Home » Economy » Banking500 के नोट की छपाई पर लगे 5000 करोड़ रुपए, 200 के नए नोट छापने में लगे 522 करोड़- what is the printing cost of New Rs 500 Notes

2.94 रुपए में छपता है 500 का एक नोट, जानिए 200 के नोट की कीमत

8 नंवबर 2016 नोटबंदी के बाद 500 और 1000 रुपए के नोटों को चलन से बाहर कर दिया गया था

1 of

नई दिल्‍ली. नोटबंदी के बाद आरबीआई की ओर से जारी किए गए 500 रुपए के नोटों की असली लागत का पता चल गया है। सरकार ने लोकसभा में इस बात की जानकारी दी है। सोमवार को सरकार की ओर से दिए गए एक लिखित जवाब में वित्त राज्य मंत्री पी. राधाकृष्णन ने  बताया कि पिछले साल नोटबंदी के बाद से 8 दिसंबर तक 500 रुपए के कुल 1,695.7 करोड़ नए नोट छापे गए हैं। सरकार ने 2000 और 200 रुपए की कीमत वाले नोटों की छपाई और उन पर किए जाने वाले खर्च की जानकारी दी है। नोटों की छपाई से जुड़े ये सभी अंकड़े 8 दिसंबर तक के हैं। 

 

नोटबंदी के दौरान चलन से बाहर हो गए थे नोट
बता दें कि 8 नंवबर 2016 नोटबंदी के बाद 500 और 1000 रुपए के नोटों को चलन से बाहर कर दिया गया था। मोदी सरकार के इस फैसले के चलते एक झटके में मार्केट की करीब 86 फीसदी करंसी रातोंरात रद्द हो गई थी। सरकार ने इसके बाद 500 और 2000 रुपए के नोट जारी किए थे। बाद में 200 रुपए का नया नोट भी मार्केट में उतरा गया था। 500 रुपए का नोट तो पहले ही मार्केट में था, लेकिन 2000 और 200 रुपए के नोट पहली बार इंडियन मार्केट में उतार गए थे। आइए जानते हैं कि किस कीमत के नोट छापने में सरकार को कितनी लागत आई और एक नोट की लागत क्‍या पड़ रही है... 

 

500 रुपए का नोट 

 

अब तक कितने छापे: 1,695.7 करोड़ 
लागत: 4,968.84 करोड़ रुपए
एक नोट की लागत: 2.94 रुपए 

2000 रुपए का नोट 

 

अब तक कितने छापे: 365.4 करोड़ 
लागत: 1,293.6 करोड़ रुपए 
एक नोट की लागत: 3.54 रुपए  

200 का नोट 

 

अब तक कितने नोट छापे: 178 करोड़ 

लागत: 522.8 करोड़ रुपए 
एक नोट की लागत: 2.93 रुपए  

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट