Home » Economy » BankingDo not do these mistakes while transacting with cheque

कैश की जगह चेक से कर रहे हैं लेन-देन, ये 7 गलतियां पड़ेंगी भारी

अक्‍सर हम जल्‍दबाजी में चेक के साथ कुछ छोटी-छोटी लापरवाही कर बैठते हैं और बाद में हमें इसका खामियाजा भुगतना पड़ता है।

1 of

नई दिल्‍ली. आजकल डिजिटल पेमेंट को लेकर देश में काफी जोर दिया जा रहा है। कैश का इस्‍तेमाल कम करने और नेट बैंकिंग, कार्ड पेमेंट, चेक, ड्राफ्ट आदि के जरिए भुगतान को प्रमोट किया जा रहा है। अगर आप चेक से लेन-देन कर रहे हैं तो आपको कुछ चीजों पर गौर करना जरूरी है। अक्‍सर हम जल्‍दबाजी में चेक के साथ कुछ छोटी-छोटी लापरवाही कर बैठते हैं और बाद में हमें इसका खामियाजा भुगतना पड़ता है। इसलिए जरूरी है कि हम सावधानी से काम लें। आइए आपको बताते हैं कि चेक से ट्रान्‍जैक्‍शन के वक्‍त हमें कौन सी गलतियां करने से बचना चाहिए- 

चेक की डेट की अनदेखी 

याद रहे कि चेक उस पर डाली गई डेट के बाद 3 महीने तक ही वैलिड रहता है। इसलिए अगर आपने किसी से चेक लिया है तो उसे तय समय के अंदर बैंक में डिपॉजिट कर दें, वर्ना उसका अमाउंट आपके काम नहीं आएगा और आपको नुकसान झेलना पड़ेगा। इसके अलावा आप भी जब किसी को आगे की डेट में चेक से पेमेंट कर रहे हों तो इस बात का ध्‍यान रखें। 

 

डिटेल्‍स में गलती कर काट देना 

चेक में डिटेल्‍स भरते वक्‍त सावधानी बरतना बेहद जरूरी है। अगर ऐसा करते हुए कोई गलती हो जाती है तो कोशिश करें कि आप नया चेक इस्‍तेमाल करें। अगर आप चेक में गलती होने के बाद उसे काटकर उसी चेक को इस्‍तेमाल करते हैं तो बैंक द्वारा आपसे सवाल-जवाब करने की स्थिति पैदा हो जाती है, साथ ही बैंक चेक रिजेक्‍ट भी कर सकते हैं। इसलिए चेक देते या लेते वक्‍त गौर जरूर करें कि उस पर सारी डिटेल्‍स सही और साफ-साफ उल्ल्‍िखित हों। 

 

आगे पढ़ें- और कौन सी गलतियां कर सकती हैं नुकसान

सिग्‍नेचर (हस्‍ताक्षर) पर ध्‍यान न देना  

जब भी आप चेक साइन करें तो याद रखें कि आपको इस पर वैसे ही साइन करने हैं, जैसे संबंधित बैंक ब्रांच रिकॉर्ड में हैं। कई लोग अलग-अलग बैंकों के लिए अलग-अलग साइन रखते हैं। अगर आपने भी ऐसा किया हुआ है तो साइन करते वक्‍त सावधानी जरूर बरतें वर्ना चेक रिजेक्‍ट भी हो सकता है। 

 

आगे पढ़ें- ये गलती भी लिस्‍ट में 

अकाउंट पेई न करना

अगर आप सीधे किसी के बैंक अकाउंट में पेमेंट करना चाहते हैं तो चेक पर अकाउंट पेई जरूर डालें। यह साइन चेक के लेफ्ट (बायीं) टॉप कॉर्नर पर डबल क्रॉस लाइन के बीच A/C Payee लिखकर बनाया जाता है। इस साइन से चेक का पेमेंट सीधा अकाउंट में होता है और इसे तुरंत भुनाया नहीं जा सकता है। इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि चेक खोने की स्थिति में कोई जालसाज खुद को टार्गेट पर्सन बताकर उसके बदले कैश नहीं ले सकता है। 

 

आगे पढ़ें- ज्‍यादा स्‍पेस भी खतरनाक

शब्‍दों और फिगर्स के बीच ज्‍यादा स्‍पेस

जब भी किसी को चेक से पे करें तो नाम और अमांउट को लेकर शब्‍दों व फिगर्स के बीच ज्‍यादा स्‍पेस न रखें। ज्‍यादा स्‍पेस नाम और अमांउट में छेड़छाड़ की गुंजाइश पैदा कर देता है। इसलिए ध्‍यान रहे कि उचित स्‍पेस दिया जाए।  

 

आगे पढ़ें- अमांउट के बाद जरूर डालें ये साइन 

अमाउंट के बाद '/-' साइन न डालना 

चेक में शब्‍दों और अंकों में अमांउट डालने के बाद उसके पीछे /- का साइन बनाना बेहद जरूरी है। यह साइन इस बात को दर्शाता है कि आपके द्वारा डाला अमाउंट इतने तक ही सीमित है। अगर आप इस साइन को नहीं डालते हैं तो जालसाजों के लिए अमांउट बढ़ा लिए जाने का अवसर पैदा हो जाता है। 

 

आगे पढ़ें- चेक की डिटेल्‍स नोट न करना

चेक की डिटेल्‍स अपने पास न रखना

जब भी किसी को चेक दें तो उकसी डिटेल्‍स जैसे चेक नंबर, अकाउंट का नाम, अमाउंट और डेट जरूर नोट कर लें। यह इनफॉरमेशन चेक कैंसिल करने की जरूरत पड़ने पर आपके काम आ सकती है। अक्‍सर  लोग डिटेल्‍स नोट नहीं करते, जिसके चलते उन्‍हें नुकसान भी उठाना पड़ता है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट