Home » Economy » BankingICICI Bank board to meet tomorrow; CEO loan issue may come up

ICICI Bank बोर्ड की बैठक आज, CEO लोन इश्यू पर हो सकता है विचार

प्राइवेट सेक्टर की सबसे बड़ी बैंक आईसीआईसीआई बैंक का बोर्ड सोमवार को बैठक कर रहा है।

1 of

नई दिल्ली.  प्राइवेट सेक्टर की सबसे बड़ी बैंक आईसीआईसीआई बैंक का बोर्ड आज बैठक कर रहा है। बोर्ड बैठक में 2017-18 की वार्षिक अर्निंग की मंजूरी दी जाएगी। वहीं सूत्रों का कहना है कि इस बैठक में बैंक की सीईओ चंदा कोचर पर लगे आरोपों पर भी विचार-विमर्श होने की संभावना है।

 

क्‍या हैं आरोप?
आरोप है कि चंदा कोचर के पति दीपक कोचर के चलते ही वीडियोकॉन का आईसीआईसीआई बैंक ने करीब 3200 करोड़ का लोन दिया और बाद में वीडियोकॉन इससे में से करीब 2800 करोड़ की रकम बैंक को लौटाने में नाकाम रहा।
आईसीआईसीआई बैंक और वीडियोकॉन ग्रुप में निवेशक अरविंद गुप्‍ता का आरोप है कि आईसीआईसीआई बैंक ने वीडियोकॉन ग्रुप को 3250 करोड़ रुपए का लोन गलत तरीके से दिया। इसमें बैंक के अधिकारियों और वीडियोकॉन ग्रुप के बीच मिलीभगत थी। ग्रुप बाद में यह लोन चुका नहीं पाया और पूरा लोन एनपीए हो गया। उनका आरोप है कि वीडियोकॉन ग्रुप ने आईसीआईसीआई बैंक की सीईओ चंदा कोचर के पति दीपक कोचर को आर्थिक फायदा पहुंचाया। सीबीआई इस मामले की जांच कर रही है कि क्‍या लोन किसी को फायदा पहुंचाने के लिए दिया गया।

 

जांच पूरी होने तक कोचर अपने पद से हटें

लोन विवाद बढ़ने पर सेबी के पूर्व प्रमुख एम दामोदरन ने कहा था कि जांच पूरी होने तक बैंक के सीईओ चंदा कोचर को तीन-चार महीने के लिए अपने पद से हट जाना चाहिए। हालांकि आईसीआईसीआई बैंक के चेयरमैन एम.के शर्मा ने कहा कि बोर्ड बैठक का एजेंडा फाइनेंशियल रिजल्ट तक सीमित है। लेकिन सूत्रों का कहना है कि बोर्ड के कुछ सदस्य कॉरपोरेट गवर्नेंस के इश्यू को उठा सकते हैं। यह सब चेयरमैन एम.के शर्मा पर निर्भर करता है कि वे सदस्यों को दूसरे मुद्दों को उठाने का मौका देते हैं या नहीं। बोर्ड में सात स्वतंत्र निदेशक हैं जिसमें चेयरमैन और सरकार द्बारा नामित निदेशक शामिल हैं। गड़बड़ी को उजागर करने वाले अरविंद गुप्ता ने मार्च महीने में बैंक में कंपनी संचालन के मुद्दे को उठाया था। 

 

बैंक ने किया था बचाव 

चंदा कोचर पर लगे आरोपों का आईसीआईसीआई बैंक ने बचाव किया था। 28 मार्च को बैंक ने कहा था कि वीडियोकॉन ग्रुप को लोन देने का फैसला क्रेडिट पैनल ने लिया था। चंदा कोचर उस पैनल की हिस्सा थीं, न कि हेड। बैंक मैनेजमेंट का कहना है कि चंदा कोचर ने जो कुछ भी किया, नियमों में रहकर ही किया है। वीडियोकॉन को फेवर करने के मामले में बैंक का कहना है कि आरोप बेबुनियाद हैं, जिसका उद्देश्‍य बैंक को बदनाम करना है।

 

नतीजे से पहले स्टॉक 2% तक बढ़ा

 

आईसीआईसीआई बैंक के आज चौथी तिमाही के नतीजे जारी होने है। नतीजे जारी होने से पहले स्टॉक्स में तेजी देखने को मिल रही है। बीएसई पर स्टॉक 1.61 फीसदी बढ़कर 287.45 रुपए के भाव पर पहुंच गया है। 

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट