बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Bankingलेना चाहते हैं होम लोन, कर्ज चुकाने के 5 ऑप्‍शन कर सकते हैं ट्राई

लेना चाहते हैं होम लोन, कर्ज चुकाने के 5 ऑप्‍शन कर सकते हैं ट्राई

हर कोई चाहता है कि उसका खुद का घर हो लेकिन आज के टाइम में कीमतें ज्‍यादा होने के चलते घर खरीदना आसान नहीं रह गया है।

1 of

नई दिल्‍ली. हर कोई चाहता है कि उसका खुद का घर हो लेकिन आज के टाइम में कीमतें ज्‍यादा होने के चलते घर खरीदना आसान नहीं रह गया है। इसलिए लोगों को होम लोन का सहारा लेना पड़ता है। लेकिन कई लोग ऐसे हैं, जो चाहकर भी होम लोन लेने से कतराते हैं। इसकी वजह है कि उन्‍हें होम लोन चुकाने के केवल एक ही ऑप्‍शन का पता होता है,‍ जिसके तहत उन्‍हें लोन लेने के टाइम तय किए गए टेन्‍योर तक, फिक्‍स्‍ड EMI और तय इंट्रेस्‍ट चुकाना होता है और लोन लेने के साथ ही रीपेमेंट शुरू हो जाता है। ऐसे में वे इस बात को लेकर परेशान रहते हैं कि अगर इस फिक्‍स्‍ड EMI का इंतजाम न हो सका तो लोन कैसे चुकाया जाएगा। लेकिन इस ट्रेडिशनल तरीके के अलावा भी होम लोन चुकानेे के कुछ अन्‍य ऑप्‍शन भी हैं, जिनके जरिए आपके लिए होम लोन चुकाना आसान हो जाता है। आइए आपको बताते हैं कि क्‍या हैं वे तरीके और कैसे पहुंचाते हैं फायदा- 

 

कुछ सालों बाद ईएमआई चुकाना शुरू करना 

इस ऑप्‍शन में आप लोन लेने के बाद एक तय समय तक केवल इंट्रेस्‍ट अदा कर सकते हैं। उस समय के खत्‍म होने के बाद EMI का पेमेंट शुरू होता है। केवल इंट्रेस्‍ट अदा करने की अवधि 3 साल से लेकर 5 साल हो सकती है। हालांकि यह लोन केवल सैलरीड और वर्किंग प्रोफेशनल्‍स के लिए उपलब्‍ध है। इस तरह के लोन पर नॉर्मल लोन से 20 फीसदी ज्‍यादा अमाउंट लिया जा सकता है। 

 

आगे पढ़ें- अन्‍य क्‍या हैं ऑप्‍शन

धीरे-धीरे EMI कम करना

यह ऑप्‍शन उन लोगों के लिए काफी फायदेमंद है, जिनकी इनकम में लोन की अवधि के दौरान ही आगे चलकर कमी आने के आसार हैं, जैसे रिटायर होने वाले लोग। इस ऑप्‍शन में शुरुआती सालों में ज्‍यादा EMI देनी होती है और धीरे-धीरे लोन लेने वाले की इनकम घटने के साथ EMI घटती चली जाती है। 

 

आगे पढ़ें- एक अन्‍य ऑप्‍शन 

अकाउंट से लोन की लिंकिंग

कुछ बैंक आपको होम लोन को बैंक में मौजूद करंट अकाउंट से लिंक करने की सुविधा भी देते हैं। जैसे- SBI मैक्‍सगेन, ICICI बैंक की ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी आदि। इस सुविधा में होम लोन की इंट्रेस्‍ट लाय‍बिलिटी अकाउंट में मौजूद सरप्‍लस फंड के आधार पर कम हो जाती है। यानी आपको कम इंट्रेस्‍ट देना होता है। इस ऑप्‍शन में आप जरूरत पड़ने पर करंट अकाउंट से विदड्रॉ और डिपॉजिट कर सकते हैं। 

 

आगे पढ़ें- धीरे-धीरे EMI बढ़ाने का ऑप्‍शन

EMI में धीरे-धीरे बढ़ोत्‍तरी का ऑप्‍शन

आप शुरुआती सालों में कम EMI और आगे ज्‍यादा EMI का ऑप्‍शन भी ले सकते हैं। कुछ बैंक इसकी भी सुविधा देते हैं। हालांकि ऐसा तभी करें जब आपको पूरा भरोसा हो कि आगे आने वाले सालों में आपकी इनकम में बढ़ोत्‍तरी ही होगी। 

 

आगे पढ़ें- अंडर कंस्‍ट्रक्‍शन प्रॉपर्टी पर पेमेंट

अंडर कंस्‍ट्रक्‍शन प्रॉपर्टी पर पेमेंट 

अंडर कंस्‍ट्रक्‍शन प्रॉपर्टी को खरीदने के लिए लोन लेते हैं तो इसके तहत लोन का अमाउंट किश्‍तों में आपके अकाउंट में आता है। ऐसे में आपको आखिरी किश्‍त आने यानी लोन के फुल पेमेंट आने तक केवल इंट्रेस्‍ट चुकाना होता है और फुल पेमेंट के बाद EMI शुरू होती है। लेकिन इससे कस्‍टमर पर बोझ पड़ता है। इसलिए अब कुछ फाइनेंशियल इंस्‍टीट्यूशन में लोन की पहली किश्‍त आने से ही EMI चुका सकने का ऑप्‍शन है। उदाहरण के लिए HDFC। इस ऑप्‍शन के तहत चुकाई गई EMI में से पहले इंट्रेस्‍ट एडजस्‍ट किया जाता है, उसके बाद बचे अमाउंट को प्रिन्सिपल रीपेमेंट में डाला जाता है। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट