विज्ञापन
Home » Economy » BankingYou can open these 5 types saving bank account in state bank of india

SBI के इन 5 खातों में नहीं रखना पड़ता मिनिमम बैलेंस, साथ में मिलती हैं ढेर सारी सुविधाएं

मुफ्त मिलता है एक लाख रुपए तक का एक्सीडेंटल क्लेम

1 of

नई दिल्ली। यदि आप अपने बचत खाते में मिनिमम बैलेंस नहीं होने के कारण होने वाली कटौती से परेशान हैं तो देश का सबसे बड़ा सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) आपके लिए 5 स्पेशल खाते लेकर आया है। खास बात यह है कि इन खातों में मिनिमम बैलेंस रखने की कोई बाध्यता नहीं है। यानी अगर आपके खाते में महीनों तक भी कोई रुपया नहीं रहता है तो बैंक आपसे किसी भी प्रकार का शुल्क नहीं वसूलेंगे। इन खातों को एकल या संयुक्त रूप से खोला जा सकता है। इन खातों की जीरो बैलेंस खाता भी बोला जाता है। आइए आपके बताते हैं इन खातों के बारे में

1- बेसिक सेविंग बैंक डिपाजिट (BSBD) : जो लोग अपने बचत खाते में न्यूनतम बैलेंस नहीं रख पाते हैं, उनके लिए  एसबीआई ने बेसिक सेविंग बैंक डिपाजिट खाता लान्च किया है। इस खाते को देश का कोई भी व्यक्ति वैध पहचान पत्र के जरिए खोल सकता है। इस खाते को एकल या संयुक्त दोनों तरीकों से खोला जा सकता है। इस खाते में न्यूनतम या अधिकतम राशि रखने की कोई सीमा नहीं है। 

2- प्रधानमंत्री जनधन योजना खाता : प्रधानमंत्री जनधन योजना के तहत भी जीरो बैलेंस का खाता खोला जा सकता है।  इस खाते पर आपको पासबुक, रुपे डेबिट कार्ड और चेकबुक जैसी सुविधाएं भी मुफ्त मिलती है। प्रधानमंत्री जनधन खाते पर खाताधारक को एक लाख रुपए तक का एक्सीडेंटल क्लेम भी मिलता है। इसके अलावा सरकारी योजनाओं का लाभ लेने के लिए भी इस खाते का इस्तेमाल किया जा सकता है। इस खाते में मिनिमम बैलेंस नहीं होने पर कोई शुल्क नहीं देना पड़ता है।

3- बच्चों का खाता : एसबीआई में बच्चों ने नाम पर  'पहला कदम' और 'पहली उड़ान' खाता खोला जा सकता है। यह दोनों खाते जीरों बैलेंस वाले हैं। इन खातों को 10 साल से 18 साल के बच्चों के नाम  पर खोला जा सकता हैं। इन खातों पर मिनिमम बैलेंस नहीं रहने पर कोई शुल्क नहीं लगता है। एसबीआई ने यह खाते बच्चों को बचत का महत्व बताने के उद्देश्य से शुरू किए हैं।

 

4- सैलरी अकाउंट : यदि आप सरकारी या प्राइवेट संस्था में नौकरी करते हैं और आपका एसबीआई में सैलरी खाता है तो इस पर भी जीरो बैलेंस का लाभ मिलता है। इन खातों में मिनिमम बैलेंस मेंटेन करना जरुरी नहीं है। सैलरी अकाउंट पर बैंक की ओर से एनईएफटी/आरटीजीएस ट्रांजेक्शन, डिमांड ड्राफ्ट, एसएमएस जैसी सुविधाओं के साथ अनलिमिटेड एटीएम ट्रांजेक्शन जैसी सुविधाएं मुफ्त उपलब्ध कराई जाती है। 

5- पेंशन अकाउंट: यदि आपको केंद्र, राज्य सरकार या किसी अन्य संस्था से पेंशन मिलती है तो एसबीआई में ऐसे खातों पर भी मिनिमम बैलेंस वाले नियम लागू नहीं होते हैं। इन खातों को भी जीरो बैलेंस वाले खाते की श्रेणी में रखा जाता है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss