Utility

24,712 Views
X
Trending News Alerts

ट्रेंडिंग न्यूज़ अलर्ट

Flight Delay, Cancel होने पर मिलेगा रिफंड-मुआवजा, सरकार जल्‍द ला रही कानून FD से 4% ज्‍यादा मिलेगा ब्याज, सीमित समय के लिए आईं दो नई स्कीम SBI Q4 Result: SBI को 7718 करोड़ रु का हुआ घाटा, प्रोविजनिंग दोगुने से ज्यादा बढ़कर 28096 करोड़ रु खास स्‍टॉक: महानगर गैस में 9% की गिरावट, Q4 नतीजों का दिखा असर Share Market: बाजार में 5 दिन की गिरावट ब्रेक, सेंसेक्स 35 अंक बढ़ा, निफ्टी 10550 के नीचे बंद Honor 7A और Honor 7C इंडि‍या में लॉन्‍च, 8999 रुपये है शुरुआती कीमत HSBC ब्लैकमनी लिस्ट: ED ने सीज की Dabur के बर्मन की 20.87 करोड़ रु की एसेट IOC का मुनाफा 40% बढ़कर 5218 करोड़ हुआ, GRM 9.15 डॉलर प्रति बैरल सरकारी बैंकों के रिफॉर्म का तय होगा पैरामीटर, कस्टमर से लेकर कारोबारी तक के लिए सुधरेंगी सर्विस Vishal Sikka को मिला 13 करोड़ वेतन भत्‍ता, Infosys की रिपोर्ट में खुलासा पेट्रोल-डीजल की कीमतें आसमान पर, 3 तरीकों से राहत दे सकती है सरकार Hyundai की कारें जून 2018 से 2% तक होंगी महंगी, इनपुट कॉस्ट बढ़ने का असर Stock Market: मार्केट को लेकर है अनिश्चितता, कंजम्पशन थीम वाले शेयर दे सकते हैं अच्छा रिटर्न Petrol Price Today: पेट्रोल ने पार किया नया लेवल, दिल्‍ली में 76.87 तो मुंबई में 84.70 रुपए पहुंची कीमतें iVoomi i2 भारत में लॉन्‍च, डुअल कैमरा, फास्‍ट चार्जि‍ंग और फेस अनलॉक से है लैस
बिज़नेस न्यूज़ » Economy » BankingPNB फ्रॉड: PSU बैंकों में सरकार 50% से कम करे हिस्‍सेदारी अपनी- एसोचैम

PNB फ्रॉड: PSU बैंकों में सरकार 50% से कम करे हिस्‍सेदारी अपनी- एसोचैम

नई दिल्‍ली. पीएनबी फ्रॉड सामने आने के बाद एक बार फिर सरकारी बैंकों के प्राइवेटाइजेशन करने की डिमांड जोर पकड़ने लगी है। इंडस्‍ट्री बॉडी एसोचैम ने कहा है कि पीएनबी घोटाला सरकार के लिए एक खतरे की घंटी है। सरकार को पीएसयू बैंकों में अपनी हिस्सेदारी घटाकर 50 फीसदी से कम कर देनी चाहिए और उन्‍हें प्राइवेट बैंकों की तरह काम करने की अनु‍मति दी जानी चाहिए। इस स्थिति में अपने स्‍टेकहोल्‍डर्स और कस्‍टमर्स की के हितों की रक्षा की पूरी जिम्मेदारी बैंकों की होगी।

 

बता दें, पीएनबी ने बीते बुधवार को खुलासा किया था कि बैंक की मुंबई की एक शाखा में 1,77.169 करोड़ डॉलर (करीब 11,400 करोड़ रुपए) की धोखाधड़ी हुई है। यह राशि बैंक की शुद्ध आय करीब 1,320 करोड़ रुपए के आठ गुना के बराबर है।

 

टैक्‍सपेयर्स के पैसे से राहत देने की भी है सीमा 

एसोचैम की ओर से जारी बयान के अनुसार, सरकारी बैंक एक के बाद एक संकट से गुजर रहे हैं और सरकार की ओर से टैक्‍सपेयर्स के पैसे से इनको राहत पैकेज देने की भी एक सीमा है। सरकारी बैंकों का सीनियर मैनेजमेंट अपना अधिकतर समय नौकरशाहों के निर्देशों का पालन करने में लगा देता है। बयान के अनुसार, इससे वे लोग जोखिमों को कम करने और मैनेजमेंट सहित सभी मुख्य बैंकिंग कामकाज की प्राथमिकता से हट गए हैं। यह समस्या और गंभीर हो गई है क्योंकि बैंक नई टेक्‍नोलॉजी का इस्तेमाल कर रहे हैं, जो वरदान या अभिशाप कुछ भी सिद्ध हो सकते हैं।

 

जवाबदेही तय करना जरूरी 

एसोचैम का कहना है कि सरकारी बैंकों में सरकार की हिस्सेदारी 50 फीसदी से कम होने पर सीनियर मैनेजमेंट को जवाबदेही और जिम्मेदारी के साथ अधिक स्वायतत्ता भी मिल जाएगी। एसोचैम के महासचिव डीएस रावत ने जारी बयान में भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) से पूरे फाइनेंशियल सेक्‍टर में कारोबार में ट्रांसपरेंसी बहाल करने के तरीकों में शामिल होने का आग्रह किया है। चाहे वह निजी बैंक हो या सरकारी बैंक या गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनियां (एनबीएफसी) ही क्‍यों न हों। इस संदर्भ में चीफ इकोनॉमिक एडवाइजर (सीईए) अरविंद सुब्रमण्यम ने सरकारी क्षेत्र के बैंकों में निजी भागीदारी को और बढ़ाने की वकालत की।

 

और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

Trending

NEXT STORY

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.