बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Banking30-31 मई को सरकारी बैंक कर्मी हड़ताल पर, समझौता मीटिंग रही असफल

30-31 मई को सरकारी बैंक कर्मी हड़ताल पर, समझौता मीटिंग रही असफल

इस हड़ताल को रोकने के लिए चीफ लेबर कमिश्‍नर ने बैंक कर्मियों के साथ समझौते के लिए मीटिंग भी बुलाई थी लेकिन वह असफल रही।

30-31 मई को सरकारी बैंक कर्मी हड़ताल पर, समझौता मीटिंग रही असफल

नई दिल्‍ली. 30 और 31 मई को पूरे देश में सरकारी बैंक कर्मचारी हड़ताल पर रहेंगे। बैंक कर्मचारियों के वेतन में जल्‍द बढ़ोत्‍तरी की मांग और इंडियन बैंक्‍स एसोसिएशन (IBA) की ओर से केवल 2 फीसदी की मामूली बढ़ोत्‍तरी की पेशकश के खिलाफ यह हड़ताल   की जा रही है।

 

इस 2 दिन की हड़ताल को रोकने के लिए चीफ लेबर कमिश्‍नर ने बैंक कर्मियों के साथ समझौते के लिए एक मीटिंग भी बुलाई थी लेकिन वह असफल रही। वहीं वेतन बढ़ोत्‍तरी पर कर्मचारियों को IBA की ओर से भी कोई नई पेशकश नहीं की गई। इसी को देखते हुए यूनाईटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन्‍स (UFBU) ने दो दिन की राष्‍ट्रव्‍यापी हड़ताल को नहीं रोकने का फैसला किया है।

 

UFBU के तहत नौ यूनियन आती हैं। इनमें ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स कन्‍फेडरेशन (AIBOC), ऑल इंडिया बैंक इंप्‍लॉइज एसोसिएशन (AIBEA), नेशनल ऑर्गेनाइजेशन ऑफ बैंक वर्कर्स (NOBW) भी शामिल हैं। 

 

इसलिए खफा हैं बैंक यूनियन्‍स 

बता दें कि बैंक कर्मचारियों के वेतन में नवंबर 2017 के बाद से बढ़ोत्‍तरी नहीं हुई है। डिपार्टमेंट ऑफ फाइनेंशियल सर्विसेज, वित्‍त मंत्रालय और भारत सरकार की ओर से IBA को बैंक कर्मचारियों के वेतन में जल्‍द बढ़ोत्‍तरी के लिए दो बार लेटर लिखा था। लेकिन IBA ने बातचीत की प्रक्रिया में देरी की और मीटिंग के 10 राउंड में केवल मैनेजमेंट और नॉन-फाइनेंशियल मुद्दों पर चर्चा की गई। उसके बाद 5 मई 2018 की मीटिंग में IBA ने केवल 2 फीसदी की वेतन वृद्धि का प्रस्‍ताव रखा, जिसे बैंक यूनियन्‍स ने अस्‍वीकार कर दिया। इसके बाद उन्‍होंने 30 और 31 मई को राष्‍ट्रव्‍यापी हड़ताल का फैसला लिया। 

 

सरकार दे दखल 

नेशनल ऑर्गेनाइजेशन ऑफ बैंक वर्कर्स (NOBW) का कहना है कि हड़ताल को रोकने के लिए सरकार को IBA को बैंक कर्मचारियों के वेतन में जल्‍द से जल्‍द उचित बढ़ोत्‍तरी किए जाने को कहना चाहिए।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट