हैं। लेकिन इसके साथ ही अर्थशास्त्र यानी पैसा बचाने की कला में भी उनका कोई जवाब नहीं था। वे मितव्ययता यानी कम से कम खर्च में गुजारा करने में यकीन करते थे। यही वजह थी कि लंदन में वकालत की पढ़ाई करने के दौरान वह यातायात के सार्वजनिक वाहनों में सफर करने की बजाय पैदल चला करते थे। तब उनके पास ज्यादा पैसा नहीं हुआ करता था, लिहाजा वह कई मील तक पैदल चलकर पैसा बचाया करते थे। बाद में उन्होंने इसे अपनी दिनचर्या का हिस्सा बना लिया और देश के स्वतंत्रता संग्राम में इसे अपनी शक्ति के तौर पर इस्तेमाल किया।


25 साल में चले 80 हजार किमी

भारत लौटने के बाद गांधीजी रोजाना 18 किमी चलते थे। दांडी मार्च के 24 दिन के दौरान वे तकरीबन 15 किमी रोजाना चले। 1913 से 1938 के बीच कई अभियानों में उन्होंने लगभग 80 हजार किमी का सफर तय किया। इतने में दो बार दुनिया का चक्कर लगाया जा सकता है।


पदयात्रा कर लोगों को अपने साथ जोड़ा

गांधीजी ने पैदल चलने को अपनी शक्ति बनाया। अंग्रेजों के बनाए नमक कानून को तोड़ने के लिए जब वे दांडी मार्च पर निकले तो हजारों देशवासी उनके साथ जुड़ते चले गए। वहां पहुंचकर उन्होंने ब्रिटिश हुकूमत के बनाए नमक कानून को तोड़ा जो जिसने लोगों के सिर से कर का बोझ हटाया।


साइकिल के समर्थक

उन्हें साइकिल चलाना भी बेहद पसंद था। दक्षिण अफ्रीका के जोहान्सबर्ग में रहने के दौरान वे पहले शख्स थे, जिसने उस कानून का विरोध किया जो सड़क पर साइकिल से चलने वालाें से भेदभाव करता था। जब वे 1915 में अहमदाबाद लौटे तो गुजरात विद्यापीठ से साबरमती आश्रम तक साइकिल चलाकर अाए।


कम उपभाेग के हिमायती

वर्ल्ड रिसोर्स इंस्टीट्यूट के मुताबिक गांधीजी का अर्थशास्त्र कम से कम उपभाेग करने पर केंद्रित था। उनकी जीवनशैली ऐसी थी कि वे बेहद कम संसाधनों में भी संतुष्टी से गुजारा करते थे। उनका सिद्धांत था ‘more from less for more’ यानी कम संसाधनों में गुजारा किया जाए ताकि अधिक से अधिक लोगों को उनका लाभ मिल सके।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट