विज्ञापन
Home » Economy » BankingRBI has no data of note ban

नोटबंदी के दौरान इन 23 जगह खपा दिए 500 और 1000 के नोट, किसी को नही लगी भनक

RBI ने आंकड़े न होने की कही बात 

RBI has no data of note ban

RBI has no data of note ban: भारत में नोटबंदी के दौरान 23 जगहों पर 500 और 1000 के पुराने नोटों को खपा दिया गया। यह वो नोट थे, जिन्हें ब्लैक मनी के तौर पर रखा गया था। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने कहा है कि नोटबंदी के दौरान पेट्रोल पंप, रेलवे टिकट और बिजली-पानी आदि के बिलों के भुगतान में लोगों द्वारा इस्तेमाल किए गए 500 और 1,000 रुपये के पुराने नोटों का उसके पास कोई आंकड़ा नहीं है। 

नई दिल्ली. भारत में नोटबंदी के दौरान 23 जगहों पर 500 और 1000 के पुराने नोटों को खपा दिया गया। यह वो नोट थे, जिन्हें ब्लैक मनी के तौर पर रखा गया था। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने कहा है कि नोटबंदी के दौरान पेट्रोल पंप, रेलवे टिकट और बिजली-पानी आदि के बिलों के भुगतान में लोगों द्वारा इस्तेमाल किए गए 500 और 1,000 रुपये के पुराने नोटों का उसके पास कोई आंकड़ा नहीं है। 

 

पुराने को बदलकर वापस चलन में लाया गया 

ऐसा माना जा रहा है कि इस तरह के भुगतानों के जरिए 500 और 1000 के पुराने नोटों को बदलकर वापस चलन में आ गए। इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक RBI ने सूचना के अधिकार (RTI) के तहत मांगी गई एक जानकारी के जवाब में यह बात कही। 

15 दिसंबर 2016 से पुराने नोटों का पूरी तरह बंद हो गया था इस्तेमाल

सरकार ने 25 नवबंर 2016 से 500 और 1,000 रुपए के पुराने नोट बदलने पर रोक लगा दी थी और इन सेवाओं के लिए केवल सिर्फ 500 का पुराना नोट स्वीकार करने की अनुमति दी थी। यह अनुमति 15 दिसंबर 2016 तक के लिए दी गई थी। लेकिन 2 दिसंबर 2016 से पेट्रोल पंप और हवाई अड्डों पर टिकट खरीदने में 500 रुपए के पुराने नोटों का इस्तेमाल भी रोक दिया था.

99.3% पुरानी करेंसी वापस सिस्टम में आई

RTI के जवाब में रिजर्व बैंक ने कहा कि बिलों के भुगतान के लिए इस्तेमाल किए गए पुराने नोटों के संबंध में हमारे पास जानकारी उपलब्ध नहीं है. आरबीआई ने पिछले साल अगस्त में कहा था कि 500 और 1,000 रुपये के 99.3 फीसदी नोट बैंकिंग प्रणाली में वापस आ गए हैं. नोटबंदी के समय 500 और 1,000 रुपये मूल्य वाले 15.41 लाख करोड़ रुपये के नोट चलन में थे. इनमें से 15.31 लाख करोड़ रुपये के नोट बैंकों के पास वापस आ चुके हैं। 

 

इन सेवाओं में इस्तेमाल हुए पुरान नोट

सरकारी अस्पताल 

रेल 

सार्वजनिक परिवहन 

हवाई अड्डों

विमान टिकट

दुग्ध केंद्रों

श्मशान/कब्रिस्तान 

पेट्रोल पंप

मेट्रो रेल टिकट 

डॉक्टर के पर्चे पर सरकारी और निजी फार्मेसी से दवा खरीदना 

एलपीजी सिलेंडर 

रेलवे खानपान 

बिजली और पानी के बिल 

एएसआई स्मारकों के प्रवेश टिकट 

हाइवे टोल पर शुल्क

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन