बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Banking15 सितंबर से डिमांड ड्राफ्ट पर होगा बनवाने वाले का भी नाम, ब्‍लैकमनी पर रोक के लिए RBI का बड़ा फैसला

15 सितंबर से डिमांड ड्राफ्ट पर होगा बनवाने वाले का भी नाम, ब्‍लैकमनी पर रोक के लिए RBI का बड़ा फैसला

ब्‍लैकमनी पर लगाम लगाने और मनी लॉन्ड्रिंग रोकने के लिए आरबीआई ने यह कदम उठाया है।

RBI: Reserve Bank of India Directs Banks to Have Buyer's Name Printed on Demand Draft

नई दिल्‍ली. ब्‍लैकमनी और मनी लॉन्ड्रिंग पर अंकुश लगाने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने एक अहम फैसला किया है। इसके तहत यदि कोई व्‍यक्ति डिमांड ड्राफ्ट बनवाता है तो उस पर अब उसका भी नाम दर्ज होगा। अभी तक डिमांड ड्राफ्ट पर सिर्फ उसी व्‍यक्ति का नाम होता था, जिसके खाते में पैसा जाता था। नया नियम 15 सितंबर से लागू हो जाएगा। आरबीआई के इस फैसले के बाद बैंकिंग सिस्टम में और पारदर्शिता आने की उम्मीद है। 

 

रिजर्व बैंक ने इस संबंध में गुरुवार को नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। इसके अनुसार 15 सितंबर 2018 से जो भी डिमांड ड्राफ्ट, पे ऑर्डर या बैंक चेक बनवाता है तो उस पर बनवाने वाले शख्स का नाम भी दर्ज होगा। ब्‍लैकमनी पर लगाम लगाने और मनी लॉन्ड्रिंग रोकने के लिए आरबीआई ने यह कदम उठाया है।

 

 

आरबीआई ने जारी किए निर्देश

रिजर्व बैंक ने सभी कमर्शियल बैंकों, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों, शहरी कोऑपरेटिव बैंकों, राज्‍य कोऑपरेटिव बैंकों, जिला केंद्रीय कोऑपरेटिव बैंकों, स्‍माल फाइनेंस बैंकों और पेमेंट्स बैंकों को इसे नियम को निर्धारित तारीख से अमल में लाने का निर्देश दिया है। 

 

 

केवाईसी में हुआ संशोधन 
आरबीआई ने नो योर कस्‍टमर (KYC) नॉर्म्‍स में भी संशोधन किया है। केवाईसी के मास्टर डायरेक्शन की धारा 66 में बदलाव किया गया है। इसमें जोड़ा गया है कि डिमांड ड्राफ्ट, पे ऑर्डर, बैंकर्स चेक कराने पर दोनों पक्षों का नाम लिखा जाएगा। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट