Advertisement
Home » इकोनॉमी » बैंकिंगFM Goyal announces committee to set up Asset Reconstruction Co

बैंकिंग सेक्टर में एक और रिफॉर्म की तैयारी, एसेट रिकंस्ट्रक्शन कंपनी के लिए बनाया पैनल

सरकार ने स्ट्रेस्ड अकाउंट्स के तेज समाधान के लिए एसेट रिकंस्ट्रक्शन कंपनी (एआरसी) बनाने की कोशिशें तेज कर रही हैं।

FM Goyal announces committee to set up Asset Reconstruction Co

 

मुंबई. सरकार ने स्ट्रेस्ड अकाउंट्स के तेज समाधान के लिए एसेट रिकंस्ट्रक्शन कंपनी (एआरसी) बनाने की कोशिशें तेज कर रही हैं। इस क्रम में फाइनेंस मिनिस्टर पीयूष गोयल ने शुक्रवार एक कमेटी बनाने का ऐलान किया, जो एआरसी के गठन के लिए दो सप्ताह के भीतर सिफारिशें देगी।

 

 

पीएसबी के पीछे मजबूती से खड़ी है सरकार

सरकार के स्वामित्व वाले बैंकों के प्रमुखों के साथ मीटिंग के बाद गोयल ने कहा कि सरकार ‘21 पब्लिक सेक्टर के बैंकों (पीएसबी) में से हरेक के पीछे पूरी मजबूती से खड़ी हुई है।’ रिपोर्टर्स से बातचीत में उन्होंने कहा कि पीएनबी के नॉन एग्जीक्यूटिव चेयरमैन सुनील मेहता की अगुआई वाली कमेटी स्ट्रेस्ड अकाउंट्स के जल्द से जल्द समाधान के लिए एक एसेट रिकंस्ट्रक्शन कंपनी या एसेट मैनेजमेंट कंपनी की स्थापना के लिे दो सप्ताह में सिफारिशें भेजेगी।

Advertisement

 

 

अधिकांश स्ट्रेस्ड एसेट्स की हुई पहचान

उन्होंने कहा कि अधिकांश स्ट्रेस्ड एसेट्स की पहचान कर ली गई है, जो एआरसी या एएमसी स्ट्रक्चर में फिट हो सकती हैं।

बैंक तेजी से फैसले लेने और पारदर्शी तरीके से स्ट्रेस्ड अकाउंट्स के समाधान में मदद के लिए बाहरी एक्सपर्ट्स के साथ निरीक्षण समितियों पर विचार करेंगे।

 

 

अच्छे लेनदारों को नहीं होगी क्रेडिट की दिक्कत

गोयल ने कहा कि मीटिंग के दौरान मुख्य रूप से क्रेडिट फ्लो बनाए रखने और अच्छे लेनदारों को क्रेडिट फ्लो सुनिश्चित होने में किसी परेशानी से बचाने पर मुख्य रूप से चर्चा हुई।

उन्होंने कहा कि इकोनॉमी को सपोर्ट देने के लिए रिस्क्स को कम करने की जरूरत है। साथ ही सभी बैंकर्स ने स्ट्रेस्ड अकाउंट्स के तेज समाधान के लिए एक मेकैनिज्म तैयार करने का अनुरोध किया।

Advertisement

उन्होंने यह भी कहा कि पीएसबी हेड्स के सभी खाली पदों को अगले 30 दिनों में भर दिया जाएगा।

 

 

एनपीए की ईमानदारी से होगी पहचान

उन्होंने कहा कि मीटिंग में गवर्नैंस प्रोसेस को मजबूत बनाने और एनपीए या बैड लोन्स की ईमानदारी से पहचान किए जाने पर भी चर्चा हुई। उन्होंने भरोसा दिलाया कि प्रोसेस को दुरुस्त करने और कस्टमर इंटरेस्ट की रक्षा की जाएगी।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement