Home » Economy » BankingPatel preferred wait for more data before changing monetary stance

RBI मानिटरिंग पॉलिसी के मिनट्स जारी, पॉलिसी रेट बदलाव नहीं चाहते थे पटेल और 4 सदस्‍य

रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल पॉलिसी रेट में किसी भी बदलाव के पहले और ज्‍यादा डेटा आने के फेवर में थे।

1 of
 
मुम्‍बई. रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल पॉलिसी रेट में किसी भी बदलाव के पहले और ज्‍यादा डेटा आने के फेवर में थे। इस बात की जानकारी आरबीआई की मॉनिटरिंग पॉलिसी की मीटिंग के मिनट्स में मिली है। इस बैठक में पटेल ने जानकारी दी थी कि अर्थव्‍यवस्‍था में सुधार की जानकारी दी थी। इस मॉनिटरी पॉलिसी कमेटी (MPC) में 6 सदस्‍य हैं। 4 और 5 अप्रैल को हुई इस बैठक में रेपो रेट में कोई बदलाव न करने का फैसला किया गया था। 
 

 

आरबीआई ने जारी किए मिनट्स

आरबीआई ने मॉनिटरिंग पॉलिसी के मिनट्स जारी किए हैं। इसके अनुसार इस बैठक में उर्जित पटेल ने बताया था कि अर्थव्‍यवस्‍था में सुधार के संकेत हैं। उन्‍होंने जानकारी दी थी कि वर्ष 2018-19 में जीडीपी 7.4 फीसदी से भी ज्‍यादा तेजी से बढ़ सकती है। उनके अनुसार इसका कारण निवेश गतिविधियां बढ़ना है। बैंक और नॉन बैंक निवेश गतिविधियों में बढ़त दर्ज हो रही है।

 

 

महंगाई बढ़ने का खतरा

बैठक के दौरान उन्‍होंने कहा कि हालांकि महंगाई इस वक्‍त इस नियंत्रण में है, लेकिन इसके बढ़ने का खतरा बना हुआ है। इस कारण पटेल ने बैठक में कहा कि पॉलिसी रेट में बदलाव से पहले और डाटा आने का इंतजार करना चाहिए।

 

 

4 और सदस्‍य थे पटेल की राय से सहमत

पटेल की पॉलिसी रेट में बदलाव की बात का कमेटी के 4 अन्‍य सदस्‍यों ने भी समर्थन किया था। इनमें चेतन घाटे, पामी दुआ, रविन्‍द्र एच ढोलकिया और विरल आचार्य शामिल थे। हालांकि रिजर्व बैंक के कार्यकारी डायरेक्‍टर माइचेल पात्रा ने रेपो रेट को 25 बेसिस प्‍वाइंट बढ़ाने की प्रस्‍ताव रखा था।

 

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Don't Miss