Home » Economy » BankingRajiv Kumar says Worst for PSBs over and pain for couple of quarters okay

सरकारी बैंकों का बुरा समय बीता, अब जो होगा अच्‍छा होगा : राजीव कुमार

पब्‍लिक सेक्‍टर के बैंकों के लिए बुरा समय बीत चुका है और अब शुरुआती एक-दो तिमाहियों का दर्द ही बाकी रह गया है।

Rajiv Kumar says Worst for PSBs over and pain for couple of quarters okay

नई दिल्‍ली। पब्‍लिक सेक्‍टर के बैंकों के लिए बुरा समय बीत चुका है और अब शुरुआती एक-दो तिमाहियों का दर्द ही बाकी रह गया है। ये बातें फाइनेंशियल सर्विसेज सेक्रेटरी राजीव कुमार ने बुधवार को कहीं। उन्‍होंने कहा कि सरकार पब्‍लिक सेक्‍टर  के बैंकों को कैपिटल सपोर्ट देगी। 

 

अब जो होगा अच्‍छा होगा 
कुमार ने कहा , ‘बैंकों के खाते साफ-सुथरे हो रहे हैं, एनपीए की पहचान पारदर्शी तरीके से हो रही है। ऐसे में यदि प्रावधान राशि ज्यादा होती है अथवा एक-दो तिमाहियों में नुकसान भी होता है तो कोई बात नहीं। हम इसके लिए तैयार हैं।’ उन्होंने आगे कहा कि जो बुरा था वह निकल चुका है। ‘आप जब साफ सफाई का काम करते हैं, उसमें कुछ धूल झड़ती है, शुरुआत में कुछ परेशानी भी होती है। एक या दो तिमाही की कोई समस्या नहीं है। आगे का रास्ता अब केवल यही है कि बुरा समय निकल चुका और अब जो कुछ होगा, वह अच्छा सकारात्मक होगा।’ 

 

SBI को  7,718 करोड़ रुपए घाटा

राजीव कुमार ने यह बयान ऐसे समय में दिया है जब पब्‍लिक सेक्‍टर के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक के चौथी तिमाही परिणाम में रिकार्ड घाटा हुआ है। भारतीय स्टेट बैंक ने मंगलवार को जारी चौथी तिमाही परिणाम में 7,718 करोड़ रुपए का अब तक का सबसे बड़ा घाटा दर्ज किया। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट