विज्ञापन
Home » Economy » BankingKeeping these things in mind investing in ELSS funds leads to tax savings

इन बातों को ध्यान में रखकर करें ELSS फंड्स में निवेश, टैक्स बचत के साथ होती है मोटी कमाई

इक्विटी लिंक्ड सेविंग्स स्कीम एक बहुत ही लाभदायक विकल्प है।

Keeping these things in mind investing in ELSS funds leads to tax savings

Keeping these things in mind investing in ELSS funds leads to tax savings इक्विटी  लिंक्ड  सेविंग्स  स्कीम संक्षिप्त  में  ELSS  भी  कहा  जाता  है  यह एक  डाइवर्सिफाइड  इक्विटी  फण्ड  है  जो  अपने अधिकतम  कार्पस  को  इक्विटी  फण्ड  में  निवेश  करता  है। ELSS  इनकम  टैक्स  के  सेक्शन  80C के तहत आने  वाली  बहुत  ही  लोकप्रिय  स्कीम  है  जिसमे  इनकम  टैक्स  की  बचत  भी  होती  है  और  निवेशित  पूंजी  में  भी  वृद्धि  होती  है ।

नई दिल्ली। इक्विटी  लिंक्ड  सेविंग्स  स्कीम संक्षिप्त  में  ELSS  भी  कहा  जाता  है  यह एक  डाइवर्सिफाइड  इक्विटी  फण्ड  है  जो  अपने अधिकतम  कार्पस  को  इक्विटी  फण्ड  में  निवेश  करता  है। ELSS  इनकम  टैक्स  के  सेक्शन  80C के तहत आने  वाली  बहुत  ही  लोकप्रिय  स्कीम  है  जिसमे  इनकम  टैक्स  की  बचत  भी  होती  है  और  निवेशित  पूंजी  में  भी  वृद्धि  होती  है । इस  स्कीम  में  तीन  साल  का  लॉक  इन  पीरियड  होता  है  और  500  रुपए  की  न्यूनतम  राशि  जमा  करा  के  भी  आप  इस  स्कीम  में  निवेश  कर  सकते   हैं।

इस  स्कीम  में  जो  लोग  निवेश  करते  हैं  उनके  द्वारा  लगायी हुई  निवेशित  पूंजी  को  फण्ड  प्रबंधक  द्वारा  अलग  अलग  उद्योगों  और आकार  की  कंपनियों  के  शेयरों  में  निवेश  किया  जाता  है  जिससे  की  फण्ड  में  वृद्धि  होती  है |यह एक ओपेन एंडेड स्कीम है जिसमे कभी भी निवेश कर सकते हैं और तीन साल के बाद कभी भी बहार निकल सकते हैं । ELSS की स्कीम में कई बड़ी कंपनियों के म्यूच्यूअल फण्ड हैं जिनमे निवेश किया जा सकता है ।

ELSS  फण्ड  में  निवेश  करने  की  कोई  अधिकतम  सीमा  नहीं  है  लेकिन  टैक्स  की  बचत  केवल  एक  साल  में  अधिकतम  1.5 लाख  रूपए  तक  ही  प्राप्त  की  जा  सकती  है । इस  फण्ड  की  एक  खासियत  यह  भी  है  की  इस  फण्ड  से  मिलने  वाला  रिटर्न  भी  कर  मुक्त  होता  है । हालांकि  यदि  आपने  इस  फण्ड  में  निवेश  किया  है  तो  तीन  साल  पुरे  होने  से  पहले  आप  इसमें  निवेश  की  गयी  पूंजी  नहीं  निकाल  सकते ।

ELSS में निवेश करने के तरीके:

ELSS  फण्ड  में  निवेश  करने  के  लिए  निवेशक  के  पास  मुख्यतयः तीन  तरह  के  विकल्प  उपलब्ध  होते  हैं :

·ग्रोथ  विकल्प- इस  ऑप्शन  में फण्ड  प्रॉफिट  बनता  है  तो  उस  राशि  को  दोबारा  निवेश  किया  जाता  है । जब फण्ड की NAV बढ़ती है तो फण्ड को प्रॉफिट होता है परन्तु जब फण्ड की NAV निचे गिरती है तो फण्ड को लॉस होता है । इसलिए  जब  फण्ड  को  प्रॉफिट हो  तब  अपने  पैसे  निकाल  लेना  या  इन्वेस्टमेंट  को  बेचना  सही  होता  है।

·डिविडेंड  पेआउट  विकल्प- इस  ऑप्शन  में  फण्ड  का  लाभ  निवेशकों  को  डिविडेंड  के  रूप  में  प्रतिमास या निश्चित अवधी पर दिया  जाता  है । जब  डिविडेंड  घोषित  किया  जाता  है  तब  फण्ड  की  NAV में  गिराव  आ  जाता  है।

·डिविडेंड  रीइन्वेस्टमेंट  विकल्प- इस  ऑप्शन  में  जब  डिविडेंड  घोषित  किया  जाता   है  तब  निवेशकों  को  प्रॉफिट  नकद  न  देते  हुए  उनकी  राशि  का  निवेश  और  ज़्यादा  यूनिट्स  में  किया  जाता  है । इस  तरह  निवेशकों  के  यूनिट्स  की  संख्या   बढ़  जाती  है ।

ELSS में निवेश करते वक्त किन बातों का रखें ध्यान:

·ELSS में  निवेश  वित्तयी  वर्ष  की  शुरुआत  में  जितना  जल्दी  किया  जाए   उतना  बेहतर  है । इससे  आप  उस  वर्ष बेहतर  कर  छूट  का  दावा  कर  सकते  हैं ।
·ELSS में  निवेश  करते  वक्त  यह  ध्यान  रखें  की  आप  किसी  विश्वसनीय  फण्ड  का ही  चुनाव करें  क्योंकि आप उसमे अगले  तीन  साल  तक  बदलाव  नहीं  कर  सकते । इसलिए  सोच समझकर  और  अपने विश्वसनीय वित्तीय सलाहकार से चर्चा करके व जानकारी  लेकर  ही  निवेश   करें ।
·निवेश  करते  वक्त एक या दो साल के रिटर्न पर ध्यान ना दें बल्कि लम्बे अवधी के रिटर्न पर ध्यान दें। कम  से  कम  तीन  से  पांच  साल  के  रिटर्न  को  देखते  हुए  फण्ड  का  चुनाव  किया  जाये  तो  बेहतर  होगा। छोटी  पूंजी  वाले  निवेशक  ज़्यादा  जोखिम  वाली  योजनओं  से  दूर  ही  रहें  तो  अच्छा  है ।
·ELSS में  निवेश  का  एकमात्र  आधार  कर  में  छूट  प्राप्त  करना  ही  नहीं  होना  चाहिए । आपको  योजना  में  लॉक  इन  पीरियड , रिटर्न  और  फण्ड  ख्याति  का  भी  ध्यान  रखना  चाहिए ।

-- मनीष गुप्ता (सीए एवं टैक्स एक्सपर्ट)

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss