बिज़नेस न्यूज़ » Economy » BankingRBI का बैंकों को फरमान: सिक्‍के जमा करो, साथ में पॉलीबैग भी दो

RBI का बैंकों को फरमान: सिक्‍के जमा करो, साथ में पॉलीबैग भी दो

बैंक ब्रान्‍चों द्वारा ग्राहकों से सिक्‍के न लिए जाने को लेकर RBI ने एक बार फिर बैंकों को चेतावनी दी है।

1 of

नई दिल्‍ली. RBI के आदेश के बावजूद बैंक ब्रान्‍चों द्वारा ग्राहकों से सिक्‍के न लिए जाने को लेकर RBI ने एक बार फिर बैंकों को चेतावनी दी है। रिजर्व बैंक ने 15 फरवरी को एक और सर्कुलर जारी किया है, जिसमें सभी बैंकों के चेयरमैन, मैनेजिंग डायरेक्‍टर और चीफ एग्‍जीक्‍यूटिव ऑफिसर्स को अपने ब्रान्‍चों में सभी तरह के सिक्‍के लेने के आदेश का पालन हो रहा है या नहीं, यह सुनिश्चित करने को कहा गया है। साथ ही बैंक ने आदेश का पालन न होने पर कार्रवाई की भी चेतावनी दी है। 

 

बता दें कि इससे पहले RBI ने जुलाई के सर्कुलर में बैंकों को आदेश दिया था कि कोई भी बैंक ब्रान्‍च छोटे मूल्‍य के नोट और सिक्‍के लेने से इंकार नहीं कर सकते। इसलिए सभी ब्रान्‍चों में नोट और सिक्‍के बदलने की सुविधा दी जाए। लेकिन इसके बावजूद रिजर्व बैंक को अभी भी बैंक ब्रान्‍चों में सिक्‍के नहीं लिए जाने की शिकायतें मिल रही हैं। इसी को देखते हुए RBI ने एक बार फिर बैंकों को सचेत किया है। साथ ही उन्‍हें सिक्‍कों को पॉलिथीन में लेने की सलाह भी दी है।

 

आगे पढ़ें- बैंकों की करनी का क्‍या हो रहा असर  

बैंकों की देखादेखी दुकानदार भी कर रहे सिक्‍के लेने से इंकार 

नए सर्कुलर में कहा गया है कि अभी भी बैंक ब्रान्‍चों में सिक्‍के नहीं लिए जाने की शिकायतें मिल रही हैं। बैंकों की ओर से इन्‍हें लेने से मना कर दिए जाने के चलते दुकानदार और छोटे ट्रेडर्स आदि भी सिक्‍कों को लेने से मना कर रहे हैं। इसके चलते आम जनता को बड़े पैमाने पर असुविधा हो रही है। इसलिए सभी बैंक एक बार फिर तत्‍काल रूप से अपनी सभी ब्रान्‍चों को निर्देश दें कि बैंक काउंटर पर आने वाले किसी भी मूल्‍य के सिक्‍कों को स्‍वीकार किया जाए। अगर कोई इन्‍हें बदलने या फिर अकाउंट में डिपॉजिट करने की मांग करता है तो ऐसा भी किया जाए। 

 

आगे पढ़ें- काउंटर पर रख सकते हैं पॉलीबैग 

काउंटर पर रखें पॉलि‍थीन सैशे 

RBI ने यह भी कहा है कि सिक्‍कों को खुला लेने के बजाय, इन्‍हें पॉलिथीन में लेना कैशियर और ग्राहकों दोनों के लिए सुविधाजनक रहेगा। एक पॉलिथीन में सिक्‍कों की संख्‍या 100 रखी जा सकती है। बैंक इन पॉलिथीन सैशों को काउंटर्स पर रख सकते हैं और ग्राहकों को उपलब्‍ध करा सकते हैं। इस बारे में एक नोटिस ब्रांच के अंदर और बाहर लगाया जा सकता है ताकि लोगों को सूचना मिल जाए। 

 

आगे पढ़ें- करेंसी चेस्‍ट में जमा कराएं सिक्‍के

करेंसी चेस्‍ट में जमा कराएं सिक्‍के 

ब्रांच में सिक्‍कों को रखने से जुड़ी परेशानियों को दूर करने के लिए सिक्‍कों को करेंसी चेस्‍ट्स में मौजूदा प्रोसिजर के मुताबिक रखा जा सकता है। करेंसी चेस्‍ट में जमा होने वाले सिक्‍कों को रि-सर्कुलेशन के लिए इस्‍तेमाल किया जाना चाहिए। चूंकि सिक्‍कों की डिमांड कम रहती है, इसलिए करेंसी चेस्‍ट में अगर इन सिक्‍कों का स्‍टॉक क्षमता से ज्‍यादा हो जाए तो ऐसे में इश्‍यू डिपार्टमेंट ऑफ द सर्किल सिक्‍कों को दूसरी जगह भेजने (रेमिटेन्‍स) की व्‍यवस्‍था कर सकता है। 

 

आगे पढ़ें- किया जाए बैंकों का आकस्मिक दौरा

कंट्रोलिंग ऑफिसेज करें आकस्मिक दौरा 

RBI नें यह भी कहा है कि कंट्रोलिंग ऑफिसेज को भी सलाह दी जाती है कि वे ब्रांचों का आकस्मिक दौरा करें और इस बात की रिपोर्ट हेड ऑफिस को भेजें कि क्‍या ब्रान्‍च सिक्‍कों को लेने के आदेश का पालन कर रहे हैं या नहीं। हेड ऑफिस इस रिपोर्ट का रिव्‍यू करे और अगर जरूरत पड़े तो कार्रवाई भी करे। 

 

आगे पढ़ें- हुआ उल्‍लंघन तो होगी कार्रवाई 

नहीं हुआ पालन तो होगी कार्रवाई 

सिक्‍कों को न लेना RBI के निर्देशों का उल्‍लंघन माना जाएगा और दोषी ब्रान्‍चों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। इसमें जरूरत पड़ने पर दंडात्मक कार्रवाई भी शामिल है। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट