बिज़नेस न्यूज़ » Economy » BankingPNB की सफाई: पैसे निकालने की नहीं तय की लिमिट, बैंक करता रहेगा अपना काम

PNB की सफाई: पैसे निकालने की नहीं तय की लिमिट, बैंक करता रहेगा अपना काम

बैंक ने यह भी साफ कर दिया क क्रिकेटर विराट कोहली उसके ब्रांड अंबेसेडर बने रहेंगे...

1 of

नई दिल्‍ली. नीरव मोदी फ्रॉड केस सामने आने के बाद पंजाब नेशनल बैंक (PNB) को कई मुद्दों पर सफाई देने के लिए मजबूर होना पड़ा है। अपनी सफाई में बैंक ने मीडिया में चल रही  कुछ खबरों को अफवाह करार दिया है। बैंक ने कहा कि इससे लोगों के दिमाग में पीएनबी को लेकर भ्रम की स्थिति पैदा हो रही है। अपनी सफाई में बैंक की ओर से अखबारों में एक पब्लिक नोटिस जारी किया गया है।  

बैंक ने कहा कि न तो विराट कोहली ने बैंक का साथ छोड़ा है और न ही उसने एटीएम से कैश निकालने की कोई लिमिट तय की है। यही नहीं पीएनबी ने यह भी साफ कर दिया कि उसने नीरव मोदी फ्रॉड केस की ऑडिट की जांच का आदेश भी किसी दागदार कंपनी को नहीं दिया है। पीएम ने अपने 18 हजार कर्मचारियों के ट्रांसफर की बात को भी निराधार बताया। बैंकी ओर से कहा गया है कि वह इस मामले का बैंकिंग के उसके काम काज पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा। आइए जानते हैं कि आखिर पीएनबी ने किन किन मुद्दों पर सफाई दी और अपनी सफाई में उसने क्‍या कहा... 

 

 

नंबर-1: बैंक से निकाल सकेंगे सिर्फ 3 हजार रुपए 

बैंक की सफाई: सोशल मीडिया और अन्‍य जगहों पर चल रही इस तरह की खबरें पूरी तरह बेबुनियाद हैं। बैंक की ओर से पैसा निकालने की ऐसी कोई लिमिट तय नहीं की गई है। हम सामान्‍य बैंकिंग गतिविधियों को अंजाम दे रहे हैं। 


नंबर-2: विराट कोहली अब बैंक के ब्रांड अंबेसडर नहीं रहे 

बैंक की सफाई:मीडिया में इस तरह की खबरें आईं, जिसमें कहा गया कि विराट कोहली बैंक के ब्रांड एंबेसेडर नहीं रहेंगे। ये खबरें गलत हैं। विराट हमारे ब्रांड अंबेसडर बने रहेंगे। 


नंबर-3: सरकार/RBI ने बैंक से दूसरे बैंकों के पैसे लौटाने को कहा 

बैंक की सफाई: इस तरह की खबरें मीडिया में आईं, जिसमें कहा गया है कि सरकार/RBI ने पीएनबी ने बैंक से कहा कि वह उन बैंकों का पैसा लौटाए जिन्‍होंने पीएनबी के एलओयू पर नीरव मोदी और उनसे जुड़ी कंपनियों को लोन दिया था। हालांकि ये बातें पूरी तरह से आधारहीन हैं। बैंक को न तो सरकार न ही आरबीआई से तरह तरह का कोई निर्देश मिला है। 

 

नंबर-4: बैंक ने दागदार कंपनी को फ्रॉड मामले की जांच सौंपी 

बैंक की सफाई: इस तरह की खबरें मीडिया में थीं, जिसमें कहा गया कि फ्रॉड मामले से जुड़े सबूत जुटाने के लिए बैंक ने मामले की जांच PwC को सौंपी है। ताकि इन सबूतों को कोर्ट में पेश किया जा सके। यह खबर पूरी तरह से गलत है। 


नंबर-5: बैंक ने 18 हजार कर्मचारियों का ट्रांसफर किया 

बैंक की सफाई: इस तरह की खबरें मीडिया में आईं थीं, जिसमें कहा गया कि बैंक ने अपने करीब 18 हजार कर्मचारियों का दबादला कर दिया गया है। यह बात हकीकत से परे है। बैंक ने सिर्फ 1415 कर्मचारियों का ही तबादला किया है। इसमें 254 सब स्‍टॉफ, 437 क्‍लर्क और 721 ऑफिसर शामिल हैं। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट