बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Bankingबिलिंग के लिए सरकार लगा रही BBPS पर दांव, 2 साल में 9.4 लाखCr की होगी इंडस्ट्री

बिलिंग के लिए सरकार लगा रही BBPS पर दांव, 2 साल में 9.4 लाखCr की होगी इंडस्ट्री

बिलिंग सिस्टम को सरल बनाने के लिए शुरू किए गए बीबीपीएस सिस्टम पर अब सरकार बड़ा दांव लगाने की तैयारी कर रही है।

1 of

नई दिल्ली. बिलिंग सिस्टम को सरल बनाने के लिए शुरू किए गए भारत बिल पेमेंट सिस्टम (बीबीपीएस) पर अब सरकार बड़ा दांव लगाने की तैयारी कर रही है। इसकी वजह इस इंडस्ट्री की ग्रोथ है, जिसके 2020 तक यानी अगले दो साल में 9.4 लाख करोड़ रुपए होने का अनुमान है। वहीं सरकार के सामने पीएनजी, डीटीएच कनेक्शन जैसी ऑर्गनाइज्ड सर्विसेज में बीबीपीएस के इस्तेमाल को बढ़ावा देने की चुनौती भी है।

 

2020 तक 9.4 लाख करोड़ का हो जाएगा बिल पेमेंट मार्केट

केपीएमजी की एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत का बिल पेमेंट मार्केट तेजी से रफ्तार पकड़ रहा है। 2020 तक यह मार्केट 9.4 लाख करोड़ रुपए तक पहुंचने का अनुमान है। वहीं 2016 तक इस मार्केट का साइज लगभग 5.85 लाख करोड़ रुपए का था, जिसमें 70 फीसदी बिलों का पेमेंट कैश या चेक के माध्यम से किया जाता था।

फिलहाल भारत का बिल पेमेंट मार्केट बैंकों या ई वालेट कंपनियों के एग्रीगेटर बेस्ड मॉडल पर आधारित है।

 

ई-वालेट से ग्रोथ को मिली रफ्तार

केपीएमजी की रिपोर्ट के मुताबिक इंटरनेट की पहुंच और स्मार्टफोन का यूज बढ़ने के साथ ही पेटीएम, फोनपे, फ्रीचार्ज, मोबिक्विक जैसी नई कंपनियों को बिल पेमेंट मार्केट में खासा बढ़ावा मिला। यह वित्त वर्ष 2010 से 2015 के बीच इस मार्केट की 15.5 फीसदी सालाना ग्रोथ से भी जाहिर होता है।

 

अनऑर्गनाइज्ड सर्विसेज को जोड़ना होगा चैलेंजिंग

केपीएमजी के मुताबिक, हालांकि यह ग्रोथ संतोषजनक नहीं है। इसके लिए अनऑर्गनाइज्ड सर्विसेज को बिल पेमेंट मार्केट से जोड़ना खासा जरूरी है। ये सेक्टर इस प्रकार हैं-

-देश में पीएनजी कनेक्शंस की संख्या लगभग 36.1 लाख है।

-डीटीएच कनेक्शंस की संख्या लगभग 6.3 करोड़ है।

-मोबाइल कनेक्शंस (प्रीपेड और पोस्टपेड दोनों) की संख्या 120 करोड़ से ज्यादा है।

-32.4 करोड़ से ज्यादा एक्टिव ब्रॉडबैंड यूजर्स हैं।

-पावर सेक्टर में हर महीने 18 करोड़ बिल जारी होते हैं, लेकिन कुल पेमेंट का महज 10 फीसदी डिजिटल चैनल से जमा होते हैं।

 

डेढ़ साल पहले हुई थी शुरुआत

डेढ़ साल पहले आरबीआई ने देश भर के कंज्यूमर्स को सरल और इंटरऑपरेबल बिल पेमेंट सर्विसेज उपलब्ध कराने के लिए बीबीपीएस की शुरुआत की थी। इस सिस्टम के माध्यम से इलेक्ट्रिसिटी, वाटर, गैस, टेलिकॉम और डीटीएच जैसी रोजमर्रा की यूटिलिटी सर्विसेज के बिल जमा किए जा सकते हैं। बीबीपीएस पर कैश, कार्ड (क्रेडिट, डेबिट कार्ड), आईएमपीएस, यूपीआई, इंटरनेट बैंकिंग, यूपीआई और वालेट्स के माध्यम से पेमेंट के विकल्प मौजूद हैं।

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट