बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Bankingआज से शुरू होगा इंडिया पोस्ट का पेमेंट बैंक, पीएम मोदी करेंगे शुरुआत

आज से शुरू होगा इंडिया पोस्ट का पेमेंट बैंक, पीएम मोदी करेंगे शुरुआत

जीरो बैलेंस पर खुलेगा अकाउंट, आम बैंकों से 1.5 फीसदी ज्यादा मिलेगा ब्याज

1 of

 

नई दिल्ली. डाक विभाग के पूर्ण स्वामित्व वाले इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (IPPB) का ऑपरेशन आज (1 सितंबर )  से चालू हो जाएगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नई दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में एक कार्यक्रम के दौरान IPPB की औपचारिक शुरुआत करेंगे। इसी के साथ ही  देश भर में इसकी 650 शाखाएं और 3250 डाकघरों में सेवा केंद्रों की शुरुआत हो जाएगी। साल के अंत तक देश के 1.55 लाख डाकघरों में यह सेवा शुरू हो जाएगी। 

 

 

खुलेंगे तीन तरह के सेविंग्स अकाउंट
इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक आपको तीन तरह के सेविंग अकाउंट खोलने की सुविधा देगा। रेगुलर सेविंग अकाउंट, डिजिटल सेविंग अकाउंट और बेसिक सेविंग अकाउंट। ये तीनों अकाउंट जीरो बैलेंस पर खोले जा सकते हैं।  खाता खुलने के बाद आप पैसा जमा व निकासी कर सकते हैं। इन सभी के लिए सालाना ब्‍याज दर 4 फीसदी रहेगी।

 

पेमेंट्स बैंक की सर्विसेज
इंडिया पोस्‍ट पेमेंट बैंक आम लोगों तक पहुंच के मामले में भारत का दूसरा सबसे बड़ा पेमेंट बैंक होगा। प्राइवेट सेक्टर में एयरटेल और पेटीएम पहले से पेमेंट बैंक की सर्विस दे रही हैं। IPPB की सर्विसेज के तहत सेविंग्‍स अकाउंट, करंट अकाउंट, डॉमेस्टिक रेमिटेंस सर्विसेज, डिजिटल पेमेंट, थर्ड पार्टी इंश्‍योरेंस, म्‍युचुअल फंड आदि शामिल हैं। इसके अलावा सरकार पेमेंट्स बैंक का इस्‍तेमाल नरेगा का वेतन, सब्सिडी, पेंशन आदि बांटने में भी करेगी। 

 
17 करोड़ पोस्‍टल सेविंग्‍स बैंक खाते जुड़ेंगे
IPPB को 17 करोड़ पोस्टल सेविंग्स बैंक खातों को अपने साथ जोड़ने की अनुमति दी गई है। आईपीपीबी के काम शुरू करने के बाद ग्रामीण इलाकों में लोगों को डिजिटल बैंकिंग और वित्तीय सेवाओं की सुविधा मिलने लगेगी। वह किसी भी बैंक खाते में धन हस्तांतरित कर सकेंगे। यह काम वह मोबाइल एप अथवा डाकघर में जाकर कर सकेंगे। 

 

आगे पढ़ें- मुनाफे का एक चौथाई डाक सेवकों को 

मुनाफे का एक चौथाई डाक सेवकों को 
 संचार मंत्री मनोज सिन्हा ने हाल में बताया था कि  बताया कि आईपीपीबी को जितना भी मुनाफा होगा उसका 25 प्रतिशत ग्रामीण डाक सेवकों को कमीशन के रूप में दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि पीएम मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल की बुधवार को हुई बैठक में ग्रामीण डाक सेवकों को सीधे कमीशन देने की मंजूरी दी गई है। इस फैसले से उन्हें तत्काल कमीशन देना संभव हो सकेगा जो उनके प्रोत्साहन के लिए बेहतर होगा। 

 

आगे पढ़ें-देशभर में  2.60 लाख ग्रामीण डाक सेवक 

देशभर में  2.60 लाख ग्रामीण डाक सेवक 
इस समय देश में 40 हजार डाकिए और लगभग 2.60 लाख ग्रामीण डाक सेवक हैं। इससे डाक विभाग के संचालन में उनके महत्व को समझा जा सकता है। सभी डाक सेवकों को स्मार्टफोन और हाथ में रखी जा सकने वाली मशीनें दी जाएंगी, इनके जरिये क्यूआर कार्ड स्कैन कर और बायोमीट्रिक अथेंटिकेशन कर तत्काल ट्रांजेक्शन पूरा किया जा सकेगा। IPPB के मुनाफे में पांच प्रतिशत डाक विभाग को भी दिया जाएगा। इस पैसे का इस्तेमाल डाक विभाग में बुनियादी ढांचों को बेहतर बनाने के लिए किया जाएगा। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट