बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Bankingनीरव जैसों से निपटने के लिए ये होगा मोदी का पूरा एक्‍शन प्‍लान

नीरव जैसों से निपटने के लिए ये होगा मोदी का पूरा एक्‍शन प्‍लान

मोदी ने इशारों में साफ किया कि नीरव मोदी जैसे लोगों से निपटने के लिए इन्‍फोर्समेंट एजेंसियों को उनकी तरफ से खुली है..

1 of

नई दिल्‍ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फाइनेंशियल फ्रॉड करने वाले नीरव मोदी जैसे लोगों कों इशारों इशारों में सजा भुगतने के लिए तैयार रहने कहा है। पीएम मोदी ने साफ कर दिया है कि फाइनरेंशियल सेक्‍टर में किसी भी तरह की अनियमितता बर्दाश्‍त नहीं की जाएगी। पीएम मोदी के इस बयान की नीरव मोदी प्रकरण से देखा जा रहा है। पीएम मोदी ने कहा कि उनकी सरकार फाइनेंयिल मामलों में हुई धांधली पर कड़ी कार्रवाई कर रही है और आगे भी करती रहेगी। पीएम ने आगे कहा कि जनता के पैसे का गलत यूज इस सिस्टम को स्वीकार नहीं होगा। प्रधानमंत्री ने ये बातें एक कार्यक्रम में कही हैं। 

 

... तो ये होगा मोदी का एक्‍सशन प्‍लान 
मोदी ने इशारों इशारों में साफ किया कि नीरव मोदी जैसे लोगों से निपटने के लिए इन्‍फोर्समेंट एजेंसियों को उनकी तरफ से खुली छूट है। उन्‍होंने फाइनेंशियल प्‍लेयर, रेग्‍युलेटर और ऑडिटर सभी अपनी जिम्‍मेदारी पूरी इमानदारी के साथ निभाएं। पीएम ने कहा कि खासतौर से जिन्हें निगरानी और मॉनीटरिंग की जिम्मेदारी सौंपी गई है। वे अपने काम में किसी तरह की लापरवाही न करें।   

 

 

नीरव मोदी के खिलाफ सरकार ने अब तक उठाए कदम
मामला सामने आने के बाद नीरव मोदी मेहुल चौकसी के खिलाफ नोटिस जारी किया गया। इन लोगों से जुड़ी संपत्तियों को सीज किया जा चुका है। नीरव मोदी फिलहाल देश से बाहर हैं। मोदी और उनकी कंपनियों के खातें भी सीज हो चुके हैं। नीरव मोदी की संपत्ति को सीज करने के लिए सरकार ने नेशनल कंपनी लॉ ट्राइब्‍यूनल का दरवाजा खटखटाया है। मोदी की कंपनी में बड़े अधिकारी रहे विपुल अंबानी को गिरफ्तार किया जा चुका है। कुछ मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, सरकार आने वाले समय में नीरव मोदी के प्रत्‍यर्पण की कोशिशें शुरू करेगी। हालांकि इसमें अभी वक्‍त है।   

 

 

 

क्या है पीएनबी फ्रॉड केस?
पंजाब नेशनल बैंक ने पिछले दिनों सेबी और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज को 11,356 करोड़ रुपए के घोटाले के जानकारी दी थी। घोटाले को पीएनबी की मुंबई की ब्रेडी हाउस ब्रांच में अंजाम दिया गया। शुरुआत 2011 से हुई। 7 साल में हजारों करोड़ की रकम फर्जी लेटर ऑफ अंडरटेकिंग्स (LoUs) के जरिए विदेशी अकाउंट्स में ट्रांसफर की गई।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट