Home » Economy » BankingSoon you will own money but won't be able to touch it, govt plans to launch digital currency

अब सिर्फ आपकी पासबुक पर रहेंगे नोट, सरकार जल्द जारी करेगी डिजिटल करेंसी

अापके अकाउंट में रहेगा पैसा मगर अापके हाथों में नहीं आ पाएगा।

1 of

नई दिल्ली.

अब जल्द ही आपके पैसे आपके अकाउंट में होंगे लेकिन हाथों में नहीं आ पाएंगे। आप अभी की तरह रुपए के नोटों को छू नहीं पाएंगे। ऐसा इसलिए क्योंकि सरकार जल्द ही डिजिटल करेंसी जारी करने जा रही है। आर्थिक मामलों के सचिव सुभाष चंद्र की अगुआई में बनी कमेटी ने सरकार को इस बारे में एक ड्राफ्ट सौंपा है। उनके मुताबिक बिटकॉइन जैसी वर्चुअल करेंसी से निपटने के लिए डिजिटल करेंसी का जारी किया जाना जरूरी है।

 

वित्त मंत्रालय और आरबीअाई करेंगे बैठक

रिजर्व बैंक आॅफ इंडिया और वित्त मंत्रालय कमेटी की रिपोर्ट पर जल्द चर्चा करेगें। इसके बाद प्रधानमंत्री से बातचीत करके फैसला लिया जाएगा। लंबे समय से डिजिटल करेंसी को लागू करने के बारे में सरकार और आरबीआई चर्चा कर रहे हैं। इसलिए अब उम्मी है कि जल्द ही इन ई-नोटों को जारी किया जा सकता है। समिति का कहना है कि डिजिटल करेंसी से मॉनिटरी पॉलिसी का पालन आसान होगा।

 

बदल जाएंगे लेन-देन के तौर तरीके

यह डिजिटल कैश होता है, जो अापके पर्स और वॉलेट में तो रहता है लेकिन अापके हाथों में नहीं आता। यह नोट और करेंसी रिजर्व बैंक ही जारी करेगा और इस पर पूरा कंट्रोल आरबीआई का होगा। यह उन्हीं नियमों के दायरे में आएगी जो अभी नोटों और सिक्कों पर लागू होते हैं। अगर यह करेंसी चलन में आती है तो लेन-देन के तरीकों में भी बदलाव आएगा। इससे काले धन पर भी लगाम लगने की उम्मीद है। इसमें डिजिटल लेजर टेक्नोलॉजी (DLT) का इस्तेमाल हो सकता है जिससे विदेश में इस धन के लेन-देन का पता लगाने में आसानी हो।

 

आगे पढ़ें- बिटकॉइन को अपराध मानने की मांग

 

 

बिटकॉइन रखने को आर्थिक अपराध माना जाएगा

कमेटी ने अपनी रिपोर्ट में यह भी कहा है कि बिटकाॅइन जैसी क्रिप्टो करेंसी (Crypto Currency) रखना आर्थिक अपराध माना जाना चाहिए। दरअसल क्रिप्टो करेंसी या वर्चुअल करेंसी (Virtual Currency) किसी कीमत का डिजिटल रिप्रेजेंटेशन होती है। इसे कोई केंद्रीय बैंकऋण संस्था या कोई ई-पैसा संस्थान जारी नहीं करता है। इस लिहाज से वर्चुअल करेंसी एक तरीके का अनियंत्रित डिजिटल धन होता हैजिसे इसे बनाने वाले ही जारी करते हैं और नियंत्रित करते हैं। यह सिर्फ उस वर्चुअल कम्युनिटी के सदस्यों के बीच ही इस्तेमाल किया जा सकता है। यह किसी देश के कानून के दायरे में नहीं आता लिहाजा कोई फ्रॉड होने के मामले में आप बैंक से मदद नहीं मांग सकते हैं। ऐसे में यह करेंसी काफी खतरनाक बन जाती है।

 

आगे पढ़ेंमूल्यहीन हो रहा बिटकॉइन

 

मूल्यहीन हो रहा बिटकॉइन

फिलहाल एक बिटकॉइन की कीमत 2.71 लाख रुपए के बराबर है। एक साल पहले तक बिटकॉइन के समर्थकों को लगता था कि एक बिटकॉइन की कीमत दस लाख डाॅलर यानी करोड़ रुपए तक पहुंच जाएगी। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। बल्कि बिटकॉइन की कीमत में 80 फीसदी तक गिरावट आ गई है। बाजार विश्लेषकों का कहना है कि जल्द ही बिटकॉइन की कीमत शून्य भी हो सकती है।

 

 

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट