Home » Economy » BankingCBI files case against Vadodara firm for Rs 2654 cr

PNB जैसा आया एक और मामला, 2600 करोड़ रुपए के फ्रॉड का केस दर्ज

पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) घोटाले के बाद लगातार सामने आ रहे बैंकिंग फ्रॉड के बाद एक और मामले का खुलासा हुआ है।

CBI files case against Vadodara firm for Rs 2654 cr

नई दिल्‍ली... पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) घोटाले के बाद लगातार सामने आ रहे बैंकिंग फ्रॉड के बाद एक और मामले का खुलासा हुआ है। केंद्रीय जांच एजेंसी (सीबीआई) ने वडोदरा की एक कंपनी के खिलाफ 2,654 करोड़ रुपए के कथित बैंक फ्रॉड के मामले में आपराधिक मामला दर्ज किया है।

 

 

 

सीबीआई के स्‍पोकपर्स ने बताया कि जांच एजेंसी ने डायमंड पावर इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड (डीपीआईएल) और इसके डायरेक्‍टर्स के घर और दफ्तर पर छापा भी मारा है। सीबीआई के मुताबिक इलेक्ट्रिक केबल्स और उपकरण बनाने वाली कंपनी डीपीआईएल की कमान एस एन भटनागर और उनके बेटे अमित भटनागर और सुमित भटनागर के पास है। एस एन भटनागर के दोनों बेटे इस कंपनी में अधिकारी भी हैं।

 

2016-17 में एनपीए हुआ घोषित 


सीबीआई ने कहा, 'डीपीआईएल ने कथित रूप से 11 पब्‍लिक सेक्‍टर और प्राइवेट सेक्‍टर के बैंकों के ग्रुप से 2008 के बाद से लोन लेना शुरू किया और 29 जनवरी 2016 तक यह कर्ज की रकम 2,654.40 करोड़ रुपए हो गई।' बाद में 2016-17 में इस कर्ज को एनपीए घोषित कर दिया गया। कंपनी और उसके डायरेक्‍टर्स को वैसे वक्त में लोन मिला, जब रिजर्व बैंक की डिफॉल्टर्स लिस्ट और एक्सपोर्ट क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन की सतर्कता सूची में इस कंपनी का नाम शामिल कर लिया गया था।

 

किन बैंकों का कितना बकाया  


सीबीआई ने बताया कि कंपनी बैंकों के ग्रुप को गलत स्टॉक स्टेटमेंट सौंपती रही और इसके बदले में वह कैश क्रेडिट खाते से रकम भी निकालती रही। कंपनी पर बैंक ऑफ इंडिया का 670.51 करोड़ रुपए, जबकि बैंक ऑफ बड़ौदा का 348.99 करोड़ रुपए का कर्ज है। वहीं आईसीआईसीआई बैंक का 279.46 करोड़ रुपए का कर्ज है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट