Home » Economy » BankingNirav modi did not mention PNB in his insolvency application

कौन पीएनबी, कैसे पैसे ? नीरव मोदी ने अमेरि‍का में दी अर्जी, कि‍या ये खेल

नीरव ने अपनी अर्जी में ऐसा खेल कि‍या है, जि‍सकी वजह से पीएनबी के लि‍ए पैसा पाना और कठि‍न हो जाएगा।

1 of
न्यूयॉर्क। यहां नीरव मोदी से पैसे वसूलने के लि‍ए तरह तरह के जाल बुने जा रहे हैं और वहां उसने जाल काटने के लि‍ए हर तरह की कैंची तैयार की ली है। पहले तो उसने पंजाब नेशनल बैंक से कहा कि‍ आपने मेरे बि‍जनेस को चौपट कर दि‍या है, मेरी साख खराब हो गई है इसलि‍ए पैसे देने के सभी रास्‍ते बंद हो गए हैं। इसके बाद उसने दूसरा पैंतरा चला, नीरव ने अमेरि‍का में मि‍स्‍टर क्‍लीन बनने के लि‍ए वहां दि‍वालि‍या अर्जी दी। वैसे तो उसकी कंपनि‍यों के वहां दि‍वालि‍या घोषि‍त हो जाने से पीएनबी पर असर नहीं पड़ता मगर नीरव ने अपनी अर्जी में ऐसा खेल कि‍या है, जि‍सकी वजह से पीएनबी के लि‍ए पैसा पाना और कठि‍न हो जाएगा। नीरव ने जि‍न लोगों से पैसा लि‍या है उनकी लि‍स्‍ट में पंजाब नेशनल बैंक का नाम ही नहीं है। ये चौंकाने वाली बात है मगर सच है। आगे पढ़ें 

पीएनबी का जि‍क्र ही नहीं 


नीरव मोदी की तीन कंपनियों द्वारा यहां दायर दिवालिया अर्जी में पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) का ऋणदाता के रूप में कोई उल्लेख नहीं किया गया है। नीरव मोदी की कंपनियों द्वारा दाखिल दिवालिया अर्जी के दस्तावेजों में केवल एचएसबीसी और इजरायल डिस्काउंट बैंक (आईडीबी) बैंक का ऋणदाता के रूप में उल्लेख है, जिनका कुल 2 करोड़ डॉलर दो कंपनियों पर बकाया है। आईडीबी से ऋण लेने के लिए मोदी ने निजी गारंटी प्रदान की थी, साथ ही दो अन्य कंपनियों ने भी गारंटी प्रदान की थी।  आगे पढ़ें अब क्‍या होगा 

लोन वसूली होगी कठिन 
नीरव मोदी की इन तीन कंपनियों द्वारा अमेरिकी में दाखिल दिवालिया अर्जी अगर मंजूर हो जाती है तो पीएनबी को इन कंपनियों से अपने ऋण की वसूली में बाधाएं खड़ी हो जाएगी। क्योंकि दिवालिएपन के मामले में दाखिल करने से कर्जदार और देनदार की संपत्ति के खिलाफ स्वचालित रूप से कर्ज की वसूली और कर्जदार की संपत्तियों के खिलाफ कार्रवाई करने पर रोक लग जाती है। दिवालिया दस्तावेजों में कहा गया है, "अगर आप अपने कर्ज की वसूली की कोशिश करते हैं या कोई अन्य कार्रवाई करते हैं तो यह दिवालिया संहिता का उल्लंघन होगा और आपको इसके लिए दंडित किया जा सकता है।"

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट