Utility

24,712 Views
X
Trending News Alerts

ट्रेंडिंग न्यूज़ अलर्ट

होम बायर्स को क्रेडिटर्स का दर्जा देने के लिए अध्‍यादेश लाएगी सरकार, IBC में होगा बदलाव Sterlite प्लांट में हिंसाः मद्रास हाईकोर्ट ने स्मेल्टर के कंस्ट्रक्शन पर लगाया स्टे सरकार चाहे तो पेट्रोल के दाम 25 रुपए/लीटर तक घटा सकती है: चिदंबरम Stock Market Live: बाजार में गिरावट बढ़ी, सेंसेक्स 150 अंक गिरा, निफ्टी 10450 के करीब, RIL-ITC टूटे वेदांता का शेयर 6% गिरकर 10 महीने के लो पर, स्टरलाइट कॉपर में प्रदर्शन का असर Contract farming : केंद्र लाया मॉडल कानून, किसानों के हित में कई प्रावधान Flipkart में अपनी पूरी हि‍स्‍सेदारी बेचने को तैयार Softbank, मि‍ल सकते हैं 4.5 अरब डॉलर Stock Market: SBI के शेयर 2 दिन में 10% बढ़े, मार्केट कैप 22 हजार करोड़ रु बढ़ी Stock Market: आज इन शेयरों में कमाई का मौका, ऐसे उठाएं फायदा Forex Market: रुपए 16 महीने के निचले स्तर पर, 11 पैसे टूटकर 68.15/$ पर खुला Petrol Price: एक्‍साइज ड्यूटी में 2 से 4 रुपए की कटौती कर सकती है सरकार Asian Markets: एशियाई बाजारों में कमजोरी, निक्केई 248 अंक टूटा 3 साल में उत्‍तर भारत में सबसे बड़ी बिजली की शॉर्टेज, डिमांड व सप्‍लाई में 2 करोड़ यूनिट का अंतर Q4 में इन कंपनियों का 9 गुना तक बढ़ा मुनाफा, आगे शेयर दे सकते हैं 111% तक रिटर्न दिल्‍ली में IT की बिल्‍डरों के यहां छापेमारी, 215 करोड़ रुपए की ब्‍लैकमनी का खुलासा
बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Bankingबिलिंग के लिए सरकार लगा रही BBPS पर दांव, 2 साल में 9.4 लाखCr की होगी इंडस्ट्री

बिलिंग के लिए सरकार लगा रही BBPS पर दांव, 2 साल में 9.4 लाखCr की होगी इंडस्ट्री

नई दिल्ली. बिलिंग सिस्टम को सरल बनाने के लिए शुरू किए गए भारत बिल पेमेंट सिस्टम (बीबीपीएस) पर अब सरकार बड़ा दांव लगाने की तैयारी कर रही है। इसकी वजह इस इंडस्ट्री की ग्रोथ है, जिसके 2020 तक यानी अगले दो साल में 9.4 लाख करोड़ रुपए होने का अनुमान है। वहीं सरकार के सामने पीएनजी, डीटीएच कनेक्शन जैसी ऑर्गनाइज्ड सर्विसेज में बीबीपीएस के इस्तेमाल को बढ़ावा देने की चुनौती भी है।

 

2020 तक 9.4 लाख करोड़ का हो जाएगा बिल पेमेंट मार्केट

केपीएमजी की एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत का बिल पेमेंट मार्केट तेजी से रफ्तार पकड़ रहा है। 2020 तक यह मार्केट 9.4 लाख करोड़ रुपए तक पहुंचने का अनुमान है। वहीं 2016 तक इस मार्केट का साइज लगभग 5.85 लाख करोड़ रुपए का था, जिसमें 70 फीसदी बिलों का पेमेंट कैश या चेक के माध्यम से किया जाता था।

फिलहाल भारत का बिल पेमेंट मार्केट बैंकों या ई वालेट कंपनियों के एग्रीगेटर बेस्ड मॉडल पर आधारित है।

 

ई-वालेट से ग्रोथ को मिली रफ्तार

केपीएमजी की रिपोर्ट के मुताबिक इंटरनेट की पहुंच और स्मार्टफोन का यूज बढ़ने के साथ ही पेटीएम, फोनपे, फ्रीचार्ज, मोबिक्विक जैसी नई कंपनियों को बिल पेमेंट मार्केट में खासा बढ़ावा मिला। यह वित्त वर्ष 2010 से 2015 के बीच इस मार्केट की 15.5 फीसदी सालाना ग्रोथ से भी जाहिर होता है।

 

अनऑर्गनाइज्ड सर्विसेज को जोड़ना होगा चैलेंजिंग

केपीएमजी के मुताबिक, हालांकि यह ग्रोथ संतोषजनक नहीं है। इसके लिए अनऑर्गनाइज्ड सर्विसेज को बिल पेमेंट मार्केट से जोड़ना खासा जरूरी है। ये सेक्टर इस प्रकार हैं-

-देश में पीएनजी कनेक्शंस की संख्या लगभग 36.1 लाख है।

-डीटीएच कनेक्शंस की संख्या लगभग 6.3 करोड़ है।

-मोबाइल कनेक्शंस (प्रीपेड और पोस्टपेड दोनों) की संख्या 120 करोड़ से ज्यादा है।

-32.4 करोड़ से ज्यादा एक्टिव ब्रॉडबैंड यूजर्स हैं।

-पावर सेक्टर में हर महीने 18 करोड़ बिल जारी होते हैं, लेकिन कुल पेमेंट का महज 10 फीसदी डिजिटल चैनल से जमा होते हैं।

 

डेढ़ साल पहले हुई थी शुरुआत

डेढ़ साल पहले आरबीआई ने देश भर के कंज्यूमर्स को सरल और इंटरऑपरेबल बिल पेमेंट सर्विसेज उपलब्ध कराने के लिए बीबीपीएस की शुरुआत की थी। इस सिस्टम के माध्यम से इलेक्ट्रिसिटी, वाटर, गैस, टेलिकॉम और डीटीएच जैसी रोजमर्रा की यूटिलिटी सर्विसेज के बिल जमा किए जा सकते हैं। बीबीपीएस पर कैश, कार्ड (क्रेडिट, डेबिट कार्ड), आईएमपीएस, यूपीआई, इंटरनेट बैंकिंग, यूपीआई और वालेट्स के माध्यम से पेमेंट के विकल्प मौजूद हैं।

 

 

और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

Trending

NEXT STORY

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.