बिज़नेस न्यूज़ » Economy » BankingRBI ने लगातार दूसरी बार बढ़ाई रेपो रेट, 0.25% बढ़कर हुई 6.50%, होम लोन से कार लोन तक सब हो सकते हैं महंगे

RBI ने लगातार दूसरी बार बढ़ाई रेपो रेट, 0.25% बढ़कर हुई 6.50%, होम लोन से कार लोन तक सब हो सकते हैं महंगे

RBI ने बाईमंथली पॉलिसी रिव्यू में अपनी पॉलिसी रेट्स में 0.25 फीसदी का इजाफा कर दिया।

RBI hikes key policy rate by 25 basis points to 6.50 per cent.
 
नई दिल्ली. रिजर्व बैंक (RBI) ने बाईमंथली पॉलिसी रिव्यू में अपने पॉलिसी रेट्स में 0.25 फीसदी की बढ़ोत्‍तरी कर दी है। इस प्रकार लिक्विडिटी एडजस्टमेंट फैसिलिटी (एलएएफ) के तहत रेपो रेट 6.50 फीसदी हो गई है। आबीआई द्वारा जारी बयान के मुताबिक, रेपो रेट में यह बढ़ोत्तरी मौजूदा मैक्रोइकोनॉमिक स्थिति को देखते हुए की गई है। इस बदलाव के बाद होम लोन सहित लगभग सभी तरह के लोन महंगे होने की संभावना है। इस प्रकार एलएएफ के अंतर्गत रिवर्स रेपो रेट 6.25 फीसदी और मार्जिनल स्टैंडिंग फैसिलिटी (एमएसएफ) रेट और बैंक रेट 6.75 फीसदी हो गई है।
 
 
लगातार दूसरी बाईमंथली मीटिंग में बढ़ी रेपो रेट
आरबीआई की मॉनिटरी पॉलिसी कमिटी (MPC) के 5 मेंबर्स ने रेपो रेट बढ़ाने के पक्ष में और 1 मेंबर ने इसके विरोध में वोट किया। कमिटी के एक्सटर्नल मेंबर रविंद्र ढोलकिया ने इसके विरोध में वोट किया। रेपो रेट में बढ़ोत्तरी की उम्मीद पहले से ही उम्मीद जताई जा रही थी। यह लगातार दूसरा मौका है, जब रेपो रेट में बढ़ोत्तरी की गई है। इससे पहले जून में हुई पिछली मॉनिटरी पॉलिसी मीटिंग में भी रेपो रेट में 0.25 फीसदी की बढ़ोत्तरी की गई थी।
 
 
महंगाई की चिंता का दिखा असर
एमपीसी मीटिंग पर महंगाई की चिंताओं का खासा असर दिखा। जून में खुदरा महंगाई 5 फीसदी के स्तर पर पहुंच गई थी, जो 5 महीने का उच्चतम स्तर है। अप्रैल से जून के दौरान रिटेल महंगाई औसतन 4.8 फीसदी रही। इसे देखते हुए आरबीआई ने जुलाई-सितंबर की अवधि के लिए खुदरा महंगाई यानी सीपीआई के 4.6 फीसदी रहने का अनुमान जाहिर किया, जबकि चालू वित्त वर्ष की दूसरी छमाही के लिए 4.8 फीसदी का अनुमान जाहिर किया गया है, जो पहले 4.7 फीसदी था। 
 
 
2018-19 में जीडीपी ग्रोथ 7.4 फीसदी रहने का अनुमान
आरबीआई के मुताबिक अप्रैल-सितंबर की अवधि के दौरान जीडीपी ग्रोथ 7.5-7.6 फीसदी रहने की उम्मीद है। केंद्रीय बैंक ने वित्त वर्ष 2018-19 के लिए जीडीपी ग्रोथ के अनुमान को 7.4 फीसदी के स्तर पर बरकरार रखा है।
 

 

सालाना 6060 रुपए  बढ़ जाएगा होम लोन EMI का बोझ 

होम लोन अमाउंट अवधि  पुरानी EMI नई EMI सालाना बोझ 
 30 लाख रुपए  25 साल  24056  24562  6060 रुपए

 

 

कितनी बढ़ेगी कार लोन की EMI

 कार लोन अमाउंट अवधि  पुरानी EMI नई EMI सालाना बोझ 
5 लाख रुपए  5 साल   10354 रुपए 10415 रुपए 732 रुपए

 

नोट-एसबीआई के मौजूदा  कार लोन रेट 8.90 के आधार पर किया गया है कैलकुलेशन 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट