बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Bankingलोन न चुकाने वालों के छपेंगे अखबाराें में फोटो, फाइनेंस मिनिस्‍ट्री का सरकारी बैंकों को निर्देश

लोन न चुकाने वालों के छपेंगे अखबाराें में फोटो, फाइनेंस मिनिस्‍ट्री का सरकारी बैंकों को निर्देश

जानबूझ कर कर्ज न चुकाने वाले लोगों को नाम अब अखबारों में फोटो के साथ्‍ा छापे जाएंगे।

1 of

 

नई दिल्‍ली. जानबूझ कर कर्ज न चुकाने वाले लोगों को नाम अब अखबारों में फोटो के साथ्‍ा छापे जाएंगे। सरकार ने बैंकों से ऐसा करने को कहा है। सरकार का कहना है कि ऐसे लोगों के फोटो के साथ पूरा विवरण बैंक अखबार में छपवाएं।

 

 

फाइनेंस मिनिस्‍ट्री ने लिखा लेटर

फाइनेंस मिनिस्‍ट्री ने इस संबंध में बैंकों को पत्र लिखा है। यह पत्र सभी सरकारी बैंकों को भेजा गया है। इस पत्र में लिखा है कि सभी बैंक फोटो के साथ ऐसे डिफाल्‍टर्स का विवरण अखबार में छापने के बारे में अपने बोर्ड से अप्रूवल लें। सूत्रों के अनुसार इस पत्र में बैंकों को सलाह दी गई है वह अपने अपने बोर्ड ऑफ डायरेक्‍टर्स से इस बात का साफ साफ अ्प्रूवल लें कि विलफुल डिफाल्‍टर्स का विवरण के साथ फोटो अखबारों में छापा जाए।

 

 

9 हजार से ज्‍यादा हैं ऐसे डिफाल्‍टर्स

कर्ज लेने के बाद न जानबूझ कर न चुकाने वाले ऐसे डिफल्‍टर्स की संख्‍या दिसबंर 2017 तक करीब 9,063 थी। बैंकों के अनुसार इन लोगों की सामर्थ है कि यह कर्ज चुका सकें, फिर भी यह नहीं चुका रहे हैं। ऐसे डिफाल्‍टर्स को बैंक विलफुल डिफाल्‍टर्स कहते हैं। लोकसभा में इस एक लिखित उत्‍तर में सरकार ने बताया था कि ऐसे डिफाल्‍टर्स के पास बैंकों का 1,10,050 करोड़ रुपए फंसा हुआ है।

 

इससे पहले सरकार पासपोर्ट को कर चुकी है जरूरी

इससे पहले सरकार 50 करोड़ रुपए से ज्‍यादा के लोन पर पासपोर्ट को जरूरी बना चुकी है। सरकार का मानना है कि इससे अगर लोन लेने के बाद डिफाल्‍ट की स्थिति में विदेश भागना चाहे तो उसे रोकना और पकड़ाना आसान हो जाएगा। बैंकों से कहा गया है कि 50 करोड़ रुपए से ज्‍यादा के लोन वालों के पासपोर्ट के डिटेल को 45 दिनों में एकत्र कर लिया जाए।

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट