बिज़नेस न्यूज़ » Economy » BankingSBI ने मिनिमम बैलेंस मेंटेन न करने पर 75% तक घटाई पेनाल्टी, 25 Cr खाताधारकों को फायदा

SBI ने मिनिमम बैलेंस मेंटेन न करने पर 75% तक घटाई पेनाल्टी, 25 Cr खाताधारकों को फायदा

बैंक कस्टमर को घटी हुई पेनाल्टी का फायदा एक अप्रैल से मिलेगा।

1 of

 

नई दिल्ली. देश के सबसे बड़े बैंक SBI ने सेविंग्‍स अकाउंट में मंथली एवरेज बैलेंस (MAB) मेंटेन नहीं करने पर लगने वाली पेनल्टी में भारी कटौती कर दी है। बैंक ने चार्ज में 75 फीसदी तक कमी की है। ऐसे में अब किसी भी कस्टमर को 15 रुपए प्‍लस GST से ज्यादा पेनल्टी नहीं देनी पड़ेगी। अभी तक यह अधिकतम 50 रुपए प्‍लस GST थी। बैंक कस्टमर को घटी हुई पेनल्टी का फायदा एक अप्रैल से मिलेगा। SBI के इस फैसले से 25 करोड़ कस्‍टमर्स को फायदा होने वाला है। 
 
15 रुपए पेनल्‍टी अब मेट्रो और शहरी क्षेत्रों के SBI कस्‍टमर्स के लिए है। वहीं अर्धशहरी, व ग्रामीण इलाकों के कस्‍टमर्स के लिए पेनल्‍टी को 40 रुपए प्‍लस GST से घटाकर 12 और 10 रुपए प्‍लस GST कर दिया गया है। 
 
 
मेट्रो और शहरी  ब्रांच में (मासिक औसत बैंलेंस 3000 रु) नई पेनल्टी मौजूदा पेनल्टी
50% तक बैलेंस कम होने पर 10 रु 30 रु
50% से ज्यादा और 75% तक बैलेंस कम होने पर 12 रु 40 रु
75% से ज्यादा बैलेंस कम होने पर 15 रु 50 रु
अर्द्ध शहरी  ब्रांच में (मासिक औसत बैंलेंस 2000 रु)    
50% तक बैलेंस कम होने पर 7.50 रु 20 रु
50% से ज्यादा और 75% तक बैलेंस कम होने पर 10 रु 30 रु
75% से ज्यादा बैलेंस कम होने पर 12 रु 40 रु
ग्रामीण ब्रांच में (मासिक औसत बैंलेंस 1000 रु)    
50% तक बैलेंस कम होने पर 5 रु 20 रु
50% से ज्यादा और 75% तक बैलेंस कम होने पर 7.5 रु 30 रु
50% से ज्यादा और 75% तक बैलेंस कम होने पर 10 रु 40 रु

(नोट-  पेनल्‍टी की नई दरें 1 अप्रैल से प्रभावी होंगी। जीएसटी अलग से देय होगा।)

 

1,771 करोड़ रु. की पेनल्‍टी वसूलने पर हुई थी कड़ी आलोचना 

बता दें कि जनवरी में वित्‍त मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों से सामने आया था कि अप्रैल से नवंबर 2017 के बीच SBI ने सेविंग्‍स अकाउंट में MAB बरकरार न रख पाने वाले कस्‍टमर्स से जो पेनल्‍टी वसूली, वह 1,771 करोड़ रुपए रही। इसे लेकर बैंक की काफी आलोचना हुई थी और तभी बैंक ने संकेत दे दिए थे कि वह मिनिमम बैलेंस अमाउंट और इसे बरकरार न रख पाने पर लगने वाली पेनल्‍टी को घटाने पर विचार कर रहा है। 
 

कस्‍टमर्स के फीडबैक का रखा ध्‍यान  

मंथली बैलेंस की पेनल्‍टी में कटौती पर SBI के रिटेल व डिजिटल बैंकिंग के एमडी पीके गुप्‍ता ने कहा कि बैंक ने कस्‍टमर्स से प्राप्‍त हुए फीडबैक को ध्‍यान में रखकर यह कटौती की है। बैंक हमेशा से अपने कस्‍टमर्स को प्राथमिकता देता आया है और यह कदम भी उनकी बैंक से उम्‍मीदों को पूरा किए जाने की दिशा में किए जा रहे प्रयासों में से एक है। 
 

इन अकाउंट्स को MAB से है छूट 

गुप्‍ता ने यह भी कहा कि SBI अपने कस्‍टमर्स को रेगुलर से‍विंग्‍स बैंक अकाउंट को बेसिक सेविंग्‍स बैंक अकाउंट (BSBD) में शिफ्ट करने की भी सुविधा दे रहा है। BSBD अकाउंट में मंथली एवरेज बैलेंस रखने जैसा नियम लागू नहीं होता है। इसके अलावा प्रधानमंत्री जन धन योजना, स्‍मॉल अकाउंट्स, पेंशनर्स, माइनर्स और सभी सोशल बेनिफीशियरीज अकाउंट्स जैसे सेविंग्‍स अकाउंट्स को भी MAB अनिवार्यता से छूट है। इसके अलावा 21 साल तक की उम्र वाले स्‍टूडेंट अकाउंट को भी छूट मिली हुई है। 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट