बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Bankingविदेश में हैं तो WhatsApp से भेज दीजिए पत्‍नी-बच्‍चों को पैसे, ICICI बैंक की खास सर्विस

विदेश में हैं तो WhatsApp से भेज दीजिए पत्‍नी-बच्‍चों को पैसे, ICICI बैंक की खास सर्विस

आईसीआईसीआई बैंक ने सोशल मीडिया आधारित रेमिटेंस सर्विस शुरू की है।

1 of

नई दिल्‍ली. सोशल मीडिया का इस्‍तेमाल अब धीरे-धीरे मनी ट्रांसफर प्‍लेटफार्म के रूप में होने लगा है। इसी दिशा में कदम बढ़ाते हुए प्राइवेट सेक्‍टर के आईसीआईसीआई बैंक ने सोशल मीडिया आधारित रेमिटेंस सर्विस शुरू की है। इसके जरिए व्‍हाट्सऐप जैसे सोशल मीडिया प्‍लेटफार्म और ई-मेल के जरिए पैसे ट्रांसफर किए जा सकते हैं।

 

 

दरअसल, आईसीआईसीआई बैंक ने एनआरआई के लिए क्रास-बॉर्डर रेमिटेंस फैसेलिटी सोशल मीडिया प्‍लेटफार्म पर शुरू की है। इस सर्विस के जरिए एनआरआई अपनी फैमिली या दोस्‍तों को सोशल मीडिया प्‍लेटफार्म के जरिए पैसे भेज सकते हैं। इस सर्विस को 'सोशल पे' नाम दिया गया है।

 

कैसे यूज कर सकेंगे सर्विस?

आईसीआईसीआई बैंक की ओर से जारी बयान के अनुसार, सोशल पे सर्विस का इस्‍तेमाल करने के लिए सबसे पहले सेंडर यानी पैसे पैसे भेजने वाले को भारत में मनी ट्रांसफर के लिए रेमिटेंस सर्विस अप्‍लीकेशन मनी2इंडिया (M2I ऐप) पर रजिस्‍टर करना होगा। पैसे भेजने के लिए यूजर को M2I ऐप  से एक सेक्‍योर लिंक जेनरेट करना होगा, जो 24 घंटे के लिए वैलिड होगा। इसके बाद इसे बेनेफिशियरी, यानी जिसे पैसा भेजना है, के सोशल मीडिया प्रोफाइल या ईमेल पर यह लिंक शेयर करना होगा। इसमें बैंक डिटेल शामिल होगी। इस लिंक में सेंडर की ओर से 4 डिजिट का कोड सेट होगा, जिसे बेनेफिशियरी के साथ शेयर करना होगा। इस कोड के वेरिफाई होने के बाद ही ट्रांजैक्‍शन पूरा होगा।

 

 

आगे पढ़ें... कब-कब होगा इस सर्विस का फायदा

 

 

कैसे होगा फायदा?

बैंक का कहना है कि कुछ खास मौकों जैसे त्‍योहार या जन्‍मदिन पर विदेश में रहने वाले भारतीय अपने परिवार या दोस्‍तों को पैसे भेज सकते हैं।

 

भारत में यह पहली सर्विस

आईसीआईसीआई बैंक का कहना है कि भारत में यह अपनी तरह की पहली सर्विस है। इसके अलावा दुनिया में कुछ ही जगहों पर यह सर्विस है, जिनके जरिए सोशल मीडिया पर रेमिटेंस भेजा जा सकता है। आईसीआईसीआई बैंक के एग्‍जीक्‍यूटिव डायरेक्‍टर विजय चंडोक का कहना है कि सोशल पे सर्विस के जरिए विदेश से मनी ट्रांसफर आसान हो जाएगा। बैंक का कहना है कि यह ट्रांजैक्‍शन पूरी तरह सेफ और सेक्‍योर होगा, क्‍योंकि इसमें बैंक और M2I यूजर के बीच टू-फैक्‍टर अंथेटिकेशन प्रॉसेस है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट