Home » Economy » BankingSBI customers in Punjab Chandigarh facing double trouble

SBI के ग्राहकों पर दोतरफा मारः ATM से पैसे भी नहीं निकले और खाते से पैसे भी चले गए

अब खाते में कम बैलेंस के नाम पर वसूल रहे हैं चार्ज

1 of

नई दिल्ली। पंजाब एवं चंडीगढ़ में भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के ग्राहकों को इन दिनों बैंक की तरफ से दोतरफा मार पड़ रही है। एसबीआई के ये ग्राहक नवंबर के पहले सप्ताह में एटीएम से पैसे निकालने गए तो एटीएम से पैसे नहीं मिले, लेकिन इनके खाते से पैसे निकल गए। इसकी शिकायत इन ग्राहकों ने एसबीआई की ब्रांचों में की, लेकिन 10 दिनों से अधिक समय बीत जाने के बावजूद उनके खाते में पैसे वापस नहीं आए हैं। उल्टा एसबीआई इन ग्राहकों के खाते से पर्याप्त बैलेंस नहीं होने के नाम पर चार्ज भी वसूल रहा है। चंडीगढ़ स्थित एसबीआई के अधिकारियों के मुताबिक 1 नवंबर से एटीएम से निकालने वाली अधिकतम राशि की सीमा को कम करके 20,000 रुपए किया जाना था। इस कारण एटीएम में दिक्कत आई। नवंबर के पहले सप्ताह में SBI के सर्वर डाउन होने से पंजाब में कई लोगों के खाते में डबल सैलरी आ गई थी। बैंक ने बाद में उनके अकाउंट का सील कर दिया।

 

15 दिनों के बाद भी खाते में नहीं आए पैसे

एसबीअाई की मार झेल रहे चंडीगढ़ निवासी केवल तिवारी ने मनी भास्कर को बताया कि दिवाली से पहले 1 नवंबर, 2018 को वह एसबीआई के एटीएम से 20,000 रुपए निकालने गए। एटीएम में पैसे निकालने की प्रक्रिया पूरी हो गई, लेकिन उन्हें पैसे नहीं मिले। उन्होंने दो बार पैसे निकालने की कोशिश की, लेकिन सफल नहीं हुए। 2 नवंबर को जब वे इस बात की जानकारी देने एसबीआई की ब्रांच में गए तो उन्हें पता चला कि उनके खाते से 40,000 रुपए निकल चुके हैं। कथित तौर पर इतनी राशि निकलने के बाद उनके खाते में बैलेंस कम हो गया और एसबीआई ने 23 रुपए भी इस नाम पर काट लिए। तिवारी ने बताया कि उन्होंने एसबीआई के कस्टमर केयर सर्विस से इस बारे में संपर्क किया तो उन्हें कहा गया कि दो दिनों में उनके पैसे उनके खाते में वापस आ जाएंगे। लेकिन 15 नवंबर हो गए, अभी तक उनके खाते में 40,000 रुपए नहीं आए हैं। तिवारी ने बताया कि इस दौरान 5 नवंबर को उन्होंने एसबीआई ब्रांच मैनेजर से संपर्क किया तो उन्होंने चेक पर साइन कराके उन्हें 20,000 रुपए नकद दे दिए ताकि वह दिवाली मना सके। लेकिन उस 20,000 के कारण उनके खाते को होल्ड पर कर दिया गया। अब वे अपने खाते से  कोई ट्रांजेक्शन नहीं कर सकते हैं।

 

आगे पढ़ें- सॉफ्टवेयर में गड़बड़ी के कारण हुई गलती

 

सॉफ्टवेयर में गड़बड़ी के कारण हुई गलती

 

बैंक के कर्मचारियों के मुताबिक पंजाब सरकार ने सभी विभागों को निर्देश दिए थे कि वे अपने कर्मचारियों को इस बात की सूचना दें कि कंप्यूटर सॉफ्टवेयर में गड़बड़ी के कारण उनके बैंक खातों में दोगुना वेतन पहुंच गया है। इसके बाद सरकार ने एक सर्कुलर जारी करके कर्मचारियों को बताया कि वे अपने खातों से अतिरिक्त वेतन न निकालें।

 

 

बाकी खाते होंगे सील

 

कई खातों से अतिरिक्त रकम की रिटर्न एंट्री करा ली गई लेकिन खातों की संख्या बहुत अधिक होने के कारण बैंक बचे हुए खातों को सील कराने जा रहा है। बैंक ने कर्मचारियों को निर्देश दिए हैं कि अगर लोगों ने अपने खातों में आई अतिरिक्त राशि को निकाल लिया है तो उसे अपने विभाग के कैशियर के पास जमा कराए वरना ब्याज सहित उस राशि की भरपाई करनी होगी।

 

आगे पढ़ें- क्यों उठाया बैंक ने यह कदम

 

 

 

 

फ्रॉड ट्रांजैक्शन रोकने के लिए बैंक ने उठाया यह कदम

 

बैंक ने एटीएम से कैश निकालने की सीमा को कम करने का फैसला धोखाधड़ी की कई शिकायतें आने के बाद लिया। बैंक के मुताबिक लोगों को ज्यादा से ज्यादा डिजिटल और कैशलेस ट्रांजैक्शन के लिए प्रेरित करने को लिमिट घटाई गई है। यह लिमिट 31 अक्टूबर से देश के सभी SBI एटीएम पर लागू हो गई है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट