विज्ञापन
Home » Economy » BankingMPC minutes indicate beginning of a rate cut cycle: Analysts

MPC मिनट्सः शुरू हो सकता ब्याज दर में कटौती का दौर, RBI गवर्नर ने दिए संकेत

ग्लोबल ब्रोकरेज ने कहा-ग्रोथ को लेकर ज्यादा चिंतित नजर आ रहे आरबीआई गवर्नर

MPC minutes indicate beginning of a rate cut cycle: Analysts

  
मुंबई.
मॉनिट्री पॉलिसी कमेटी (MPC) की पिछली मीटिंग के मिनट्स (विवरण) से नए गवर्नर शक्तिकांत दास (Shaktikanta Das) की अगुआई में रिजर्व बैंक (RBI) के रुख में नरमी के संकेत मिल रहे हैं। ऐसे में भविष्य में ब्याज दरों में कटौती देखने को मिल सकती है। एमपीसी के मिनट्स जारी होने के बाद कई एनालिस्ट ने कुछ ऐसे ही विचार व्यक्त किए हैं। आरबीआई (RBI) ने बैंकर से गवर्नर बने शक्तिकांत दास की अगुआई में हुई एमपीसी के मिनट्स गुरुवार को ही जारी किए थे। इसमें दास के महंगाई में नरमी के साथ ही  ग्रोथ की चिंताओं को दूर करने की ओर झुकाव देखने को मिला था।

 

रेट कट का शुरू हो सकता है दौर

जापान की ब्रोकरेज फर्म नॉमुरा (Nomura) ने शुक्रवार को कहा, ‘दास ग्रोथ की चिंताओं पर खासे सतर्क दिखे। उन्होंने कहा कि आरबीआई को ग्रोथ की चिंताओं को दूर करने और उसे मजबूती की राह पर लाने के लिए कई कदम उठाने की जरूरत है।’
नॉमुरा ने कहा, ‘हमारी राय में पॉलिसी बॉडी की भाषा से संकेत मिले कि वह एक बार में रेट कट पर विचार नहीं कर रही है, बल्कि इसकी बजाय ब्याज में कमी का एक चक्र शुरू हो सकता है।’

 

अप्रैल में घट सकती हैं ब्याज दर

बैंक ऑफ अमेरिका मेरिल लिंच ने कहा कि 4 अप्रैल के पॉलिसी रिव्यू में ब्याज दरों में कटौती देखने को मिलेगी, क्योंकि महंगाई दर फरवरी 2.5 फीसदी के आसपास रहने का अनुमान है जो रेट कट के लिए खासा सहज लेवल है। अमेरिकी इन्वेस्टमेंट बैंकर ने मिनट्स को ‘नरम’ करार देते हुए कहा कि आरबीआई अगले पॉलिसी रिव्यू में 2018 में की गई 0.50 फीसदी की बढ़ोतरी में से 0.25 फीसदी की कमी करेगी।

 

महंगाई में गिरावट से मिलेगी राहत

घरेलू ब्रोकरेज कोटक सिक्युरिटीज ने कहा कि एमपीसी मिनट्स से अप्रैल के रिव्यू में एक और रेट कट के संकेत मिलते हैं, क्योंकि महंगाई में गिरावट का रुझान बना हुआ है। 6 सदस्यों वाली एमपीसी (MPC) ने 4ः2  के वोट से 25 बीपीसी यानी 0.25 फीसदी के रेट कट की सिफारिश की थी। इनमें डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य और एक बाहरी सदस्य चेतन घाटे ने यथास्थिति बनाए रखने के पक्ष में वोट किया था।
 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन