बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Bankingमूडीज ने PNB को किया डाउनग्रेड, कहा-आगे भी दिखेगा नीरव मोदी फ्रॉड का निगेटिव असर

मूडीज ने PNB को किया डाउनग्रेड, कहा-आगे भी दिखेगा नीरव मोदी फ्रॉड का निगेटिव असर

लगभग 13 हजार करोड़ रुपए के फ्रॉड के बाद सरकार के स्वामित्व वाले पीएनबी की प्रॉफिटेबिलिटी को तगड़ा झटका लगा है।

1 of

मुंबई. लगभग 13 हजार करोड़ रुपए के फ्रॉड के बाद सरकार के स्वामित्व वाले पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) की प्रॉफिटेबिलिटी को तगड़ा झटका लगा है। इसे देखते हुए ग्लोबल रेटिंग एजेंसी मूडीज ने पीएनबी की रेटिंग बीएए 3/पी-3 से घटाकर बीए1/एनपी कर दी है। वहीं रेटिंग एजेंसी ने रेटिंग्स आउटलुक को स्टेबल रखा, लेकिन बैंक के बेसलाइन क्रेडिट एसेसमेंट (बीसीए) और एडजस्टेड बीसीए को डाउनग्रेड करके बीए 3 से बी 1 कर दिया है।

रेटिंग एजेंसी ने सोमवार को जारी एक रिपोर्ट में कहा, ‘बैंक के बीसीए और रेटिंग्स को डाउनग्रेड किए जाने से  बैंक के स्टैंडअलोन प्रोफाइल विशेष कैपिटल पोजिशन पर फ्रॉड ट्रांजैक्शंस के नकारात्मक असर का पता चलता है।’
 

 

बैंक का इंटरनल कंट्रोल और प्रॉसेस है कमजोरी

डाउनग्रेड से बैंक के कमजोर इंटरनल कंट्रोल और प्रॉसेस का पता चलता है, जिसके चलते कई साल तक फ्रॉड्स का पता ही नहीं चला। फरवरी में बैंक ने घोषणा की थी कि उसको 11,390 करोड़ रुपए (1.7 अरब डॉलर) के फ्रॉड और अनऑथराइज ट्रांजैक्शंस के बारे में पता चला है। इसके बाद बैंक द्वारा की गई घोषणाओं के बाद पीएनबी का कुल एक्सपोजर 14,400 करोड़ रुपए (2.2 अरब डॉलर) हो गया।
 

 

फ्रॉड के सामने आने के बाद शुरू हो गया था रिव्यू
फ्रॉड ट्रांजैक्शंस की घोषणा के बाद मूडीज ने 20 फरवरी, 2018 को बैंक की रेटिंग को रिव्यू करना शुरू कर दिया था, जो अब पूरा हो गया है। रेटिंग एजेंसी का अनुमान है कि लेंडर को सरकार से कैपिटल सपोर्ट मिलेगा और बैंक अपनी नॉन कोर एसेट्स बेचकर कुछ पूंजी जुटाने में कामयाब रहेगी, जिसमें उसकी रियल एस्टेट होल्डिंग्स शामिल है। इसके साथ ही पीएनबी अपनी हाउसिंग फाइनेंस सब्सिडियरी पीएनबी हाउसिंग फाइनेंस की आंशिक हिस्सेदारी भी बेच सकती है।

 

 

बैंक कैपिटलाइजेशन में हो सकती है दिक्कत
रिपोर्ट के मुताबिक, ‘इसके बावजूद इन स्रोतों से बैंक के लिए फ्रॉड के खुलासे से पहले के बैंक कैपिटलाइजेशन के लेवल को हासिल करने की उम्मीद कम ही है।’ रिपोर्ट में अनुमान जाहिर किया गया कि पीएनबी को मार्च, 2019 तक अपनी 8 फीसदी की न्यूनतम बेसिल 3 सीईटी 1 जरूरत को पूरा करने के लिए लगभग 12,000-13,000 करोड़ रुपए एक्सटर्नल कैपिटल की जरूरत होगी।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट