Home » Economy » Bankingभारतीय स्टेट बैंक ने बेस रेट 0.30% घटाया, अप्रैल 2016 से पहले लोन लिया है तो कम होगी EMI - SBI reduced Base Rate from 08.95% p.a. to 8.65%

SBI ने बेस रेट 0.30% घटाया, अप्रैल 2016 से पहले लोन लिया है तो कम होगी EMI

एसबीआई ने बेस रेट 8.95 फीसदी से घटाकर 8.65 फीसदी कर दिया है।

1 of

नई दिल्‍ली.  स्‍टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) ने अपने कस्टमर्स के लिए बेस रेट में 0.30% की कटौती की है। अब होम लोन के लिए यह 8.95% से घटकर 8.65% हो गया है। नई दरें 1 जनवरी से लागू हो गईं। बैंक के इस फैसले से अप्रैल, 2016 से पहले होम, ऑटो या पर्सनल लोन लेने वाले कस्टमर्स को फायदा होगा। एक अनुमान के मुताबिक, 30 लाख के लोन पर हर महीने करीब 575 रुपए ईएमआई कम हो सकती है। बता दें कि एमसीएलआर (मार्जिनल कॉस्ट लेंडिंग रेट) पर लोन लेने वालों की ईएमआई में कोई बदलाव नहीं होगा।

 

MCLR पर लोन लिया है तो फायदा नहीं मिलेगा

- कटौती का फायदा एसबीआई के सिर्फ उन्हीं कस्टमर्स को मिलेगा, जिन्होंने बेस रेट पर लोन लिया हुआ है। क्योंकि 1 अप्रैल, 2016 के बाद से सभी बैंक एमसीएलआर पर ही लोन दे रहे हैं। बता दें कि इंटरेस्ट रेट (ब्याज दर) तय करने के लिए रिजर्व बैंक ने MCLR की शुरुआत की थी।

- एसबीआई के इस कदम से करीब 80 लाख कस्‍टमर्स को फायदा होगा।  

- एसबीआई ने बेंचमार्क प्राइम लेंडिंग रेट (बीपीएलआर) भी 0.30 फीसदी घटा दिया है। 1 जनवरी से एसबीआई का बीपीएलआर 13.70 फीसदी से घटकर 13.40 फीसदी हो गया है। 

 

होम लोन पर कितना होगा फायदा?

- अगर किसी ने 30 लाख रुपए का होम लोन बेस रेट पर 20 साल के लिए लिया है तो ब्‍याज दर 0.30 फीसदी घटेगी। इससे हर महीने करीब 575 रुपए ईएमआई कम होगी।  

लोन अमाउंट (रु. में) बेस रेट (% में) लोन के साल  ईएमआई (रु. में)
30 लाख 8.95 20  26,895.38
30 लाख 8.65 20  26,320.21
- - अब EMI में बचत 575.17

(नोट- बेस रेट पर होम लोन सिर्फ आंकलन के आधार है। कस्‍टमर के होम लोन की असली ब्‍याज दर अलग हो सकती है)

 

ऑटो लोन पर कितनी बचत? 

- अगर 5 लाख रुपए का कार लोन 5 साल के लिए लिया है तो इसमें ब्‍याज दर 0.30 फीसदी कम होगी। ऐसे में ईएमआई करीब 73 रुपए घटेगी।  

लोन अमाउंट (रु. में) ब्‍याज दर (% में) लोन के साल  ईएमआई (रु. में)
5 लाख 9.65 10,537.62
5 लाख 9.35 5 10,464.32
- - अब ईएमआई में बचत 73.3
 

 

बेस रेट और MCLR में क्या अंतर है? 

 

बेस रेट: वह मिनिमम इंटरेस्‍ट रेट है, जिस पर बैंक कस्‍टमर्स को लोन दे सकते हैं। रिजर्व बैंक इसे मॉनिटर करता है कि कोई भी बैंक बेस रेट से कम पर लोन न दे पाए। एक अनुमान के मुताबिक, अभी एसबीआई के 50-60% लोन बेस रेट पर ही हैं।  

MCLR: लोन का इंटरेस्‍ट रेट तय करने के लिए आरबीआई ने अप्रैल 2016 से इसकी शुरुआत की। एमसीएलआर के तहत बैंक ब्याज दर तय कर सकते हैं, जो लोन चुकाने के लिए बाकी सालों पर निर्भर करेगी। एसबीआई का एक साल का MCLR 7.95% और तीन साल के लिए 8.10% है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट