विज्ञापन
Home » Economy » BankingSBI education loan eligibility and procedure

SBI का एजुकेशन लोन देगा आपके सपनों को उड़ान, ऐसे करें आवेदन

भारत या विदेश में कर सकते है अपनी पसंद की पढ़ाई

1 of

नई दिल्ली। आज के समय में चीजें काफी महंगी हो गई हैं। इसके साथ ही शिक्षा प्राप्त करना भी बहुत महंगा हो गया है। शिक्षा की लागत वर्तमान समय में आसमान छू रही है। इस महंगाई को देखते हुए बहुत से लोग शिक्षा के लिए लोन लेते हैं। ऐसे में अगर आप भी शिक्षा के लिए लोन लेने की सोच रहे हैं तो आपके लिए यह खबर काफी महत्वपूर्ण है। इस खबर के माध्यम से आज हम आपको बताना चाहते हैं कि शिक्षा के लिए लोन लेते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए। भारत का सबसे बड़ा बैंक भारतीय स्टेट बैंक ग्राहकों को एजुकेशन लोन देता है। SBI के एजुकेशन लोन में स्टूडेंट्स के लिए एजुकेशन लोन वेब प्लेटफॉर्म, एजुकेशन लोन स्कीम, एसबीआई हायर एजुकेशन लोन स्कीम, वोकेशनल एजुकेशन लोन शामिल है। 

SBI से लोन लेने के लिए जरूरी बातें-

SBI से लोन लेने के लिए स्टूडेंट को भारत या विदेश के किसी मान्यता प्राप्त संस्था , कॉलेज या यूनिवर्सिटी में ए़डमिशन तय होना जरूरी है। आपको बता दें कि एसबीआई स्टूडेंट लोन स्कीम के तहत छात्रों को दिए जाने वाले एजुकेशन लोन पर कोई प्रोसेसिंग फीस नहीं लगती है। 

भारत में हायर एजुकेशन के लिए कोर्स-

- यूजीसी/एआईसीटीई/आईएमसी/सरकार से मान्यता प्राप्त कॉलेज/यूनिवर्सिटी की तरफ से चलने वाले टेक्नोलॉजी कोर्स, प्रोफेशनल कोर्स में ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन में डिग्री या डिप्लोमा। 

- आईआईटी और आईआईएम जैसे इंस्टीट्यूट की तरफ से चलने वाले डिग्री और डिप्लोमा कोर्स

- डायरेक्टर जनरल ऑफ सिविल एविएशन / शिपिंग या इससे संबंधित इंस्टीट्यूट से मान्यता प्राप्त डिग्री / डिप्लोमा कोर्स जैसे एरोनॉटिकल, पायलट ट्रेनिंग, शिपिंग आदि।

विदेश में हायर एजुकेशन के लिए कोर्स-

- मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से प्रोफेशनल/ टेक्निकल ग्रेजुएशन डिग्री कोर्स / पोस्ट ग्रेजुएशन डिग्री और डिप्लोमा कोर्स जैसे एमसीए, एमबीए, एमएस आदि ऑफर किए जाते हैं।

- लंदन में सीआईएमए की तरफ से संचालित कोर्स और यूएसए में सीपीए की तरफ से संचालित कोर्स।

 

इतना लोन देता है SBI

भारत में हायर एजुकेशन के लिए SBI  10 लाख रुपये तक लोन देता है। वहीं विदेश में हायर एजुकेशन के लिए SBI 20 लाख रुपये तक का एजुकेशन लोन देता है। 

ये हैं ब्याज दर

एसबीआई 8.55 फीसद से 10.80 फीसद के बीच ब्याज दर लेता है, जिसमें छात्राओं को 0.50 फीसद की छूट मिलती है।

इस तरह होती है रीपेमेंट 

लोन अमाउंट को वापस देने की अवधि कोर्स पूरा होने के एक साल बाद शुरू होती है। उसके बाद इसे 15 सालों के अंदर चुकाया जाता है।

 ईएमआई के आधार पर चुकाया जा सकता है लोन


 लोन अमाउंट को वापस चुकाने का समय कोर्स पूरा होने के एक साल बाद शुरू होता है। इसमें कोर्स के दौरान लगने वाला ब्याज मूल धन में जुड़ जाता है, जिसे ईएमआई के आधार पर चुकाया जाता है। अगर रीपेमेंट शुरू होने से पहले ही ब्याज चुका दिया जाता है तो सिर्फ मूल राशि को ईएमआई के आधार पर चुकाना होता है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Recommendation
विज्ञापन
विज्ञापन