Home » Economy » Banking99.3% of demonetised notes are back; Rs 15.31 trillion returned, says RBI

नोटबंदी में बैन हुई जितनी करंसी, उसकी तुलना में 99.30% सिस्टम में लौटी: RBI रिपोर्ट

नोटबंदी के दौरान 500 और 1000 रु की पुरानी जितनी करंसी बैन हुई थी, उसकी तुलना में 99.3 फीसदी नोट फिर सिस्टम में आ गए हैं

99.3% of demonetised notes are back; Rs 15.31 trillion returned, says RBI

 

नई दिल्ली. नवंबर, 2016 में नोटबंदी के दौरान 500 और 1000 रुपए की पुरानी जितनी करंसी बैन की गई थी, उसकी तुलना में 99.3 फीसदी नोट फिर से सिस्टम में लौट आए हैं। रिजर्ब बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने बुधवार को अपनी एनुअल रिपोर्ट में यह जानकारी दी है। 8 नवंबर, 2016 से पहले 500 और 1000 रुपए के नोटों में 15.41 लाख करोड़ रुपए की करंसी सर्कुलेशन में थी, जिसमें से अब 15.31 लाख करोड़ रुपए की करंसी सिस्टम में आ गई है।

 

RBI ने एनुअल रिपोर्ट में दी जानकारी

रिपोर्ट के मुताबिक, ‘स्पेसिफाइड बैंक नोट (SBNs) की प्रोसेसिंग और वेरिफिकेशन जैसे मुश्किल काम को सफलतापूर्वक पूरा कर लिया गया है।’ आरबीआई ने कहा कि वापस मिले SBNs के वेरिफिकेशन, गिनती और प्रोसेसिंग के बाद उन्हें नष्ट करने का काम कर लिया गया है। हाई-स्पीड करंसी वेरिफिकेशन एंड प्रोसेसिंग सिस्टम (CVPS) के माध्यम से इस काम को जल्द से जल्द निबटाने में आसानी हुई। SBNs का उल्लेख बैन किए गए 500 और 1000 रुपए के नोटोें से है।

आरबीआई ने कहा कि SBNs की प्रोसेसिंग के काम को पूरा कर लिया गया है और ‘अब 15,310.73 अरब रुपए के SBNs सर्कुलेशन में लौट आए हैं।’

 

 

मार्च, 2017 तक सिस्टम में थी इतनी करंसी

रिपोर्ट के मुताबिक, मार्च 2017 तक जितनी करंसी सिस्टम में थी, उसमें 72.7% नोट 500 और 2000 रुपए के थे। मार्च 2018 तक सर्कुलेशन में मौजूद कुल नोटों में  500 और 2000 रुपए के नोटों की संख्या 80.2% हो गई। आरबीआई के मुताबिक, पिछले वित्त वर्ष में भारतीय अर्थव्यवस्था में सुधार हुआ। देश में निवेश और निर्माण बढ़ा। सालाना आधार पर महंगाई कम हुई। पिछले कुछ वर्षों के मुकाबले क्रेडिट ग्रोथ भी डबल डिजिट में लौट आई। अप्रत्यक्ष कर प्रणाली में जीएसटी अहम साबित हुआ।

 

 

नोटों का लेखा जोखा

2016 में बंद किए गए 500 और 1000 के पुराने नोटों का मूल्य

15.44 लाख करोड़ रुपए

500 और 2000 के नए नोट छापने का खर्च

8,000 करोड़ रुपए

अगस्त 2017 तक सर्कुलेशन में लौटे नोटों का मूल्य

15.28 लाख करोड़ रुपए

मार्च 2018 तक सर्कुलेशन में मौजूद नोटों का मूल्य

18.03 लाख करोड़ रुपए

 

 

60 देशों की जीडीपी के बराबर रकम चलन से बाहर हुई थी

8 नवंबर 2016त को रात 12 बजे से 1000 और 500 के नोट चलन से बाहर कर दिए गए थे। महज चार घंटे में 86% करंसी यानी 15.44 लाख करोड़ रुपए के नोट चलन से बाहर हो गए थे। ये रकम 60 छोटे देशों की ग्रॉस डॉमेस्टिक प्रोडक्ट (GDP) के बराबर है। नोटबंदी का ऐसा फैसला 1978 के बाद हुआ था। तब जनता पार्टी की सरकार ने 1000, 5000 और 10000 हजार के नोटों को बंद कर दिया था।

 

 

 

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट