बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Bankingमूडीज के बाद फिच ने भी घटाई PNB की रेटिंग, क्रेडिट प्रोफाइल कमजोर होने का दिखा असर

मूडीज के बाद फिच ने भी घटाई PNB की रेटिंग, क्रेडिट प्रोफाइल कमजोर होने का दिखा असर

मूडीज के बाद फिच रेटिंग्स ने भी फ्रॉड से प्रभावित पीएनबी की वायबिलिटी रेटिंग सोमवार को डाउनग्रेड कर दिया है।

1 of

 

 

नई दिल्ली. मूडीज के बाद फिच रेटिंग्स ने भी फ्रॉड से प्रभावित पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) की वायबिलिटी रेटिंग सोमवार को डाउनग्रेड कर दी। रेटिंग एजेंसी ने इसकी वजह उसका कमजोर क्रेडिट प्रोफाइल और निगरानी के स्तर पर खामियों को बताया है। फिच ने पीएनबी की वायबिलिटी रेटिंग (वीआर) को डाउनग्रेड करते हुए बी से बीबी निगेटिव कर दिया है। साथ ही बैंक को ‘रेटिंग वाच निगेटिव’ (आरडब्ल्यूएन) कैटेगरी में बरकरार रखा है। इससे पहले आईसीआरए ने भी पीएनबी की रेटिंग को डाउनग्रेड कर दिया था।

 

 

दो पायदान डाउनग्रेड की रेटिंग

रेटिंग एजेंसी फिच ने कहा, ‘पीएनबी की वीआर को दो पायदान डाउनग्रेड किए जाने का मतलब उसके स्टैंडअलोन क्रेडिट प्रोफाइल का कमजोर होना है। इसकी मुख्य वजह बैंक के कोर कैपिटल रेश्यो में कमी रही है, जो फिच के अनुमान से ज्यादा है।’

वीआर से बैंक के मौजूदा ऑपरेशन को जारी रखने और फेल होने से बचने की क्षमता का पता चलता है।

 

 

तेजी से बढ़े बैड लोन्स

कोर कैपिटलाइजेशन में कमजोरी से पीएनबी के नॉन परफॉर्मिंग लोन्स (एनपीएल) में तेज बढ़ोत्तरी दर्ज की गई, जिसमें फरवरी 2018 में सामने आया 2.2 अरब डॉलर का फ्रॉड ट्रांजैक्शन भी शामिल है। इसके चलते बैंक की क्रेडिट कॉस्ट में भी बढ़ोत्तरी दर्ज की गई, जिसके चलते मार्च, 2018 में समाप्त वित्त वर्ष के दौरान पीएनबी को भारी घाटा हुआ था।

 

 

कमजोर मैनेजमेंट का दिखा असर

फिच ने कहा, ‘इस गिरावट से कमजोर मैनेजमेंट और निगरानी में खामियों का पता चलता है। इनके समाधान के प्रयास बैंक पहले ही शुरू कर चुका है।’ आरडब्ल्यूएन से फिच की उम्मीदों का भी पता चलता है, जो एसेट क्वालिटी, अर्निंग्स और प्रॉफिटेबिलिटी पर प्रेशर से संबंधित हैं और अगली कुछ तिमाहियों के दौरान ऐसा जारी रहने की उम्मीद है।

 

 

मूडीज ने भी किया था PNB को डाउनग्रेड

रेटिंग एजेंसी मूडीज ने भी लग भग 15 दिन पहले पीएनबी की रेटिंग बीएए 3/पी-3 से घटाकर बीए1/एनपी कर दी थी। वहीं रेटिंग एजेंसी ने रेटिंग्स आउटलुक को स्टेबल रखा, लेकिन बैंक के बेसलाइन क्रेडिट एसेसमेंट (बीसीए) और एडजस्टेड बीसीए को डाउनग्रेड करके बीए 3 से बी 1 कर दिया है। रेटिंग एजेंसी ने एक रिपोर्ट में कहा, ‘बैंक के बीसीए और रेटिंग्स को डाउनग्रेड किए जाने से  बैंक के स्टैंडअलोन प्रोफाइल विशेष कैपिटल पोजिशन पर फ्रॉड ट्रांजैक्शंस के नकारात्मक असर का पता चलता है।’

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट