Home » Economy » BankingATM charge may increase due to ATM upgradation cost

ATM यूज करना हो सकता है महंगा, RBI का नया ऑर्डर बनेगा वजह

साथ ही यह भी हो सकता है कि फ्री एटीएम ट्रान्‍जेक्‍शंस की संख्‍या घटाकर कम कर दी जाए, जो अभी 5 या 3 है।

1 of

नई दिल्‍ली. कुछ महीनों के अंदर आप पर ATM चार्ज का बोझ बढ़ सकता है। इसकी वजह होगी हाल ही में रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा ATM अपग्रेडेशन को लेकर दिए गया निर्देश। इस निर्देश को लेकर ATM इंडस्‍ट्री का कहना है कि उसकी लागत बढ़ जाएगी और इसकी भरपाई करने के लिए इंडस्‍ट्री ने ATM चार्ज बढ़ाने की मांग रख दी है। कन्‍फेडरेशन ऑफ ATM इंडस्‍ट्री (CATMI) का कहना है कि पहले से ही इंडस्‍ट्री घाटे में चल रही है और ATM अपग्रेडेशन से उनकी लागत बढ़ जाएगी। लिहाजा एटीएम ट्रान्‍जेक्‍शन फीस को बढ़ाया जाए। CATMI  की मांग है कि ATM के फी स्‍ट्रक्‍चर को उचित बनाने के लिए तत्‍काल रूप से नियामकीय हस्‍तक्षेप हो। 

 

क्‍या था RBI का आदेश 

दरअसल ATM के जरिए धोखाधड़ी और हैकिंग की बढ़ती शिकायतों को गंभीरता से लेते हुए रिजर्व बैंक (RBI) ने ATM अपग्रेडेशन की समय सीमा तय कर दी थी। यह डेडलाइन 6 चरणों में बंटी हुई है और पहली डेडलाइन अगस्‍त 2018 है। वहीं छठा यानी अंतिम चरण जून 2019 को खत्‍म होगा। यानी बैंकों को जून 2019 तक हर हाल में ATM अपग्रेडेशन का काम पूरा करना होगा। अब बैंकों और व्‍हाइट लेबल ATM ऑपरेटर्स को इसी समय सीमा में सभी ATM का अपग्रेडेशन खत्‍म करना होगा। ATM अपग्रेडेशन के तहत BIOS पासवर्ड, USB पोर्ट डिसेबल करना, ऑपरेटिंग सिस्‍टम का लेटेस्‍ट वर्जन अप्‍लाई करने के साथ-साथ नए नोटों के लिहाज से कैसेट्स को रीकन्‍फ्यीग्‍यर करना भी शामिल था। 

 


25% बढ़ जाएगी लागत 

CATMI के डायरेक्‍टर जनरल ललित सिन्‍हा का कहना है कि RBI के ताजा निर्देश से ATM की लागत कम से कम 25 फीसदी बढ़ जाएगी। वहीं बैंकों भी अपनी सर्विस महंगी करेंगे क्‍योंकि उनकी ऑपरेशनल कॉस्‍ट भी 40 फीसदी बढ़ जाएगी। ATM इंडस्‍ट्री का कहना है कि पहले से ही यह इंडस्‍ट्री घाटे में चल रही है क्‍योंकि ATM ट्रान्‍जेक्‍शन पर फीस केवल 15 रुपए है। वहीं नॉन-कैश ट्रान्‍जेक्‍शंस पर फीस 5 रुपए है। हालांकि यह फीस कस्‍टमर पर नहीं लगती है। कस्‍टमर को पैसा तभी देना होता है जब फ्री ट्रांजेक्‍शंस की संख्‍या पूरी होने के बाद भी वह ATM से कोई ट्रान्‍जेक्‍शन करे। इस फीस को 2012 में तय किया गया था और तब से इसमें कोई बदलाव नहीं हुआ है। वहीं ATM से एक ट्रान्‍जेक्‍शन की लागत एक दिन का 23 रुपए आती है।  

 

 

आप पर कैसे होगा असर 

एक बैंकर सुनील पंत के मुताबिक, ऑपरेशनल कॉस्‍ट बढ़ने की स्थिति में बैंक दो तरह के कदम उठा सकते हैं- पहला कस्‍टमर से फ्री ट्रान्‍जेक्‍ंशस खत्‍म होने पर लिए जाने वाले 18 रुपए प्‍लस GST चार्ज में बढ़ोत्‍तरी कर दें। दूसरा- फ्री ATM ट्रान्‍जेक्‍शंस की संख्‍या घटाकर कम कर दी जाए, जो अभी 5 या 3 है।

 

 

नए एटीएम लगाने पर भी पड़ सकता है असर  

सिन्‍हा के मुताबिक, RBI के निर्देश के अनुसार कैश मैनेजमेंट या लॉजिस्टिक्‍स, कैसेट स्‍वैप आदि के लिए बड़े इन्‍वेस्‍टमेंट की जरूरत होगी। इससे ATM की लागत 40 फीसदी तक बढ़ सकती है। CATMI का यह भी कहना है कि केवल व्‍हाइट लेबल ATM ऑपरेटर्स ही दूर-दराज के इलाकों और गांवों में ATM लगाते हैं। अगर ATM फीस नहीं बढ़ाई गई तो आरबीआई के निर्देशों का पालन करने से बढ़ी लागत के चलते भविष्‍य में ATM लगाने में मुश्किल आ सकती है। 
 
आगे पढ़ें- पहले भी निर्देश दे चुका है RBI

पहले भी निर्देश दे चुका है RBI

फरवरी, 2018 के अंत तक देशभर में करीब 2.06 लाख ATM थे। इनमें से कई ATM आज भी विंडोज XP या अन्‍य अनसपोर्टेड ऑपरेटिंग सिस्‍टम पर चल रहे हैं। इसकी वजह से इन ATM की सिक्‍योरिटी पर खतरा है। अप्रैल, 2017 में RBI ने बैंकों को गोपनीय सर्कुलर के जरिए विंडोज XP और अन्य ऐसी ऑपरेटिंग सिस्टम पर आधारित ATM के प्रति आगाह किया था। इसके अलावा बैंकों को तुरंत प्रभाव से उचित नियंत्रण भी लागू करने को कहा गया था। लेकिन इस दिशा में बैंकों के ढुलमुल रवैये को देखते हुए अब RBI ने सख्‍त रुख अपनाया है।  

 

आगे पढ़ें- डेडलाइन की डिटेल्‍स 

ये हैं डेडलाइन की डिटेल्‍स

- BIOS पासवर्ड, USB पोर्ट डिसेबल करना, ऑटो रन फैसिलिटी डिसेबल करना, ऑपरेटिंग सिस्‍टम व अन्‍य सॉफ्टवेयर्स का लेटेस्‍ट वर्जन अप्‍लाई करना, टर्मिनल सिक्‍योरिटी सॉल्‍युशन, टाइम बेस्‍ड एडमिन एक्‍सेस आदि जैसे कदमों को अमल में लाने के लिए RBI ने बैंकों को अगस्‍त 2018 तक का वक्‍त दिया है। 
- एंटी-स्किमिंग और व्‍हाइटलिस्टिंग सॉल्‍युशन लागू करने के लिए डेडलाइन मार्च 2019 तय की गई है। 
- सभी ATM को ऑपरेटिंग सिस्‍टम के सपोर्टेड वर्जन के साथ अपग्रेड करने के लिए डेडलाइन सितंबर 2018 है। ये अपग्रेडेशन चरणबद्ध तरीके से होगा। इसके तहत सितंबर 2018 तक मौजूदा अनसपोर्टेड ऑपरेटिंग सिस्‍टम पर काम करने वाले ATM में से 25 फीसदी अपग्रेड हो जाने चाहिए। दिसंबर 2018 तक इनमें से 50 फीसदी ATM का अपग्रेडेशन पूरा हो जाना चाहिए और मार्च 2019 तक यह आंकड़ा 75 फीसदी होना चाहिए। 
- सभी मौजूदा ATM के अपग्रेडेशन का काम पूरा होने के लिए जून 2019 आखिरी तारीख निर्धारित की गई है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट