Home » Economy » Bankingबैंक ब्रान्‍च बदलने के लिए प्रोसिजर- know how to change bank branch

बदलना चाहते हैं अपनी बैंक ब्रांच, एक एप्लीकेशन से हो जाएगा काम

अभी भी कुछ काम ऐसे हैं, जिनके लिए आपको होम बैंक ब्रान्‍च में जाना ही पड़ता है।

1 of

नई दिल्‍ली. ऑनलाइन फैसिलिटीज आने के बाद बैंक ब्रान्‍च में जाने की जरूरत न के बराबर ही होती है। अगर जरूरत पड़ती भी है तो 2012 में आए बैंक अकाउंट पोर्टेबिलिटी सिस्‍टम के चलते किसी भी बैंक ब्रान्‍च से काम हो जाता है। लेकिन अभी भी कुछ काम ऐसे हैं, जिनके लिए आपको होम बैंक ब्रान्‍च में जाना ही पड़ता है। ऐसे में अगर बैंक ब्रान्‍च किसी दूसरे शहर में है और आप किसी अन्‍य शहर में तो आप बैंक की ब्रान्‍च बदल भी सकते हैं। इसके लिए कुछ बैंकों में फॉर्म तो कहीं एक एप्‍लीकेशन से भी काम हो जाता है। 

 

क्‍या होता है प्रोसिजर

- SBI को छोड़कर बाकी सभी बैंकों में अभी भी ब्रान्‍च बदलने का प्रोसिजर ऑफलाइन ही है। इसके लिए आपको एक फॉर्म भरना होता है और इसे अपने मौजूदा बैंक ब्रान्‍च को देना होता है। SBI में ऐसा ऑनलाइन भी किया जा सकता है। 
- SBI, केनरा बैंक, यूनाईटेड बैंक ऑफ इंडिया आदि में इस प्रोसेस के लिए कोई फॉर्म नहीं है, आप सादा कागज पर भी एप्‍लीकेशन लिखकर सबमिट कर सकते हैं। वहीं HDFC बैंक में फॉर्म को ऑनलाइन डाउनलोड या फिर ब्रान्‍च से लिया जा सकता है। 
- अगर आपने अपना एड्रेस बदला है तो आपको इसका प्रूफ बैंक को देना होगा। 
- अगर अकाउंट ज्‍वॉइंट है तो दोनों अकाउंट होल्‍डर्स के साइन से ही ब्रान्‍च बदली जा सकेगी। 
- कुछ बैंक ब्रान्‍च बदलने पर आपको नई चेकबुक इश्‍यू करते हैं, जिस पर आपका नया एड्रेस होता है। वहीं कुछ बैंक जैसे केनरा बैंक, यूनाईटेड बैंक ऑफ इंडिया आपका डेबिट या ATM कार्ड और पासबुक भी ले लेते हैं। नई ब्रान्‍च आपको फिर से ये चीजें रीइश्‍यू करती है। 

 

आगे पढ़ें- बाकी की डिटेल्‍स

बैलेंस हो जाएगा ट्रांसफर, नहीं देनी होगी कोई फीस 

बैंक इस प्रोसेस के लिए कोई चार्ज भी नहीं ले सकते। ब्रान्‍च बदलने पर आपके मौजूदा अकाउंट को क्‍लोज कर दिया जाता है और उसमें मौजूद बैलेंस को नए ब्रान्‍च अकाउंट में ट्रान्‍सफर कर दिया जाता है। वहीं कुछ बैंक, अकाउंट नंबर पोर्टेबिलिटी की भी सुविधा देते हैं। रिजर्व बैंक ने बैंकों को निर्देश दिए हैं कि बैंक ब्रान्‍च बदलने पर अकाउंट के लिए फिर से KYC नहीं की जाएगी। यानी अगर आप पहले से KYC करा चुके हैं तो आपको दोबारा इस झंझट में नहीं पड़ना होगा। 

 

आगे पढ़ें- एसबीआई में ऐसा ऑनलाइन कैसे करें 

SBI में ऑनलाइन ये है प्रोसिजर 

SBI में ऑनलाइन ब्रान्‍च बदलने के लिए आपको पुराने ब्रान्‍च कोड और नए ब्रान्‍च कोड (जिसमें आप अकाउंट ट्रान्‍सफर करना चाहते हैं) की जरूरत होगी। साथ ही आपका मोबाइल नंबर भी बैंक में रजिस्‍टर होना चाहिए। हालांकि KYC नहीं हुए और इनऑपरेटिव अकाउंट को ट्रान्‍सफर नहीं किया जा सकेगा।

 

स्‍टेप्‍स 

- www.onlinesbi.com पर पर्सनल बैंकिंग में लॉग इन करें। लॉग इन के तीन वर्जन्‍स मौजूद हैं। 
- 'ई-सर्विसेज' पर क्लिक कर 'ट्रान्‍सफर ऑफ सेविंग्‍स अकाउंट' पर जाएं। 
- नए पेज में ट्रान्‍सफर किया जाने वाला सेविंग्‍स अकाउंट नंबर और जिस ब्रान्‍च में अकाउंट ट्रान्‍सफर करना है, उसका कोड डालकर 'गेट ब्रान्‍च नेम' पर क्लिक करें। नई ब्रांच सिलेक्‍ट करें। 
- निर्धारित स्‍पेस में ब्रान्‍च का नाम डालकर सबमिट पर क्लिक करें। 
- अकाउंट ट्रान्‍सफर डिटेल्‍स को वेरिफाई कर कन्‍फर्म करें।
- रजिस्‍टर्ड मोबाइल नंबर पर आए ओटीपी को निर्धारित स्‍पेस में डालकर कन्‍फर्म पर क्लिक करें। 
- इसके बाद आपके सेविंग्‍स अकाउंट की ब्रान्‍च बदले जाने की रिक्‍वेस्‍ट रजिस्‍टर्ड हो जाने का मैसेज आएगा। 

 

आगे पढ़ें- बैंक से पहले ही ले लें सारी जानकारी

अपने बैंक से कर लें पता

अगर आप अपनी बैंक ब्रान्‍च बदलना चाहते हैं तो बैंक से इस बारे में सारी जानकारी जरूर ले लें। वहां क्‍या प्रोसिजर है, क्‍या डॉक्‍युमेंट्स चाहिए होंगे, इन सभी बातों को पता करने के बाद ही प्रोसेस को आगे बढ़ाएं। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट