बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Banking80 हजार करोड़ के PSU बैंक रीकैप बॉन्‍ड के लिए संसद की मंजूरी, मार्च तक होंगे जारी

80 हजार करोड़ के PSU बैंक रीकैप बॉन्‍ड के लिए संसद की मंजूरी, मार्च तक होंगे जारी

बैंक रीकैपिटलाइजेशन के लिए सरकार मौजूदा फाइनेंशियल ईयर के अंत तक 80 हजार करोड़ के बॉन्ड जारी करेगी।

1 of

नई दिल्ली। बैंक रीकैपिटलाइजेशन के लिए सरकार मौजूदा फाइनेंशियल ईयर के अंत तक 80 हजार करोड़ के बॉन्ड जारी करेगी। इस एवज में संसद ने अपनी मंजूरी दे दी है। सरकार ने संसद में अतिरिक्त खर्च के लिए सप्लीमेंटरी डिमांड के जरिए मंजूरी मांगी है। माना जा रहा है कि जनवरी में सरकार पहला लॉट जारी कर सकती है। बता दें कि पीएसयू बैंकों के रीकैपिटलाइजेशन प्लान को हाल ही में मूजरी मिली थी। जिसके तहत 2 साल में बैंकों को 2.11 लाख करोड़ रुपए दिए जाएंगे। 

 

 

 

बता दें कि बैंक रीकैपिटलाइजेशन प्लान के तहत सरकार जनवरी में रीकैप बॉन्ड का पहला लॉट जारी कर सकती है। रीकैपिटलाइजेशन बॉन्ड को ओपेन मार्केट में नहीं बेचा जाएगा। यह सभी सरकारी बैंकों को इश्‍यू किया जाएगा। इसके अलावा सरकार प्रदर्शन के आधार पर बैंकों को अतिरिक्त राशि देगी। हालांकि रीकैपिटलाइजेशन बॉन्ड के बारे में अन्य कोई डिअेल अभी नहीं आई है। 

 

अच्छे प्रदर्शन वाले बैंकों को पहले सपोर्ट 
पीएसयू बैंक रीकैपिटलाइजेशन प्लान के तहत बेहतर प्रदर्शन करने वाले बैंकों को ही पहले कैपिटल सपोर्ट मिलेगा। पिछले दिनों एक सीनियर ऑफिशियल ने यह जानकारी दी थी कि इस फाइनेंशियल ईयर में सभी बैंकों को सरकार पैसे नहीं देगी। जो बैंक एक तय पैरामीटर पर बेहतर प्रदर्शन वाले होंगे, उन्हीं को पहले सपोर्ट किया जाएगा। बता दें कि हाल ही में सरकार ने सरकारी बैंकों के लिए 2.11 लाख करोड़ के रीकैपिटलाइजेशन प्लान को मंजूरी दी थी। 

 

रोडमैप, रिफार्म्स और प्रदर्शन के आधार पर
ऑफिशियल के अनुसार पहले फेज में सभी बैंकों के लिए रीकैपिटलाइजेशन बॉन्ड लाना जरूरी नहीं होगा। बैंकों को पहले फेज में पैसे दिए जाने के पहले कई पैरामीटर देखे जाएंगे। यह बैंकों के आगे के लिए रोडमैप, रिफार्म्स और प्रदर्शन के आधार पर होगा। 

 

पहले 8 बैंकों में सरकार घटाएगी हिस्सेदारी  
रीकैपिटलाइजेशन प्लान के तहत 8 सरकारी बैंकों में अगले 4 महीने में मार्केट से फंड जुटाने के लिए सरकार अपनी हिस्सेदारी कम करेगी। कुछ बैंकों को इस मामले में फाइनेंस मिनिस्ट्री से मंजूरी मिल चुकी है, वहीं कुछ बैंक मंजूरी के लिए इंतजार कर रहे हैं। फंड प्राइवेट प्लेसमेंट या राइट इश्‍यू से जुटाया जाएगा। सूत्रों के अनुसार इसमें पहला नाम पीएनबी का है, जिसका टारगेट 5000 करोड़ रुपए जुटाने का है। 

 

ये बैंक शेयर बेचने के लिए तैयार 
सूत्रों के अनुसार इसमें पहला नाम पंजाब नेशनल बैंक का है, जिसका टारगेट मार्केट से 5000 करोड़ जुटाने का है। इसके अलावा बैंक ऑफ बड़ौदा, इलाहाबाद बैंक, आंध्रा बैंक, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया और बैंक ऑफ इंडिया में शेयर बेचने के लिए तैयार हैं। 

 

2.11 लाख करोड़ का रीकैप प्लान हुआ था मंजूर
बता दें कि सरकार ने हाल ही में बैंकों के लिए 2.11 लाख करोड़ रुपए के रीकैपिटलाइजेशन प्लान को मंजूरी दी थी। बैंकों को यह पैसा 2 साल में दिया जाना है। इसमें 1.35 लाख करोड़ का रीकैपिटलाइजेकशन बॉन्ड लाया जाएगा, वहीं, 76 हजार करोड़ रुपए बजट और बाजार से जुटाए जाएंगे। इसमें से बाजार से 58000 करोड़ जुटाने हैं। 18 हजार करोड़ रुपये इंद्रधनुष योजना के तहत दिए जाएंगे। सी के तहत बैंक सरकारी की हिस्सेदारी कम करने की योजना में हैं। 
 
ग्रोथ और जॉब के लिए जरूरी कदम 
लेटेस्ट डाटा के अनुसार 39 लिस्टेड बैंकों का कुल एनपीए 8.35 लाख करोड़ पहुंच चुका है। सरकार का कहना है कि  निवेश, जॉब और ग्रोथ के लिए बैंकों को मजबूत बनाया जा रहा है। इसके लिए पीएसयू बैंकों के लिए कैपिटलाइजेशन प्लान तैयार किया गया है। इसके तहत 1.35 लाख करोड़ रुपए के बांड जारी किए जाएंगे। 76 हजार करोड़ रुपए बजटीय सहायता और बाजार से दिए जाएंगे। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट