बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Bankingनीरव मोदी के पिता, बहन समेत तीन को ED का समन, अगले हफ्ते फाइल हो सकती है चार्जशीट

नीरव मोदी के पिता, बहन समेत तीन को ED का समन, अगले हफ्ते फाइल हो सकती है चार्जशीट

करीब 13 हजार करोड़ रुपए के पीएनबी घोटाले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने तीन लोगों को समन जारी किए हैं

1 of

नई दिल्ली. करीब 13 हजार करोड़ रुपए के पीएनबी घोटाले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने तीन लोगों को समन जारी किए हैं। इनमें नीरव मोदी के पिता दीपक मोदी, बहन पूर्वी मेहता और उनके पति मयंक मेहता शामिल हैं। घोटाले की जांच के संबंध में समन भेजे गए हैं। तीनों को मुंबई स्थित प्रवर्तन निदेशालय के दफ्तर में हाजिर होकर अपने बयान दर्ज कराने होंगे। इस मामले में ईडी, प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत चार्जशीट दाखिल करने की तैयारी कर रहा है। उम्मीद है कि अगले हफ्ते तक चार्जशीट फाइल कर दी जाएगी।

 


विदेश में हैं नीरव के पिता और रिश्तेदार
ईडी के जांच अधिकारियों के मुताबिक इस महीने के पहले हफ्ते में समन भेजे गए थे। तीनों को पेश होने के लिए 15 दिन का समय दिया गया था। तय समय सीमा में जवाब नहीं आता है तो नोटिस भेजा जाएगा। नीरव मोदी के पिता दीपक बेल्जियम के एंटवर्प में हैं जबकि बहन पूर्वी और उसका पति हॉन्गकॉन्ग में रहते हैं। सभी को ई-मेल के जरिए समन भेजे गए थे।

 

मनी लॉन्ड्रिंग में नीरव की मदद का आरोप
पूर्वी पर अपने भाई के साथ मनी लॉन्ड्रिंग में शामिल होने का आरोप है। वहीं उसके पति पर भी नीरव मोदी की मदद करने का शक है। सिंगापुर स्थित फर्म इसलिंगटन इंटरनेशनल के जरिए प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के तौर पर हजारों करोड़ रुपए भेजे गए थे। इस फर्म का मालिक पूर्वी के पति को बताया गया था जो एक संदिग्ध मामला है। प्रवर्तन निदेशालय पीएनबी घोटाले में नीरव मोदी, भाई निशाल, पत्नी एमी और अन्य लोगों के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग मामले की जांच कर रहा है। सीबीआई की एफआईआर के आधार पर ये जांच की जा रही है। सीबीआई ने पीएनबी की पहली शिकायत के आधार पर 31 जनवरी को एफआईआर दर्ज की थी।

 

 

आगे पढ़ें... 4,900 करोड़ के ट्रांजैक्‍शन की जानकारी नहीं

 

 

4,900 करोड़ के ट्रांजैक्‍शन की जानकारी नहीं
ईडी, नीरव मोदी और मेहुल चौकसी के खिलाफ आयकर विभाग की उस रिपोर्ट के आधार पर भी जांच कर रहा है जो फरवरी महीने में सीबीडीटी और वित्त मंत्रालय को सौंपी गई थी। इसमें 4,900 करोड़ रुपए के लेन-देन के बारे में साफ-साफ जानकारी नहीं होने का जिक्र किया गया था। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट