बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Bankingअलर्ट : CVV नंबर सहि‍त लीक हो गया PNB के ग्राहकों का डाटा

अलर्ट : CVV नंबर सहि‍त लीक हो गया PNB के ग्राहकों का डाटा

अगर आपके पास पंजाब नेशन बैंक का डेबिट या क्रेडि‍ट कार्ड है तो आपको चिंता करने की जरूरत है।

1 of
नई दिल्‍ली। अगर आपके पास पंजाब नेशन बैंक का डेबिट या क्रेडि‍ट कार्ड है तो आपको  चिंता करने की जरूरत है। पीएनबी को एक और झटका लगा है जि‍सका सीधा असर आप पर पड़ सकता है। इसके करीब 10 हजार क्रेडिट और डेबिट कार्ड का डेटा लीक हो गया है। डेटा में थोड़ी बहुत इतनी डि‍टेली लीक हो गई है कि‍ कोई भी उसका यूज कर पैसे नि‍काल सकता है या खरीददारी कर सकता है। सुरक्षा में हुई इस बड़ी चूक को बैंक ने स्‍वीकार कर लि‍या है।  एशि‍या टाइम्‍स की रि‍पोर्ट के मुताबि‍क, सुरक्षा एक्‍सपर्ट का मानना है कि कम से कम तीन महीने तक एक वेबइसाट में इस सरकारी बैंक के ग्राहकों का डाटा बि‍क्री के लि‍ए उपलब्‍ध था। रि‍पोर्ट कहती है कि बैंक को इसकी जानकारी क्‍लाउडसेक इंफॉर्मेशन सि‍क्‍युरि‍टी के माध्‍यम से बुधवार की रात को लगी। यह कंपनी सिंगापुर में रजि‍स्‍टर्ड है और इसका ऑफि‍स बंगलुरु में है। यह कंपनी डाटा ट्रांजेक्‍शन मॉनि‍टर करती है।  आगे पढ़ें डार्क वेब पर था डाटा 

पीएनबी ने कहा, काम कर रहे हैं 
वहीं पीएनबी के चीफ इनफॉरमेशन सि‍क्‍युरि‍टी ऑफि‍सर टी डी वीरवानी ने इस बात की पुष्‍टि की है कि वह डाटा लीक होने की वजह से होने वाले कि‍सी नुकसान की रोकथाम पर काम कर रहे हैं।  पीएनबी का जो डाटा सेल के लि‍ए उपलब्‍ध था उसमें नाम, कार्ड की एक्‍सपायरी डेट, पर्सनल आइडेंटि‍फि‍केशन नंबर और कार्ड के वैरि‍फि‍केशन से जुड़ी जानकारी थी। 
सासी ने कहा कि डाटा दो हि‍स्‍सों में इंटरनेट पर बि‍क्री के लि‍ए आया। कुछ में सीवीवी नंबर भी था और कुछ बि‍ना सीवीवी नंबर के थे। जानकारी के मुताबि‍क, डाटा 29 जनवरी 2018 की तारीख लि‍ए हुए था। इसका मतलब ये हुआ कि यह डाटा हजारों मौजूदा ग्राहकों से जुड़ा है। 

 

डार्क वेब से पता चला 
रि‍पोर्ट में चीफ टेक्‍नि‍कल ऑफिसर राहुल सासी के हवाले से कहा कि कि हमारे पास एक क्रॉलर है जो डीप वेब / डार्क वेब में तैनात है। ये वो वेबसाइट हैं जो गूगल पर इंडेक्‍सड नहीं होतीं और न किसी अन्‍य सर्च इंजन पर इंडेक्‍स होती हैं। इनका इस्‍तेमाल संवेदनशील डाटा को बेचने और खरीदने के लि‍ए कि‍या जाता है। हमारा क्रॉलर डाटा की खरीद फरोख्‍त को पकड़ लेता है। अगर इसका संबंध हमारे कि‍सी ग्राहक से होता है तो हम तुरंत इसकी जानकारी बैंक को देते हैं।  आगे पढ़ें 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट