विज्ञापन
Home » Economy » BankingWhy Indian fugitives take refuge in London

भारतीय भगोड़ों के लिए मुफीद है लंदन, इस वजह से लेते हैं यहां शरण 

भारत ही नहीं पाकिस्तान के भगोड़े पहुच रहे हैं लंदन 

Why Indian fugitives take refuge in London

नई दिल्ली. भारतीय भगोड़ों के लिए लंदन एक मुफीद जगह बन रही है, जहां शरण लेना इनके लिए आसान है। भारत के नीरव मोदी, विजय माल्या से लेकर मेहूल चोकसी और संगीतकार नदीम सैफ़ी ने लंदन जाकर लंदन वहां शरण ली थी। इसमें मामले में भारत की तरह पाकिस्तान का भी नाम आता है, जहां के भगोड़े लंदन में आसानी से शरण लेकर अपना जीवन बिताते हैं। इनमें पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज़ मुशर्रफ़, पूर्व प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़, बेनज़ीर भुट्टो के अलावा कई आमो-ख़ास लोग लंदन में रहते और छिपते आए हैं। 

एक जैसी है भारत और ब्रिटेन की कानून प्रणाली 

बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक भारत और पाकिस्तान ने लंदन भागने कई मायनों में भगोड़ों के लिए मुफीद रहा है। भारत के पूर्व विदेश सचिव और लंदन में भारत के उच्चायुक्त रहे सलमान हैदर बताते हैं कि इसकी सबसे बड़ी वजह भारत का ब्रिटेन का उप-निवेश रहना है। भारत और ब्रिटेन की क़ानूनी प्रणाली लगभग एक जैसी है। ब्रिटेन और भारत के क़ानूनी जानकार दोनों देशों के क़ानूनों को बहुत अच्छे से जानते हैं जिससे भागकर गए शख़्स को बहुत लाभ होता है। 

मिलता है कानूनी फायदा 

क़ानूनी वजहों के अलावा ब्रिटेन में भारत और पाकिस्तान के लोगों का वहां होना भी एक बड़ी वजह है जो कुछ लोग भागकर वहां जाते हैं। लंदन में बहुत से भारतवासी रहते हैं जिसके कारण यहां रहना आसान है। लंदन के बहुत सारे इलाक़े 'मिनी भारत' जैसे बन गए हैं। बहुत सारे लोगों के पहले से यहां पर ठिकाने हैं। बॉलीवुड के कई बड़े स्टार्स, उद्योगपतियों के यहां घर हैं। पहले से घर होने के कारण भी लंदन में भागकर आने में आसानी होती है।

लंदन भागने का लंबा रहा है इतिहास

हिंदी सिनेमा के 90 के दशक की हिट संगीत जोड़ी नदीम-श्रवण के नदीम अख़्तर सैफ़ी गुलशन कुमार हत्याकांड के बाद देश छोड़कर लंदन भाग गए थे। भारत सरकार ने उनके प्रत्यर्पण के लिए लंदन की कोर्ट में केस लड़ा लेकिन हत्याकांड मामले में उनके ख़िलाफ़ प्रथम दृष्टया मामला न होने के कारण उनके प्रत्यर्पण के मामले को रद्द कर दिया गया। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss