Home » Economy » BankingCBI questions a former Deputy Governor of RBI

PNB फ्रॉड : CBI ने RBI के पूर्व डिप्‍टी गवर्नर हारुन राशिद से की पूछताछ

PNB फ्रॉड मामले में भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के पूर्व डिप्‍टी गवर्नर से CBI ने पूछताछ की है।

1 of

 

नई दिल्‍ली। PNB फ्रॉड मामले में भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के पूर्व डिप्‍टी गवर्नर हारुन राशिद खान से CBI ने पूछताछ की है। पीएनबी में पिछले दिनों 12 हजार करोड़ रुपए से ज्‍यादा का यह घोटाला हीरा कारोबारी नीरव मोदी और उनके मामा मेहुल चौकसे ने किया था। फिलहाल यह दोनों कारोबारी विदेश भाग गए हैं। इस मामले में सरकार की कई एजेंसियां मिल कर जांच कर रही है। इसी के तहत शुक्रवार RBI के पूर्व डिप्‍टी गवर्नर खान से पूछताछ की गई है।

 

मामले पर जानकारी मांगी

जानकारी के अनुसार सीबीआई ने उनसे पीएनबी फ्रॉड के बारे में जानकारी ली है। खान उस वक्‍त रिजर्व बैंक में कार्यरत थे। सूत्रों को कहना है कि सीबीआई ने इस मामले को लेकर आरबीआई की पॉलिसी और इस मामले पर  क्‍लेरिटी मांगी।

 
 

सीबीआई ने बढ़ाया जांच का दायरा

इससे पहले सीबीआई ने पीएनबी और आईसीआईसीआई के 4 बड़े अफसरों से पूछताछ की। इनमें पीएनबी की पूर्व मैनेजिंग डायरेक्टर और आईसीआईसीआई के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर भी शामिल हैं। वहीं, सीबीआई के मुताबिक, पीएनबी ने 1,251 करोड़ रु. के नए फ्रॉड की जानकारी दी है, जिससे हीरा कारोबारी नीरव मोदी और गीतांजलि ग्रुप के मेहुल चौकसी से जुड़े घोटाले की रकम बढ़कर 12,672 करोड़ हो गई है।

 

 

पीएनबी बैंक के आला अफसरों से भी पूछताछ

सीबीआई पंजाब नेशनल बैंक की पूर्व मैनेजिंग डायरेक्टर ऊषा अनंत और दो मौजूदा जनरल मैनेजर्स को मुंबई ऑफिस बुलाया था। इसके अलावा गीतांजलि ग्रुप को लोन देने के मामले में आईसीआईसीआई बैंक के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर एनएस. कन्नन से भी पूछताछ की गई। बताया जा रहा है कि डायरेक्टर बैंकों के संघ के लीडर हैं और इन्हीं की देखरेख में गीतांजलि को करोड़ों रुपए का लोन दिया गया।

 

 

PNB एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर से दो दिन पूछताछ हुई

पिछले दिनों (24-25 फरवरी) सीबीआई पीएनबी के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर केवी ब्रह्मजी राव से दो दिन तक पूछताछ कर चुकी है। ब्रह्मजी बैंक में मुंबई जोन के रिस्क मैनेजमेंट डिविजन के प्रभारी हैं, उन्हीं के अंडर आने वाली एक ब्रांच में घोटाला हुआ। हालांकि, जांच एजेंसी के सूत्रों ने साफ किया था कि ब्रह्मजी इस केस में आरोपी नहीं हैं। उनसे पूछताछ कर समझने की कोशिश की जा रही है कि बैंक ने कैसे घोटाले का पता लगाया। इसके बाद गड़बड़ी रोकने के लिए क्या कदम उठाए?

 

 

फ्रॉड की रकम 20 हजार करोड़ तक होने का अनुमान

वहीं प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 16 सरकारी बैंकों से नीरव मोदी और मेहुल चौकसी को दिए सभी लोन की पूरी डिटेल जांचने के बाद अनुमान जताया है कि यह घोटाला 20 हजार करोड़ रुपए तक जा सकता है।


 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट